scriptIndia response and reasons for its position over Russia-UKraine war | रूस-यूक्रेन के बीच जंग में क्या है भारत का रुख, क्या है डिप्लोमेटिक दुविधा | Patrika News

रूस-यूक्रेन के बीच जंग में क्या है भारत का रुख, क्या है डिप्लोमेटिक दुविधा

रूस और यूक्रेन के बीच जारी जंग पर सभी देशों के अपना रुख स्पष्ट किया है परंतु भारत का रुख अभी भी संतुलित है। आखिर क्या कारण है इसके पीछे?

Updated: February 25, 2022 06:07:05 am

रूस और यूक्रेन में जंग के बीच भारत का स्पष्ट रुख सामने नहीं आया है। जबसे दोनों देशों के बीच तनाव की स्थिति देखने को मिली है भारत का रुख स्वतंत्र और संतुलित ही देखने को मिला है। भारत ने खुलकर दोनों में से किसी को भी खुलकर समर्थन नहीं किया है। जब रूस ने हमले की घोषणा की तब भी यूएन में भारत के शीर्ष राजनयिक ने इसपर केवल खेद जताया और कहा कि स्थिति काफी गंभीर हो चुकी है। इसके बाद ही रूस ने यूक्रेन की राजधानी कीव पर एक के बाद एक धमाके करने शुरू कर दिए। फिर भी भारत की तरफ से शांति की अपील की गई और इस तनाव को खत्म करने की भी अपील सुनाई दी। परंतु सवाल ये है कि भारत के समक्ष कैसी कूटनीतिक दुविधा है? उसका स्पष्ट रुख अभी तक सामने क्यों नहीं आया है? तो चलिए कुछ बिंदुओं में समझते :
India response and reasons for its position over Russia-UKraine war
India response and reasons for its position over Russia-UKraine war
1. पश्चिमी देशों ने रूस के एक्शन को नजरअंदाज किया और फिर इस हमले की निंदा की। जबकि भारत ने तब भी "क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता" का मुद्दा उठाया था।


2. यह भारत की कूटनीतिक दुविधा ही है कि वो खिलकर रूस के खिलाफ नहीं जा सकता। इसके पीछे का कारण रूस के साथ भारत के रणनीतिक संबंधों और सैन्य आपूर्ति के लिए रूस पर भारत की निर्भरता है। भारत का 60-70% सैन्य हार्डवेयर से ही आता है। एक ऐसे समय में भी रूस भारत की मदद के लिए तैयार था जब चीन भारत को आँखें दिखा रहा था। गलवाँ घाटी में भारत और चीनी सेनाओं के बीच गतिरोध देखने को मिला था। जब रूस ने डोनेट्स्क और लुहांस्क को अलगाववादी क्षेत्र घोषित किया था तब भी भारत ने इसकी निंदा नहीं की थी। भारत ने खुद को तटस्थ ही रखा लेकिन अमेरिका के नेतृत्व वाला पश्चिमी गुट ने इसपर आपत्ति जताई थी।
3. संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक में कहा था कि रूस और यूक्रेन की सीमा पर तनाव का बढ़ना गहरी चिंता का विषय है। इन घटनाक्रमों में क्षेत्र की शांति और सुरक्षा पर व्यापक प्रभाव पड़ा है।

यहाँ भारत ने रूस को सांकेतिक शब्दों में पहली बार चेताया था कि रूस के एक्शन से यूक्रेन और रूस दोनों देशों के बीच टेंशन बढ़ेगा।
4. भारत को 20,000 भारतीय छात्रों और नागरिकों की चिंता है, जिनमें से कई यूक्रेन-रूस सीमा के करीब रहते हैं। इनमें से कई छात्र यूक्रेन के मेडिकल कॉलेजों में नामांकित हैं।

भारत लगातार इस चिंता को व्यक्त कर चुका है कि वो भारतीय छात्रों को किसी भी तरह से यूक्रेन से बाहर निकालना चाहता है। इसके बाद यूक्रेन ने भी अपने यहाँ सभी कॉलेजों को आदेश दिया कि वो भारतीय छात्रों के लिए ऑनलाइन क्लाससेस को शुरू करें। इसके साथ ही उसने भारतीय छात्रों को जल्द से जल्द देश छोड़ने के लिए भी कहा था। यूक्रेन के इस कदम से भारत को भी राहत मिली थी।
हालांकि, यूक्रेन का एयरस्पेस बंद होने से अब भारत की चिंता और बढ़ गई है। भारत ने अपने नागरिकों को शांति और धैर्य बनाए रखने को कहा है।
5. भारत बार-बार दोनों पक्षों से एक सौहार्दपूर्ण समाधान तक पहुंचने के लिए राजनयिक प्रयासों को तेज करने के लिए आगाह करता रहा है। भारत के दोनों देशों के साथ संबंध अच्छे होने के कारण वो किसी एक को सही या दूसरे को गलत ठहराने का कोई रिस्क नहीं लेना चाहता है। पश्चिमी देशों ने जंग के लिए रूस को ही दोषी ठहराया है। वहीं, पुतिन इसके नाटो के विस्तार की योजना को दोषी ठहराते आए हैं।

अब जब दोनों देशों के बीच जंग शुरू हो चुकी है तो पूरी दुनिया की निगाहें भारत के रुख पर टिकी हैं। इधर यूक्रेन ने भी भारत से रूस से बातचीत करने की अपील की है। इसके बाद पीएम मोदी ने हाई लेवल की मीटिंग की और अब कहा जा रहा है कि वो आज रात रूसी राष्ट्रपति से बातचीत करेंगे।

यह भी पढ़ें

पीएम मोदी आज रात कर सकते हैं रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बात- सूत्र

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Hyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करारकांग्रेस के चिंतन शिविर को प्रशांत किशोर ने बताया फेल, कहा- कुछ हासिल नहीं होगाउड़ान भरते ही बीच हवा में बंद हो गया Air India प्लेन का इंजन, पायलट को करानी पड़ी इमरजेंसी लैंडिंगBJP राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक: PM नरेंद्र मोदी ने दिया 'जीत का मंत्र', जानें प्रधानमंत्री के संबोधन की बड़ी बातेंबिहार में बारिश व वज्रपात से 37 लोगों की मौत, जानिए बिहार में क्यों गिरती है इतनी आकाशीय बिजली?Pegasus Spyware Case: सुप्रीम कोर्ट ने जांच समिति का कार्यकाल 4 हफ्ते बढ़ाया, अब जुलाई में होगी सुनवाईबताओ सरकार : होटल वाले कैसे कर लेते हैं बाघ दिखाने का प्रबंध, High Court का सवालएक फोन कॉल से खत्म हो गया 13 साल पुराना रिश्ता, छत्तीसगढ़ में ट्रिपल तलाक का मामला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.