script Big News : राजस्थान से जल्द गायब हो जाएंगे ऊंट, नहीं तो सरकार करें ये काम | Camels will soon disappear from Rajasthan otherwise government should do this | Patrika News

Big News : राजस्थान से जल्द गायब हो जाएंगे ऊंट, नहीं तो सरकार करें ये काम

locationनागौरPublished: Jan 27, 2024 11:37:30 am

Camels Update News : राजस्थान से ऊंट जल्द गायब हो जाएंगे, अगर राजस्थान सरकार ने इस मुद्दे पर गंभीरता न दिखाई। ऊंट को बचाना है तो सरकार को करना होगा ये जरूरी काम।

camel.jpg
Camels Update News
राजस्थान सरकार ने ऊंट पालन पर ध्यान नहीं दिया तो प्रदेश के पर्यटन के साथ ही देश की सुरक्षा में अहम भूमिका निभाने वाले ऊंट गायब हो जाएंगे। पर्यटन के साथ देश के सीमावर्ती रेगिस्तानी क्षेत्रों में पेट्रोलिंग के काम आने वाले ऊंटों का पोषण करना अब ऊंट पालकों पर भारी पड़ने लगा है। ऊंट पालकों का कहना है कि जैसलमेर सहित प्रदेश के कई सीमावर्ती जिलों में पर्यटकों से होने वाली आय में ऊंटों का भी प्रमुख रूप से योगदान रहता है। विशेषकर विदेशी सैलानियों के लिए ऊंट की सवारी करना उनका पसंदीदा शौक रहा है।

क्या कहते हैं पशुपालन वैज्ञानिक

बीकानेर कृषि विश्वविद्यालय के पशुपालन वैज्ञानिक डॉ शंकरलाल ने बताया कि ऊंट का राजस्थान की जैविक विविधता में महत्वपूर्ण योगदान है। यह पर्यटन बढ़ाने के साथ ही देश की सुरक्षा में भी अपनी अहम भूमिका निभाता है। इसके लिए ठोस कदम उठाने होंगे। ऊंट के जन्म पर पर्याप्त मात्रा में प्रोत्साहन राशि मिले तो बेहतर रहेगा।

यह भी पढ़ें

Good News : रेलवे की नई सुविधा, दो स्पेशल ट्रेनें चलेंगी, जानें किन स्टेशनों पर है इनका ठहराव



ऊंटों की घटती संख्या चिंता का विषय

ऊंट पालक पालड़ीजोधा नागौर के निंबाराम ने कहा कि राजस्थान में ऊंटों की घटती संख्या चिंता का विषय है। ऊंटों की संख्या कम हुई है। इसका कारण है कि राज्य सरकार ऊंट पालन प्रोत्साहन योजना को लेकर गंभीर नहीं है।

आजीविका का मुख्य साधन हैं ऊंट

ऊंट पालक, जयपुर बने सिंह देवासी ने बताया कि, ऊंट तो हमारी आजीविका का मुख्य साधन हैं। ऊंटनी का दूध भी औषधीपरक होना वैज्ञानिक अनुसंधान में भी प्रमाणित हो चुका है।

पशु मेलों में ऊंटों का अच्छा - खासा होता था व्यापार

ऊंट पालक, जैसलमेर सुमेरसिंह भाटी ने बताया कि पहले पशु मेलों में ऊंटों का अच्छा.खासा व्यापार होता था। ऊंट बेचने व खरीदने के काम में लगभग साल भर का खर्च निकल जाता था।

यह भी पढ़ें

RLP सुप्रीमो हनुमान बेनीवाल को मिली बड़ी धमकी, कमांडों तैनात, समर्थक चिंतित

ट्रेंडिंग वीडियो