scriptWhat's the reason behind planning of infecting healthy people with Coronavirus? | यहां हो रही स्वस्थ लोगों को कोरोना संक्रमित करने की तैयारी, क्या है इसका कारण | Patrika News

यहां हो रही स्वस्थ लोगों को कोरोना संक्रमित करने की तैयारी, क्या है इसका कारण

  • शोध में 18 से 30 वर्ष के 90 स्वस्थ वयस्क स्वयंसेवकों को किया जा रहा है भर्ती।
  • कोरोना वायरस लोगों को कैसे प्रभावित करता है, इस बात की जांच के लिए अध्ययन।
  • ग्रेट ब्रिटेन बना रहा है तंदरुस्त लोगों को कोरोना वायरस संक्रमित करने की बड़ी योजना।

नई दिल्ली

Updated: February 20, 2021 06:42:56 pm

लंदन। यूनाइटेड किंगडम से एक बड़ी खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि ब्रिटेन आने वाले हफ्तों में जानबूझकर दर्जनों स्वस्थ युवा स्वयंसेवकों को जानबूझकर कोरोना वायरस से संक्रमित करने की योजना बना रहा है। इसके पीछे की वजह यह पता लगाना है कि कोरोना वायरस लोगों को कैसे प्रभावित करता है और प्रयोगात्मक टीकों की प्रभावशीलता कितनी है। कोरोना वायरस के लिए तथाकथित सबसे पहले मानव चुनौती अध्ययन को देश के क्लीनिकल ट्रायल्स एथिक्स बॉडी द्वारा मंजूरी दी गई है और मार्च के मध्य से शुरू करने के लिए तैयार है। हालांकि फिर भी यह योजना कई सवालों को जन्म देती है।
What's the reason behind planning of infecting healthy people with Coronavirus?
What's the reason behind planning of infecting healthy people with Coronavirus?
1. क्या है मानव चुनौती अध्ययन?

यह एक नियंत्रित मानव संक्रमण अध्ययन है जिसमें स्वस्थ स्वयंसेवकों को एक संक्रामक रोग जीव के साथ जानबूझकर "चुनौती" दी जाती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि इस तरह के शोध टीकों के परीक्षण के लिए विशेष रूप से मूल्यवान हो सकते हैं क्योंकि कम प्रतिभागियों को अपनी प्रभावकारिता और सुरक्षा का पता लगाने के लिए प्रयोगात्मक टीकाकरण की आवश्यकता होती है, जो संभवतः प्रतिरक्षा (इम्यूनिटी) के विकास में तेजी लाती है।
मानव चुनौती अध्ययन का उपयोग किसी रोगज़नक़ के बारे में जानकारी को निकालने के लिए भी किया जा सकता है, जैसे कि रोग पैदा करने की इसकी क्षमता, कारक जो लोगों को बीमारी के जोखिम में डालते हैं और जिस तरह से शरीर एक संक्रमण के जवाब में प्रतिरक्षा उत्पन्न करता है, उसके बारे में सुराग जैसी बातें।
ब्रिटेन में अध्ययन के आयोजकों का कहना है कि मलेरिया, टाइफाइड, हैजा, नोरोवायरस और फ्लू सहित बीमारियों के लिए इस प्रकार के शोध का इस्तेमाल कई दशकों से किया जा रहा है।

गुजरात के 11 जिलों में कोरोना का एक भी नया मरीज नहीं2. क्या है ब्रिटेन के अध्ययन करने का प्रस्ताव?
ब्रिटेन सरकार की ओर से 17 फ़रवरी को जारी बयान के मुताबिक 18 से 30 वर्ष आयु के 90 स्वस्थ वयस्कों को दो क्षेत्रों के अध्ययनों के लिए भर्ती किया जा रहा है। पहला एक संक्रमण पैदा करने और एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न करने के लिए आवश्यक सबसे छोटी जरूरत निर्धारित करने के लिए वायरस की अलग-अलग मात्रा का परीक्षण करेगा। शोधकर्ताओं ने कहा कि अध्ययन ऐसे कारकों की पहचान करने में मदद करेगा कि वायरस कैसे फैलता है और एक कोरोना संक्रमित व्यक्ति कैसे पर्यावरण में संक्रामक कणों को पहुंचाता है।
इसके बाद क्लीनिकल ट्रायल्स में सुरक्षित साबित हो चुकीं कोविड-19 वैक्सीनों को स्वयंसेवकों के समूह को लगाया जाएगा और फिर उन्हें कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों-माहौल में सीधे एक्सपोज किया जाएगा। यह लोगों को पुन: संक्रमण से बचाने के लिए आवश्यक प्रतिरक्षात्मक प्रतिक्रिया और साथ ही सबसे प्रभावी टीकों की पहचान करने में मदद करेगा।
3. कौन कर रहा है यह शोध?

यह ब्रिटेन सरकार के वैक्सीन टास्कफोर्स, इंपीरियल कॉलेज लंदन, रॉयल फ्री लंदन एनएचएस फाउंडेशन ट्रस्ट और क्लीनिकल रिसर्च कंपनी hVIVO पीएलसी समूह द्वारा चलाया जा रहा है। ब्रिटेन इस शोध में 33.6 मिलियन पाउंड (भारतीय मुद्रा के अनुसार 340 करोड़ रुपये) का निवेश कर रहा है। स्वयंसेवकों को अध्ययन में बिताए समय के लिए मुआवजा दिया जाएगा। न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक स्वयंसेवकों को संक्रमित रहने के दौरान आइसोलेट होने और अगले एक वर्ष तक अप्वाइंटमेंट्स के लिए 4.57 लाख रुपये से ज्यादा दिए जाएंगे।
4. क्या लोग वास्तव में स्वयं सेवा कर रहे हैं?

बता दें कि कोरोना वायरस ने 2019 के अंत से वैश्विक स्तर पर 24 लाख से ज्यादा लोगों की जान ले ली है। रूबेला वायरस के खिलाफ एक वैक्सीन विकसित करने में मदद करने वाले न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय के बायोएथिसिस्ट आर्थर कैपलान और पेंसिल्वेनिया के डोयलेस्टोन के एक चिकित्सक स्टैनले प्लॉटकिन ने मई में वैक्सीन जर्नल के एक पेपर में लिखा कि नैतिक रूप से, इन स्वयंसेवकों को एथिक्स कमेटी द्वारा जबरन और उनकी सहमति से मुक्त होने की आवश्यकता होगी। उन्होंने कहा, "स्वयंसेवकों को बिना दबाव या जबरदस्ती के जोखिम लेने के लिए कहना शोषण नहीं है, लेकिन परोपकारिता से लाभ उठाना है।"
5. क्या सावधानियां बरती जा रही है?

कोई भी अध्ययन पूरी तरह से जोखिम मुक्त नहीं होता है, लेकिन शोधकर्ताओं ने कहा कि सुरक्षा सर्वोपरि है। सरकार ने कहा कि शोधकर्ता कोरोना वायरस के उस संस्करण का इस्तेमाल करेंगे जो मार्च 2020 से ब्रिटेन में फैला हुआ है और युवा स्वस्थ वयस्कों में "कम जोखिम" वाला है। एक विशेषज्ञ टीम "स्वयंसेवकों पर वायरस के प्रभाव की बारीकी से निगरानी करेगी और दिन में 24 घंटे उनकी देखभाल करेगी।"
शोधकर्ता रॉयल फ्री हॉस्पिटल और उत्तर मध्य लंदन एडल्ट क्रिटिकल केयर नेटवर्क के साथ मिलकर काम कर रहे हैं और अध्ययन को सुनिश्चित करने के लिए अन्य कोरोना मरीजों की देखभाल से समझौता नहीं करेंगे।
बीएमजे मेडिकल जर्नल ने अक्टूबर में बताया कि भागीदारी के लिए जरूरी मानदंडों में कोविड-19 का कोई इतिहास या लक्षण शामिल नहीं होना, पहले से किसी बीमारी का नहीं होना और कोविड-19 से होने वाले हृदय रोग, मधुमेह या मोटापे के लिए कोई ज्ञात प्रतिकूल जोखिम कारक नहीं होना शामिल हैं। बीएमजे ने कहा कि कोविड-19 विकसित करने वाले प्रतिभागियों में संक्रमण की पुष्टि होते ही गिलियड साइंसेज इंक के एंटीवायरल रीमेडिसविर से इलाज किया जाएगा।
6. मानव चुनौती अध्ययन के साथ क्या चिंताएं हैं?

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोविड-19 के संदर्भ में इस तरह के शोध पर विचार करने के लिए पिछले साल एक सलाहकार समूह का गठन किया था। दिसंबर की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि इस संबंध में कुछ चिंताओं को उजागर किया गया था, जैसे कि गंभीर बीमारी की संभावना जिसमें रक्त के थक्के जमना और बीमारी को दूर करने के लिए विश्वसनीय, प्रभावी उपायों की कमी शामिल है। कुछ आलोचकों ने कोरोना वायरस संक्रमण से दीर्घकालिक प्रभावों की संभावना के बारे में चिंता जताई है।
डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट ने यह भी आगाह किया है कि मानव चुनौती अध्ययन से जनता में गलत व्याख्या और भ्रम पैदा हो सकता है, जिसके परिणामस्वरूप टीके के प्रति भय और हिचकिचाहट बढ़ जाती है- खासकर अगर एक प्रतिभागी गंभीर रूप से बीमार हो जाता है या मर जाता है, या सुरक्षा में कोई भंग होता है।
अनावश्यक रूप से पीड़ित किया गया था।
7. क्या कर रहा है डब्ल्यूएचओ?

डब्ल्यूएचओ ने अध्ययन के प्रोटोकॉल पर विस्तार से चर्चा करने के लिए तकनीकी विशेषज्ञों के साथ एक खुला मंच कॉल आयोजित करने और स्थिति की समीक्षा करने और सूचित निर्णय लेने में सलाह और समर्थन प्रदान करने के लिए मार्च के अंत से पहले अपने सलाहकार समूह को फिर से जोड़ने की योजना बनाई है।
newsletter

अमित कुमार बाजपेयी

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Maharashtra Floor Test: महाराष्ट्र विधानसभा में शिंदे सरकार का शक्ति परीक्षण आज, स्पीकर ने उद्धव खेमे को दिया झटकाहिमाचल प्रदेश के कुल्लू में बड़ा हादसा, सैंज घाटी में गिरी बस, बच्चों समेत 16 लोगों की मौतपीएम मोदी आज जाएंगे आंध्र प्रदेश, अल्लुरी सीताराम राजू की प्रतिमा का करेंगे अनावरणदिल्ली विधानसभा का दो दिवसीय सत्र आज से होगा शुरू, विधायकों की सैलरी समेत कई विधेयकों को मिल सकती है मंजूरीलालू यादव ICU में भर्ती, बेहोशी की हालत में लाए गए थे अस्पताल, कल सीढ़ी से गिरने पर टूटी थी हड्डीपंजाब: मुख्यमंत्री भगवंत मान आज कैबिनेट का करेंगे विस्तार, पांच नए मंत्री लेंगे शपथजम्मू-कश्मीर: अमरनाथ यात्रा के बीच अनंतनाग में आतंकी हमला, आतंकियों ने पुलिसकर्मी को मारी गोलीकोपनहेगन के शॉपिंग मॉल में ताबड़तोड़ फायरिंग, 7 लोगों की मौत, कई घायल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.