Railway का बड़ा ऐलान! यात्रियों को लगेज उठाने से मिलेगा छुटकारा, घर से लेकर कोच तक पहुंचाएगा सामान

  • Railway's Bags On Wheels Service : उत्तर रेलवे के दिल्ली मंडल की ओर से बैग्स ऑन व्हील्स सेवा की शुरुआत की जा रही है
  • इसमें रेलवे की ओर से ठेके पर काम करने वाले आपके घर से लगेज लेकर कोच तक उसे सुरक्षित पहुंचा देंगे

By: Soma Roy

Published: 22 Oct 2020, 05:48 PM IST

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे (Indian Railways) लगातार यात्रियों की सहूलियत के लिए नई-नई सर्विस लांच कर रहा है। इसी कड़ी में बहुत जल्द अब एक और नई सर्विस जुड़ने वाली है। जिसका नाम बैग्स ऑन व्हील्स (Bags On The Wheels Service) है। इसके तहत रेलवे, यात्रियों के घरों से उनका सामान लेकर ट्रेन की कोच तक सुरक्षित पहुंचाने का काम करेगा। उत्तर रेलवे के दिल्ली मंडल ने इस योजना को शुरू करने का ऐलान किया है। शुरुआती दौर में यह डोर टू डोर सेवा नई दिल्ली, दिल्ली जं0,हज़रत निज़ामुद्दीन, दिल्ली छावनी,दिल्ली सराय रोहिल्ला, गाज़ियाबाद और गुड़गांव रेलवे स्टेशनों के लिए उपलब्ध कराई जाएगी।

उत्तर रेलवे के दिल्ली मंडल की ओर से इस सर्विस को शुरू करने का मकसद राजस्व कमाई को बढ़ाना है। भारतीय रेलवे के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा जब वह यात्रियों को इस तरह की सेवा मुहैया कराएगा। इसके लिए पैसेंजर्स को बीओडब्ल्यू ऐप डाउनलोड करना होगा। ये ऐप एंड्रॉयड और आई फ़ोन दोनों में डाउनलोड किया जा सकेगा। आप अपने मोबाइल फोन में महज एक बटन दबाते ही इस सर्विस का लाभ ले सकेंगे।

ऐप कैसे करेगा काम
रेलयात्री बीओडब्ल्यू ऐप के जरिए अपने सामान को घर से रेलवे स्टेशन तक लाने या रेलवे स्टेशन से घर तक पहुंचाने के लिए आवेदन कर सकेंगे। इसके लिए उन्हें ऐप पर अपने आने या जाने की तारीख एवं समय के अनुसार बुकिंग करानी होगी। इसके बाद रेलवे की ओर से इस काम के लिए चुने गए ठेकेदार सुरक्षित तरीके से आपके घर से आपका लगेज ले जाएंगे और ट्रेन के छूटने से पहले आपको सुरक्षित तरीके से आपका सामान उपलब्ध करा देंगे। ऐसी सर्विस आप स्टेशन से अपने घर के लिए भी ले सकते हैं।

इन्हें होगा जयादा फायदा
उत्तर रेलवे का कहना है कि इस सेवा का लाभ सबसे ज्यादा वरिष्ठ नागरिकों, दिव्यांग जनों और अकेले यात्रा कर रही महिला पैसेंजर्स को होगा। क्योंकि सामान ज्यादा होने की वजह से उन्हें सफर करने और स्टेशन तक पहुंचने में काफी दिक्कतें होती हैं। इस कारण कई बार ट्रेन के छूटने का भी डर रहता है। मगर रेलवे की नई सर्विस से उन्हें लगेज कैरी करने के झंझट से छुटकारा मिलेगा। इसके लिए उन्हें मामूली शुल्क का भुगतान करना होगा।

Show More
Soma Roy Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned