scriptWomen's Day 2021: Ekta Kapoor tells girls that If you search in the world, you will find nothing | Women's Day 2021 पर लड़कियों से बोलीं एकता कपूर, 'दुनिया में तलाशेंगे तो कुछ नहीं मिलेगा' | Patrika News

Women's Day 2021 पर लड़कियों से बोलीं एकता कपूर, 'दुनिया में तलाशेंगे तो कुछ नहीं मिलेगा'

locationनई दिल्लीPublished: Mar 08, 2021 09:19:35 pm

  • महिला दिवस पर बॉलीवुड फिल्म निर्माता और निर्देशक एकता कपूर की लड़कियों को सीख।
  • पत्रिका कीनोट सलोन में बोलीं एकता कपूर कि लड़कियों को सोचने की आजादी देनी होगी।

Women's Day 2021: Ekta Kapoor tells girls that If you search in the world, you will find nothing
Women's Day 2021: Ekta Kapoor tells girls that If you search in the world, you will find nothing
जयपुर। देश की मशहूर निर्माता-निर्देशक एकता कपूर ने महिला दिवस के मौके पर पत्रिका कीनोट सलोन में कहा कि आज की लड़कियों को समझना चाहिए कि उन्हें किसी की भी जरूरत नहीं है। आज के वक्त में जरूरत और साथ में अंतर समझना चाहिए। लड़कियों को केवल साथ चाहिए। अगर आगे जाना है तो लड़कियों को एक बात समझनी होगी कि खुद में अपने आप को तलाशेंगे तो पूरी दुनिया मिल जाएगी, लेकिन दुनिया में खुद को तलाशेंगे तो कुछ नहीं मिलेगा।
एकता कपूर पत्रिका कीनोट सलोन में सवालों के जवाब दे रही थीं। शो के मॉडरेटर पत्रिका के शैलेंद्र तिवारी एवं एफएम तड़का के आरजे सूफी रहे। एकता कपूर ने एक सवाल के जवाब में कहा, शादी आपको कब करनी चाहिए, यह निर्णय लड़की का होना चाहिए। उसे जब लगे कि वह तैयार है, उसे आजादी होनी चाहिए। लड़की के जीवन में शादी होना न होना, करना न करना, यह उसका निर्णय होना चाहिए। उन्होंने कहा कि वर्किंग लड़कियां हों या फिर घर में रहने वाली लड़की, सबका संघर्ष बराबर है।
पुरुषों के मुकाबले महिला ज्यादा बेहतर बॉस

फीमेल बॉस के सवाल पर एकता ने कहा, आपको अग्रेसिव होने का अधिकार नहीं है। गुस्सा, तेज बोलना मेल बॉस पर ठीक लगता है, लेकिन अगर यह लड़की कर दे तो उसे पागल, ऐंठ, घमंडी और 'बेवकूफ' कहा जाता है। महिला बॉस हमेशा अपने दूसरे कर्मचारियों के बारे में सोचती हैं।
ओटीटी के लिए हो लक्ष्मण रेखा

एकता ने कहा कि ओटीटी के लिए कहीं न कहीं लक्ष्मण रेखा होनी चाहिए। लेकिन कौन तय करेगा, किसकी कहां तक लक्ष्मण रेखा है। सामाजिक सीमा होती है, व्यक्तिगत सीमा होती है। आपको अपनी सीमा खुद तय करनी होगी, दूसरे तय नहीं करेंगे। आपको अच्छा और बुरा तय करने का हक है। रेगुलेशन जरूरी होते हैं, लेकिन सेल्फ रेगुलेशन होगा तो ज्यादा बेहतर होगा। इंडस्ट्री में बोर्ड बनाकर भी हम तय कर सकते हैं।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

आफताब 1 दिसम्बर को उगलेगा सच, नार्को टेस्ट के लिए दिल्ली पुलिस को मिली मंजूरी'द कश्मीर फाइल्स' को IFFI ज्यूरी ने बताया 'वल्गर प्रोपगंडा', अनुपम खेर ने कहा-' शर्मनाक'सोनिया गांधी के कहने पर कांग्रेस अध्यक्ष खरगे ने पीएम मोदी को कहा रावण : संबित पात्राबीसीसीआई का बड़ा एक्शन!, टीम इंडिया के सीनियर खिलाड़ियों की टी20 से होगी छुट्‌टीनवजोत सिंह सिद्धू को मिलेगी बड़ी राहत! जल्द मिल सकती है जेल से रिहाईआफताब की वैन पर हमले के 2 आरोपी 14 दिन की न्यायिक हिरासत मेंVideo: जानिए कैसे और क्यों बढ़ रही सरकार व सुप्रीम कोर्ट की तनातनीगुजरात में आज शाम थम जाएगा पहले चरण का चुनाव प्रचार, बीजेपी और आप की ताबड़तोड़ रैलियां
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.