एक साल के भीतर खत्म होंगे टोल प्लाजा, जीपीएस से कटेगा टोल टैक्स

- डेली टोल कलेक्शन 100 करोड़ रुपए से भी अधिक हो गया है
- 2.8 करोड़ से अधिक गाडिय़ों में फास्टैग लगाए गए हैं
- केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने किया व्हीकल स्क्रैपेज पॉलिसी ऐलान

नई दिल्ली। आपके सफर में फास्टैग Fastag के बाद अब एक नई क्रांति आने वाली है। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी Nitin Gadkari ने गुरुवार को टोल प्लाजा को लेकर बड़ा ऐलान किया है। लोकसभा में नितिन गडकरी ने कहा कि अगले एक साल में देश से सभी टोल प्लाजा खत्म कर दिए जाएंगे। हालांकि इसका यह मतलब नहीं होगा कि टोल देना ही नहीं पड़ेगा। अब गाडिय़ों में जीपीएस सिस्टम लगाया जाएगा जिसकी मदद से टोल शुल्क का भुगतान हो सकेगा।

यह भी पढ़ें - कार में नहीं लगा है FASTag तो टोल प्लाजा पर देना होगा डबल चार्ज

टेक्नोलॉजी की मदद से लोगों को उतना ही टोल चुकाना होगा, जितना वो सड़कपर चलेंगे। विशाखापट्टनम-रायपुर ग्रीन हाइवे को मंजूरी... गडकरी ने बताया कि रायपुर से विशाखापट्टनम के बीच ग्रीन हाइवे को मंजूरी दी गई है। करीब डेढ़ साल में काम पूरा होने की संभावना है। गडकरी ने कहा कि 90 फीसदी जमीन अधिग्रहण किए बिना हम परियोजना आवंटित नहीं करते।

अब ऐसे होगी टोल की व्यवस्था -
गडकरी ने कहा कि टोल खत्म करने का मतलब टोल प्लाजा खत्म करने से है। अब आप हाइवे पर जहां से चढ़ेगे, वहां जीपीएस कैमरा फोटो लेगा और जहां आप हाइवे से उतरेंगे वहां की फोटो लेगा, इस तरह उतनी ही दूरी का टोल चुकाना होगा। अभी अगर इन टोल प्लाजा को निकालने जाएंगे तो सड़क बनाने वाली कंपनी मुआवजा मांगेगी। अगले एक साल में देश में सारे टोल खत्म करने की योजना है।

पुराने वाहनों में मुफ्त लगाएंगे जीपीएस -
एक सवाल के जवाब में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि नए वाहनों में जीपीएस निर्माता कंपनी की ओर से लगाकर दिया जा रहा है। पुराने वाहनों में जीपीएस की समस्या है। टोल टैक्स कलेक्शन के नए सिस्टम के लिए सरकार की ओर से पुराने वाहनों में मुफ्त जीपीएस लगवाया जाएगा।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned