वैज्ञानिकों को मिली बड़ी सफलता, जानिए कैसे कोशिकाओं को मूर्ख बनाता है Corona, हुआ बड़ा खुलासा

Hilghlights
- कोरोना महामारी (Coronavirus Outbreak) की जंग से लड़ने के लिए देशभर के वैज्ञानिक लगातार कोशिश कर रहे हैं
- हर रोज वैक्सीन (Coronavirus vaccine) को लेकर नए शोध किए जा रहे हैं
- इस बीच भारतीय वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन करते हुए बड़ा निष्कर्ष निकाला है, यह निष्कर्ष नेचर कम्युनिकेशंस जनरल (Nature Communications General) में प्रकाशित हुई है

नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर लगातार जारी है। देश में कोरोना संक्रमित (Corona infected) की संख्या 14 लाख के पार हो चुकी है। आंकड़ों के मुताबिक रविवार को एक दिन में 50,000 से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव (Corona positive) के मरीज देश में मिले हैं। देश में तेजी से कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। कोरोना महामारी (Coronavirus Outbreak) की जंग से लड़ने के लिए देशभर के वैज्ञानिक लगातार कोशिश कर रहे हैं। हर रोज वैक्सीन (Coronavirus vaccine) को लेकर नए शोध किए जा रहे हैं। इस बीच भारतीय वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन करते हुए बड़ा निष्कर्ष निकाला है। यह निष्कर्ष नेचर कम्युनिकेशंस जनरल (Nature Communications General) में प्रकाशित हुई है।

इसके मुताबिक अणु एनएसपी10 (Nsp 10) मेजबान कोशिका के एमआरएनए (MRNA) की नकल करने के लिए विषाणुजनित एमआरएनए में बदलाव करता है। यानी मॉलिक्यूल एनएसपी10 (molecule nsp10) वायरस के एमआरएनए (MRNA) को बदलकर उसे संक्रमित कोशिका के एमआरएनए (MRNA of infected cell) जैसा बना देता है। वहीं अमेरिका (America) के सैन एंटोनियो (San antonio) में द यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास हेल्थ साइंस सेंटर (The University of Texas Health Science Center) के शोधकर्ताओं ने कहा कि यह बदलाव एनएसपी10 (Nsp 10) विषाणुओं को मेजबान कोशिका की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया से बचाता है।

यूटी हेल्थ सेन एंटोनियो (UT Health San Antonio) से अध्ययन के सह-लेखक एवं भारतीय मूल के वैज्ञानिक योगेश गुप्ता (Yogesh Gupta) के अनुसार कोशिकाओं को भ्रमित करने वाले इन बदलावों की वजह से विषाणुजनित संदेशवाहक आरएनए अब इसे कोशिका के अपने कूट का हिस्सा समझता है, बाहरी नहीं। योगेश गुप्ता ने कहा, 'यह एक ठगी जैसा है। वायरस इस बदलाव के जरिये कोशिकाओं को मूर्ख बना देता है।'

नई दवाईयां तैयार करने का खुला रास्ता

अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक एनएसपी16 की थ्रीडी संरचना को समझने से नए कोरोना वायरस सार्स-सीओवी-2 (SARS-COV-2) और अन्य उभर रहे कोरोना वायरस संक्रमणों (Corona virus infections) के खिलाफ नई औषधि को तैयार करने का रास्ता खुल सकता है।

जल्दी ही नई दवा होगी तैयार

उन्होंने कहा कि यह दवाएं इस तरह तैयार की जा सकती हैं जो एनएसपी16 को बदलाव करने से रोकें जिससे मेजबान कोशिका का प्रतिरोधी तंत्र बाहरी विषाणु की पहचान कर उनपर आक्रमण करें।

Ruchi Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned