इस गांव में पशुओं के साथ खेला जा रहा था खुनी खेल, हैवानियत जानकर रह जाएंगे दंग

* पशुवध के 5 आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे, ग्रामीणों ने घेरकर दबोचा आरोपियों को.
* खैराभाट गांव में मवेशी को काटकर पकाने की थी तैयारी.

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 04 Aug 2019, 03:48 PM IST

नारायणपुर। छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिला मुख्यालय से लगे खैराभाट गांव में रोज रात को मवेशी गायब होने की घटना सामने आ रही थी जिसे ग्रामीणों ने सुलझा लिया है। परेशान ग्रामीण कई दिनों से इस खेल (Cattle slaughter) को समझ नहीं पा रहे थे लेकिन अंततः इस घिनौने खेल का पर्दाफाश हो गया है। असल में गांव से रोज गायब हो रहे मवेशियों को रोज ग्रामीण खोजने निकलते थे और खाली हाथ घर लौट आते थे।

घर से आ रही थी चीखने की आवाज, पिता दौड़कर पंहुचा घर तो, जीजा कर रहा था नाबालिग के साथ...

ग्रामीणों को हुआ हत्या की आशंका
अन्तः हत्या की आशंका को लेकर ग्रामीणों ने घेराबंदी किया और इस खेल को खेलने वाले 5 लोगों को दबोचा।आरोपियों (Accused) को पकड़ने के बाद इसकी सुचना कोतवाली पुलिस (Chhattisgarh police) को दी गई। इस सुचना के बाद कोतवाली पुलिस ने तत्काल खैराभाट गांव में पहुंचकर मामले की छानबीन करते हुए पशुवध (Accused of Cattle slaughter) के आरोपियों को अपने हिरासत में लेकर मृतक पशु का पोस्टमार्टम करवाया।

ये असरदार घरेलु उपचार आपको दे सकते हैं जोड़ो के दर्द से राहत, जरूर आजमाएं

इसमें पशु चिकित्सक ने मांस बैल के होने की पुष्टी कर दी। इस पर कोतवाली पुलिस ने पशुवध के आरोपियों को हिरासत में लेकर रिपोर्ट दर्ज कर लिया है। जानकारी के अनुसार खैराभाट गांव में पशु हत्या (Murder) कर इसके मांस को काटने की भनक खैराभाट ग्रामीणों को लग गई थी। इस पर खैराभाट के ग्रामीणों ने घेराबंदी कर पशु वध (Accused of Cattle slaughter) कर इसके मांस काट रहे 5 लोगों को पकड़ लिया। इस दौरान करीब 3 लोग भागने में सफल हो गए। लेकिन 5 लोगों को पकड़ने के बाद खैराभाट के ग्रामीणों ने मवेशी की हत्या की आशंका जाहिर करते हुए इस मामले की सूचना कोतवाली पुलिस को दी थी।

हॉस्टल में नाबालिग लड़की कर रही थी उल्टी, अचानक वार्डन ने देख लिया तो खुल गई पोल

इस सुचना के मिलने पर कोतवाली थाना प्रभारी प्रशांत राव अपनी टीम के साथ तत्काल खैराभाट गांव में घटना स्थल पर पहुंचे। जहां पर पशु का वध कर इसके मांस को काट (Crime) लिया गया था। इसको संज्ञान में लेकर थाना प्रभारी ने पशु चिकित्सक के मृत पशु का पोस्टमार्टम करवाया। इसमें बैल का मांस होने की जानकारी सामने आई।

पति को मरा समझकर विधवा की जिंदगी जी रही थी महिला, 11 साल बाद पति जिंदा लौटा तो...

इस पर कोतवाली पुलिस (Chhattisgarh Police) ने अपराध क्रमांक 121-19 के तहत धारा 4 छत्तीसगढ़ कृषक, पशु परिवेक्षक, परीरक्षक अधिनियम 2004, धारा 4 छत्तीसगढ गौवंश वध प्रतिरोष अधिनियम 2004 के मामला पंजीबद्ध कर विवेचना में 5 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इनमें सुनील पोटाई पिता सदउराम, सदउराम पोटाई पिता लखमा, मनील पोटाई पिता सदउराम, बुधराम वड्डे पिता बिट्टा, बुधसन पोटाई शामिल है। इस घटना के दौरान 3 आरोपी भागने में सफ ल हो गए है। इनकी तलाश में पुलिस जुट गई है।

Read More Chhattisgarh Crime News.

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned