script श्रीकृष्ण जन्मभूमि-शाही ईदगाह विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ दायर याचिका खारिज, जानिए पूरा मामला | Petition to recognize Mathura's Shahi Idgah Mosque site as Krishna's birthplace rejected in Supreme Court | Patrika News

श्रीकृष्ण जन्मभूमि-शाही ईदगाह विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ दायर याचिका खारिज, जानिए पूरा मामला

locationनई दिल्लीPublished: Jan 05, 2024 12:37:55 pm

Submitted by:

Shaitan Prajapat

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को मथुरा की शाही ईदगाह मस्जिद स्थल को कृष्ण जन्मभूमि के रूप में मान्यता देने की मांग वाली याचिका खारिज कर दी।

shri_krishna_janmabhoomi_shahi_mosque_case0.jpg

Shri Krishna Janmabhoomi Shahi Mosque case: सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को मथुरा की शाही ईदगाह मस्जिद स्थल को कृष्ण जन्मभूमि के रूप में मान्यता देने की मांग वाली याचिका खारिज कर दी। शीर्ष कोर्ट ने कहा कि वह वह इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश में हस्तक्षेप करना नहीं चाहती। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने वकील महक महेश्वरी की याचिका खारिज कर दी थी। न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति दीपांकर दत्ता की पीठ ने कहा कि हम दिए गए फैसले में हस्तक्षेप करने के इच्छुक नहीं हैं और इसलिए, विशेष अनुमति याचिका को खारिज करते है।


मथुरा के शाही ईदगाह को मंदिर घोषित करने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट किया कि इस फैसले से किसी भी कानून की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने के किसी भी पक्ष के अधिकार पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा। इलाहाबाद हाईकोर्ट के समक्ष दायर अपनी याचिका में, माहेश्वरी ने मांग की थी कि पूजा स्थल अधिनियम, 1991 की धारा 2, 3 और 4 को असंवैधानिक घोषित किया जाए और तर्क दिया था कि 1991 के कानून द्वारा लगाई गई रोक जन्मभूमि मामले में लागू नहीं होगी। भूमि हमेशा से मंदिर की रही है।

माहेश्वरी ने दिया था ये तर्क

माहेश्वरी ने तर्क दिया था कि विभिन्न ऐतिहासिक रिकॉर्ड इस तथ्य का हवाला देते हैं कि विवादित स्थल, शाही ईदगाह मस्जिद, भगवान कृष्ण का वास्तविक जन्मस्थान है और यहां तक कि मथुरा का इतिहास रामायण युग का है, जबकि इस्लाम सिर्फ 1,500 साल पहले आया।

यह भी पढ़ें

IIT बॉम्बे के 85 स्टूडेंट्स की बल्ले-बल्ले, 1 करोड़ की नौकरी का ऑफर मिला



हाईकोर्ट ने बीते साल अक्टूबर में खारिज की थी याचिका

हाई कोर्ट ने पिछले साल अक्टूबर में जनहित याचिका को खारिज कर दिया था। उस समय हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस प्रीतिंकर दिवाकर और जस्टिस आशुतोष श्रीवास्तव की खंडपीठ ने कहा था: “चूंकि वर्तमान रिट (पीआईएल) में शामिल मुद्दे पहले से ही उचित कार्यवाही (यानी, लंबित मुकदमों) में अदालत का ध्यान आकर्षित कर रहे हैं, इसलिए हम रिट याचिका पर विचार नहीं कर सकते, इसे खारिज किया जाता है।

यह भी पढ़ें

Weather Update: लगातार पारा गिरने से ठिठुर रहा राजस्थान-पंजाब, दिल्‍ली में जमा देने वाली सर्दी, IMD का अलर्ट बारिश के साथ गिरेंगे ओले




ट्रेंडिंग वीडियो