इरडा डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया के लिए लेकर आ रहा है इंश्योरेंस कवर, जानिए खास बातें

  • इरडा की ओर से जारी किया है ड्राफ्ट पेपर, 27 नवंबर तक मांगे हैं सुझाव
  • 10 हजार से 2 लाख रुपए तक हो सकती बीमित राशि, मिलेंगी कई सुविधाएं

By: Saurabh Sharma

Updated: 18 Nov 2020, 03:07 PM IST

नई दिल्ली। पॉलिसीधारकों के लिए कई बीमा कंपनियों द्वारा पेश किए गए एक ही उत्पाद को समझना आसान बनाने के लिए इंश्योरेंस रेगुलेटरी डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया मानकीकृत स्वास्थ्य और जीवन बीमा कवर के लिए दिशानिर्देश जारी कर रहा है। इरडा ने इस मानक नीति पर सुझाव देने के लिए कहा है। यदि आपके पास कोई सुझाव है, तो आप 27 नवंबर, 2020 तक [email protected] पर लिख सकते हैं।

जल्द ही अब आप सामान्य बुनियादी सुविधाओं के साथ एक स्टैंडर्ड बीमा कवर खरीद पाएंगे। डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसी वेक्टर जनित बीमारियों के दौरान अस्पताल का खर्च भी कवर करेगा। इसके लिए इरडा की ओर से एक ड्राफ्ट पेपर जारी किया है, जिसमें बताया गया है कि इस तरह की पॉलिसी कैसी होगी। यह स्टैंडर्ड प्रोडक्ट आरोग्य संजीवनी की तर्ज पर होगा, जो इस साल की शुरुआत में शुरू की गई एक स्टैंडर्ड हेल्थ पॉलिसी है। कोरोना कवच और रक्षक, जो स्टैंडर्ड कोविड 19 विशिष्ट कवर और सराल जीवन बीमा, यूनीफॉर्म जीवन बीमा पॉलिसी अन्य उदाहरण हैं।

यह भी पढ़ेंः- 2500 करोड़ का ऐलानी डोज भी लक्ष्मी विलास बैंक को नहीं दे सका बूस्टर

जैसा कि नाम से पता चलता है, वेक्टर-जनित बीमारियां उन बीमारियों का उल्लेख करती हैं जो मच्छरों और परजीवियों से फैलती हैं। कई बीमा कंपनियां पहले से ही रोग-विशिष्ट वेक्टर-जनित बीमारियों की पेशकश करती हैं। लेकिन विभिन्न कंपनियों की पॉलिसीज में अलग-अलग प्रोडक्ट की अपनी विशेषताएं और शर्तें हैं। रडा का स्टैंडर्ड प्रोडक्ट उनके मौजूदा उत्पादों के अलावा सभी स्वास्थ्य और सामान्य बीमाकर्ताओं द्वारा पेश किया जाएगा। सुविधाएं आम होंगी, लेकिन प्रीमियम बीमा कंपनी द्वारा निर्धारित किया जाएगा। इंश्योरेंस रेगुलेटर का प्रस्ताव भौगोलिक स्थिति या जोन आधार के पर मूल्य निर्धारण की अनुमति नहीं देता है।

इरडा के ड्राफ्ट में दिए दिशा निर्देशों के अनुसार, इस तरह की पॉलिसी में आठ बीमारियों डेंगू बुखार, मलेरिया, फाइलेरिया (लिम्फेटिक फाइलेरियासिस), काला-अजार, चिकनगुनिया, जापानी एन्सेफलाइटिस और जीका वायरस शामिल हैं। प्रोक्ट, जिसे वेक्टर-जनित रोग स्वास्थ्य पॉलिसी कहा जाता है, बीमा कंपनी के नाम से सफल हुआ, इन लिस्टेड बीमारियों में से किसी एक या एक ग्रु को कवर करेगा।

यह भी पढ़ेंः- Gold-Silver Rate : दीपावली के बाद कितना सस्ता हो गया है सोना, चांदी के दाम में भी बड़ी गिरावट

यह एक क्षतिपूर्ति-आधारित पॉलिसी है। यह उन खर्चों की प्रतिपूर्ति करेगा, जो वास्तव में आपकी बीमित राशि तक सीमित हैं। इस मामले में, बीमित राशि 10,000 रुपए से लेकर 2 लाख रुपए तक हो सकती है। संचयी बोनस को छोड़कर, बीमित राशि का 2 फीसदी तक कमरे का किराया, बोर्डिंग और नर्सिंग शुल्क का भुगतान किया जाएगा। बीमा राशि 20,000 रुपए से कम होने की स्थिति में, सब लिमिट 500 रुपए प्रति दिन निर्धारित है।

आईसीयू और आईसीसीयू पर कुल बीमा राशि (संचयी बोनस को छोड़कर) के लिए 5 फीसदी ( 20,000 रुपए से कम है कवर राशि होने 1,000 रुपए प्रतिदिन की दर से ) खर्च होगी। इसलिए, यदि आप एक अस्पताल का कमरा चुनते हैं, जिसका किराया इन सीमाओं से अधिक है, तो आपको अपनी जेब से शेष राशि का भुगतान करना होगा।

चूंकि डॉक्टर की फीस और ऑपरेशन थिएटर की लागत जैसे शुल्क कमरे की श्रेणी से जुड़े होते हैं, इसलिए आपका कुल आउट गो बहुत अधिक होगा। इरडा के ड्राफ्ट में एक वर्ष का कार्यकाल और 15 दिनों का वेटिंग पीरियड प्रस्तावित है। यदि आप पॉलिसी जारी करने से पहले 15 दिनों के दौरान एक लिस्टेड वेक्टर-जनित बीमारी से ग्रस्त हो जाते हैं तो पॉलिसी काम नहीं आएगी।

यह भी पढ़ेंः- करीब दो सप्ताह के बाद फिसलकर खुला बाजार, सेंसेक्स और निफ्टी लाल निशान पर

पॉलिसी को एक व्यक्तिगत या पारिवारिक फ्लोटर कवर के रूप में और समूह प्लेटफार्मों के माध्यम से भी पेश किया जा सकता है, जो नियोक्ता और अन्य संस्थाएं अपने कर्मचारियों और ग्राहकों को कवर करने के लिए उपयोग करती हैं। आप पॉलिसी को उसकी समाप्ति पर नवीनीकृत कर सकते हैं और यदि आप चाहें तो दूसरे बीमाकर्ता के पास भी जा सकते हैं। प्रत्येक क्लेम-फ्री वर्ष के लिए, आप 5 फीसदी का संचयी बोनस अर्जित करते हैं, जो 50 फीसदी तक जा सकता है।

आपके पास मुख्य पॉलिसी के साथ दो वैकल्पिक कवर खरीदने का ऑप्शन होगा। अस्पताल के नकद लाभ, जहां बीमा राशि का 0.5 फीसदी भुगतान किया जाएगा। वहीं एक और एड ऑन पॉलिसी है, इससे उन लोगों को फायदा होगा जो घर पर ही अपने इलाज का खर्च उठाना पड़ता है। उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं होती है।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned