scriptRailways Will start bags on wheels service soon,know how will it work | Railway का बड़ा ऐलान! यात्रियों को लगेज उठाने से मिलेगा छुटकारा, घर से लेकर कोच तक पहुंचाएगा सामान | Patrika News

Railway का बड़ा ऐलान! यात्रियों को लगेज उठाने से मिलेगा छुटकारा, घर से लेकर कोच तक पहुंचाएगा सामान

  • Railway's Bags On Wheels Service : उत्तर रेलवे के दिल्ली मंडल की ओर से बैग्स ऑन व्हील्स सेवा की शुरुआत की जा रही है
  • इसमें रेलवे की ओर से ठेके पर काम करने वाले आपके घर से लगेज लेकर कोच तक उसे सुरक्षित पहुंचा देंगे

नई दिल्ली

Published: October 22, 2020 05:48:10 pm

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे (Indian Railways) लगातार यात्रियों की सहूलियत के लिए नई-नई सर्विस लांच कर रहा है। इसी कड़ी में बहुत जल्द अब एक और नई सर्विस जुड़ने वाली है। जिसका नाम बैग्स ऑन व्हील्स (Bags On The Wheels Service) है। इसके तहत रेलवे, यात्रियों के घरों से उनका सामान लेकर ट्रेन की कोच तक सुरक्षित पहुंचाने का काम करेगा। उत्तर रेलवे के दिल्ली मंडल ने इस योजना को शुरू करने का ऐलान किया है। शुरुआती दौर में यह डोर टू डोर सेवा नई दिल्ली, दिल्ली जं0,हज़रत निज़ामुद्दीन, दिल्ली छावनी,दिल्ली सराय रोहिल्ला, गाज़ियाबाद और गुड़गांव रेलवे स्टेशनों के लिए उपलब्ध कराई जाएगी।
railway1.jpg
Railways Bags On Wheels Service
उत्तर रेलवे के दिल्ली मंडल की ओर से इस सर्विस को शुरू करने का मकसद राजस्व कमाई को बढ़ाना है। भारतीय रेलवे के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा जब वह यात्रियों को इस तरह की सेवा मुहैया कराएगा। इसके लिए पैसेंजर्स को बीओडब्ल्यू ऐप डाउनलोड करना होगा। ये ऐप एंड्रॉयड और आई फ़ोन दोनों में डाउनलोड किया जा सकेगा। आप अपने मोबाइल फोन में महज एक बटन दबाते ही इस सर्विस का लाभ ले सकेंगे।
ऐप कैसे करेगा काम
रेलयात्री बीओडब्ल्यू ऐप के जरिए अपने सामान को घर से रेलवे स्टेशन तक लाने या रेलवे स्टेशन से घर तक पहुंचाने के लिए आवेदन कर सकेंगे। इसके लिए उन्हें ऐप पर अपने आने या जाने की तारीख एवं समय के अनुसार बुकिंग करानी होगी। इसके बाद रेलवे की ओर से इस काम के लिए चुने गए ठेकेदार सुरक्षित तरीके से आपके घर से आपका लगेज ले जाएंगे और ट्रेन के छूटने से पहले आपको सुरक्षित तरीके से आपका सामान उपलब्ध करा देंगे। ऐसी सर्विस आप स्टेशन से अपने घर के लिए भी ले सकते हैं।
इन्हें होगा जयादा फायदा
उत्तर रेलवे का कहना है कि इस सेवा का लाभ सबसे ज्यादा वरिष्ठ नागरिकों, दिव्यांग जनों और अकेले यात्रा कर रही महिला पैसेंजर्स को होगा। क्योंकि सामान ज्यादा होने की वजह से उन्हें सफर करने और स्टेशन तक पहुंचने में काफी दिक्कतें होती हैं। इस कारण कई बार ट्रेन के छूटने का भी डर रहता है। मगर रेलवे की नई सर्विस से उन्हें लगेज कैरी करने के झंझट से छुटकारा मिलेगा। इसके लिए उन्हें मामूली शुल्क का भुगतान करना होगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

'हर घर तिरंगा' अभियान में शामिल हुई PM नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, बच्‍चों के संग फहराया राष्‍ट्रीय ध्‍वज7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नामबिहारः सत्ता गंवाते ही NDA के 3 सांसद पाला बदलने को तैयार, महागठबंधन में शामिल होने की चल रही चर्चा'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्वप्रियंका के बाद अब सोनिया गांधी भी दोबारा हुईं कोरोना पॉजिटिव, तेजस्वी यादव ने कल ही की थी मुलाकातजम्मू कश्मीर में टेरर लिंक मामले में बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार सरकारी कर्मचारी बर्खास्त2009 में UPSC किया टॉप, 2019 में राजनीति के लिए नौकरी छोड़ी, अब 2022 में फिर कैसे IAS बने शाह फैसल?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.