scriptInsurance company will not able to reject mediclaim after insuring kno | Supreme Court: बीमा करने के बाद मेडिक्लेम खारिज नहीं कर पाएगी बीमा कंपनी, जानें क्या है पूरा मामला | Patrika News

Supreme Court: बीमा करने के बाद मेडिक्लेम खारिज नहीं कर पाएगी बीमा कंपनी, जानें क्या है पूरा मामला

सुप्रीम कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी देकर किसी बहाने से क्लेम को रिजेक्ट करना, अब ऐसा नहीं चल पाएगा। इससे हेल्थ इंश्योरेंस क्लेम के दावे को लेकर लोगों की परेशानी कम होगी।

नई दिल्ली

Updated: December 29, 2021 02:50:00 pm

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एक बार बीमा करने के बाद बीमा कंपनी प्रपोजल फॉर्म में बताई गई व्यक्ति की मौजूदा मेडिकल कंडीशन का हवाला देकर क्लेम देने से मना नहीं कर सकती है। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस बी. वी. नागरत्ना की पीठ ने कहा, बीमा लेने वाले व्यक्ति का यह प्रथम कर्तव्य है कि वह अपनी जानकारी के मुताबिक सभी फैक्ट को बीमा कंपनी को बताएं। यह माना जाता है कि बीमा लेने वाला व्यक्ति प्रस्तावित बीमा से जुड़े सभी तथ्यों को जानता और समझता है, तभी वह बीमा लेता है।

sc.jpg

दोनों जजों के पीठ ने कहा एक बार बीमा धारक की स्वास्थ्य की आकलन करने के बाद पॉलिसी जारी कर दी जाती है तो , तो बीमा कर्ता वर्तमान स्थिति का हवाला देकर दावे को रिजेक्ट नहीं कर सकता है। जिसे बीमा धारक ने प्रपोजल फॉर्म में पहले ही बताया था।

जानिए, क्या है पूरा मामला
मनमोहन नंदा द्वारा राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग के एक फैसले के खिलाफ दायर की गई अपील पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रही थी। अमेरिका में हुए स्वास्थ्य खर्च के लिए क्लेम करने के संबंध में उनके आवेदन को खारिज कर दिया गया था। इसके बाद अपील करने वाले ने बीमा कर्ता से इलाज पर हुए खर्च का पैसा मांगा| जिसे यह कहते हुए खारिज कर दिया गया था की अपील कर्ता को हाइपरलिपिडेमिया और डायबिटीज थी| जिसका खुलासा बीमा पॉलिसी खरीदते समय नहीं किया गया था।

यह भी पढ़ें : सावधान! एक जनवरी से बदल जाएंगे बैंक लॉकर के नियम, जानिए क्या हैं नए बदलाव



इस पर शीर्ष अदालत ने कहा कि यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी द्वारा दावे को खारिज करना सरासर गलत है| मेडिकल पॉलिसी खरीदने का उद्देश्य अचानक बीमार पड़ने या बीमारी के संबंध में क्षतिपूर्ति की मांग करना है, जो गलत नहीं होता है और जो देश या विदेश कहीं भी हो सकता है। ऐसे में अपील करता को खर्च की क्षति पूर्ति करना बीमा कर्ता का कर्तव्य बनता है।


यह भी पढ़ें : बिना सहमति किसी महिला को छूना अपराध है: बॉम्बे हाईकोर्ट



सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Pandit Birju Maharaj: कथक सम्राट पंडित बिरजू महाराज का निधन, 83 साल की उम्र में ली अंतिम सांसCovid 19 Update: दिल्ली में संक्रमण दर 27% के पार, पिछले 24 घंटे में आए कोरोना के 18286 नए मामलेजानिए कब भारत आएगी टेस्ला, लॉन्चिंग को लेकर क्या कहते हैं Elon MuskCovid-19 Update: महाराष्ट्र में कोरोना के 41 हजार से ज्यादा मामले, मुंबई में आए 7895 नए केसभारतीय महिलाएं हर माह परिवार पर 40 हजार करोड़ कर रहीं कुर्बानPandit Birju Maharaj: कथक सम्राट पद्म विभूषण बिरजू महाराज के जीवन से जुडी अहम जानकारियांइंदौर की गैंगरेप पीडि़ता की हत्या के लिए CG में छिपा हिस्ट्रीशीटर गिरफ्तार, हैवानियत ऐसी प्राइवेट पार्ट को दागा सिगरेट सेतीसरी लहर में स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना किट से हटा दी तीन दवाइयां, दावा सामान्य लक्षण वाले मरीज 5 दिन में हो रहे ठीक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.