Lockdown 4.0: ईद से पहले मजदूरों को 60 दिन बाद घर के लिए मिली सीट तो खिल उठे चेहरे

Highlights
-प्रवासी मजदूरों और कामगारों को लगातार ट्रेनों से भेजा जा रहा है
-इससे पहले भी बिहार के अलावा जम्मू-कश्मीर के श्रमिक भेजे गए थे
-रेल अधिकारियों द्वारा श्रमिकों को भोजन के पैकेट भी उपलब्ध करवाए गए
-स्वास्थ्य परीक्षण के बाद 1584 श्रमिकों को भेजा गया उनके गृह राज्य

By: jai prakash

Published: 23 May 2020, 06:21 PM IST

मुरादाबाद: लॉक डाउन (Lockdown) के चलते बड़ी संख्या में जनपद में बिहार और अन्य राज्यों के मजदूर (Migrate Labour) फंस गए थे। जो लगातार प्रशासन ने उनको गृह जनपद भेजने की मांग कर रहे थे। सरकार द्वारा श्रमिकों के लिए विशेष ट्रेनें (Special Train) चलाने के बाद जनपद से लगातार श्रमिकों को उनके गृह राज्य तक भेजा जा रहा है। इसी के तहत आज रेलवे स्टेशन से प्रवासी श्रमिकों को लेकर स्पेशल ट्रेन बिहार (Bihar) के लिए रवाना हुई। पुलिस प्रशासन और रेलवे अधिकारियों (Railway Officers) की मौजूदगी में 1584 मजदूर सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का पालन करते हुए अपने घरों के लिए रवाना हुए। मजदूरों को रेलवे स्टेशन पर खाने के पैकेट भी दिए गए। मजदूरों को रवाना करने के लिए डीएम राकेश कुमार सिंह और एसएसपी अमित पाठक भी रेलवे स्टेशन पहुंचे।

लॉकडाउन के दौरान साइबर ठगी के शिकार हो रहे लोग, फोन रिसीव करते ही लग रहा बड़ा झटका
लॉक डाउन के चलते फंसे हुए थे
लॉकडाउन के चलते प्रवासी मजदूर और छात्र (Student) बड़ी संख्या में मुरादाबाद जनपद में फंसे हुए थे, जिन्हें अब रेलवे की मदद से उनके घर तक भेजा जा रहा है। मुरादाबाद जनपद से आज पंद्रह सौ चौरासी मजदूरों को लेकर श्रमिक स्पेशल ट्रेन बिहार के पूर्णिया जनपद के लिए रवाना हुई। घर वापसी के लिए रेजिस्ट्रेशन कराने वाले मजदूरों को पहले उनके नजदीकी जांच केंद्रों पर बुलाया गया जहां उनके दस्तावेजों की जांच के साथ स्वास्थ्य परीक्षण (Health Chekup) किया गया। यात्रियों को ट्रेन के टिकट (Train Ticket) देने के बाद उनको बसों से रेलवे स्टेशन लाया गया जहां दुबारा स्वास्थ्य जांच की गई। सामाजिक ड्यूरी के नियम का पालन करते हुए सभी प्रवासी मजदूरों और मदरसा छात्रों को ट्रेन में बिठाया गया। इस दौरान पुलिस प्रशासन और रेलवे के अधिकारी लगातार व्यवस्थाओं का जायजा लेते रहें। ट्रैन केजरिए वापास जाने वाले मजदूरों ने सरकार के इस फैसले की सराहना की। मजदूरों के मुताबिक लम्बे समय से बेरोजगारी की हालत में रहने के चलते अब उनके पास खाने-पीने के सामान की कमी होने लगी थी।

प्रवासी मजदूरों को लेकर Railway Station पहुंची Special Train, दिखा त्योहार जैसा नजारा

सरकार को दिया धन्यवाद
प्रवासी मजदूरों में बड़ी संख्या में बिहार और झारखंड के रहने वाले प्रवासी मजदूर आज वापस लौटे। इस दौरान घर जाने की खुशी सभी के चेहरे पर नजर आ रहीं थी। प्रशासन द्वारा मजदूरों को रास्ते के लिये खाने के पैकेट भी मुहैया कराए गए है। प्रशासनिक अधिकारियों के मुताबिक जनपद ने ठहरे सभी प्रवासी मजदूरों को जल्द ही उनके घरों तक पहुंचाया जाएगा और सम्बंधित राज्य सरकारों से इस बारे में बातचीत जारी है। मजदूरों को वापस भेजते समय कोरोना संक्रमण रोकने की सभी गाइड लाइनों का पालन किया गया। बिहार निवासी निजामुद्दीन ने बताया कि वो बहुत खुश है कि सरकार ने उसे ईद से पहले घर भेजने का इंतजाम किया है। उसकी तरह और भी मजदूर बेहद खुश नजर आए।

Show More
jai prakash Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned