साल के पहले एनकाउंटर में सेना को बड़ी कामयाबी, त्राल में मारे गए जैश और हिजबुल के 3 आतंकी

मारे गए तीनों आतंकियों की पहचान जुबैर अहमद उर्फ अबू हुरैरा, शकूर अहमद और तौसीफ अहमद के रूप में हुई है।

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में पिछले कई घंटों से चल रहा एनकाउंटर खत्म हो गया है। आखिरकार भारतीय सेना को इस एनकाउंटर में बड़ी कामयाबी मिली है। त्राल के गुलशनपोरा इलाके में हुए इस एनकाउंटर में तीन आतंकियों को सेना ने मार गिराया है। 2019 के शुरुआत में ही सेना को ये बड़ी कामयाबी मिली है।

एनकाउंटर में एक जवान भी घायल

सुरक्षाबलों को आतंकियों के पास से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद भी बरामद हुआ है। बताया ये भी जा रहा है कि मारे गए आतंकी हिजबुल मुजाहिद्दीन से जुड़े हुए थे। इस एनकाउंटर में सेना का एक जवान भी घायल हुआ है, जिसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है।

सुबह से ही चल रहा था एनकाउंटर

आपको बता दें कि बुधवार सुबह सुरक्षाबलों को त्राल इलाके में 2-3 आतंकियों के छिपे होने की जानकारी मिली थी। इसके बाद पुलिस और सेना ने एक जॉइंट ऑपरेशन चलाया। आतंकियों की घेराबंदी के बाद दोनों तरफ से फायरिंग होनी लगी और घंटों चले इस एनकाउंटर में छिपे हुए तीनों आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया गया।

हिजबुल और जैश के थे मारे गए आतंकी

मारे गए आतंकियों की पहचान हिजबुल मुजाहिद्दीन के जुबैर अहमद उर्फ अबू हुरैरा, शकूर अहमद और तौसीफ अहमद के रूप में हुई है। पुलिस रिकॉर्ड के मुताबिक, जुबैर जैश ए मोहम्मद से जुड़ा हुआ है और तौसीफ और शकूर हिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकी थे।

10 दिनों से पुलवामा में आए दिन हो रहे हैं एनकाउंटर

आपको बता दें कि पुलवामा में पिछले करीब 10 दिनों से आए दिन सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच एनकाउंटर हो रहे हैं। यहां पर 28 दिसंबर को सुरक्षाबलों ने लश्‍कर के एक आतंकी को ढेर किया था तो इसके अगले ही दिन चार आतंकी मारे गए थे। इससे पहले 22 दिसंबर को पुलवामा में छह आतंकी मारे गए थे जो कि जाकिर मूसा के संगठन अंसार गजवात-उल-हिंद से जुड़े थे।

Pulwama
Show More
Kapil Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned