script300 साल पुराने जुगल किशोर मंदिर की दीवारों में छेद कर लगवा दिया निजी कंपनी का ग्लो साइन बोर्ड, आक्रोश | Patrika News
समाचार

300 साल पुराने जुगल किशोर मंदिर की दीवारों में छेद कर लगवा दिया निजी कंपनी का ग्लो साइन बोर्ड, आक्रोश

मनमानी : सोशल मीडिया पर श्रद्धालुओं नेे किया विरोध पन्ना. लोगों की श्रद्धा-आस्था के केंद्र भगवान जुगल किशोर मंदिर की दीवारों पर छेद कर गुबंद के पास निजी कंपनी के प्रचार-प्रसार करने ग्लो साइन बोर्ड लगवा दिया गया है। सोशल मीडिया पर 300 साल पुराने मंदिर के स्ट्रक्चर से छेड़छाड़ की तस्वीरें वायरल हुई तो […]

पन्नाJun 09, 2024 / 07:51 pm

Anil singh kushwah

मनमानी : सोशल मीडिया पर श्रद्धालुओं नेे किया विरोध

मनमानी : सोशल मीडिया पर श्रद्धालुओं नेे किया विरोध

मनमानी : सोशल मीडिया पर श्रद्धालुओं नेे किया विरोध

पन्ना. लोगों की श्रद्धा-आस्था के केंद्र भगवान जुगल किशोर मंदिर की दीवारों पर छेद कर गुबंद के पास निजी कंपनी के प्रचार-प्रसार करने ग्लो साइन बोर्ड लगवा दिया गया है। सोशल मीडिया पर 300 साल पुराने मंदिर के स्ट्रक्चर से छेड़छाड़ की तस्वीरें वायरल हुई तो श्रद्धालु आक्रोशित हो गए। लोगों ने प्रशासन पर जमकर भड़ास निकाली। किरकिरी होती देख अफसरों की टीम शनिवार दोपहर मंदिर पहुंची और प्रबंध समिति को तलब किया गया। नगर पालिका के अमले को बुलवाकर गुबंद के बोर्ड को हटवाया गया।
प्रशासन की टीम दूसरे दिन पहुंची बोर्ड निकलवाने
श्रद्धालु शुक्रवार सुबह जुगल किशोर मंदिर पहुंचे तो गुबंद के पास निजी कंपनी एसके फाइनेंस का ग्लो साइन बोर्ड लगा था। निजी कंपनी का प्रचार-प्रसार करने 300 साल पुराने मंदिर की दीवारों में छेद किया गया था। दीवारों पर एंगल के लिए छेद कर बड़े-बड़े कील लगाए गए हैं। इन्हीं एंगल के सहारे गुबंद के पास ग्लो साइन बोर्ड टंगा है।
श्रद्धालुओं ने लिया आड़े हाथ
मंदिर के स्ट्रक्चर के साथ छेड़छाड़ की तस्वीर वायरल होते ही श्रद्धालुओं ने प्रशासन समेत जनप्रतिनिधियों को आड़े हाथ लेना शुरू कर दिया। सोशल मीडिया पर छीछालेदर होने के बाद अफसर सक्रिय हुए। एसडीएम संजय नागवंशी, सीएमओ नगर पालिका शशि कपूर गढपाले सहित अन्य अफसरों की टीम दोपहर 1 बजे मंदिर पहुंची। मंदिर प्रबंध समिति के जिम्मेदारों को तलब किया गया। मुसद्दी समेत अन्य से जवाब मांगा गया कि किसने निजी कंपनी का बोर्ड मंदिर के स्ट्रक्चर से छेड़छाड़ कर गुबंद के पास लगवाया है। अफसरों की सख्ती देख प्रबंध समिति के जिम्मेदार बैकफुट पर आ गए। सभी ने किसी भी प्रकार की जानकारी नहीं होने की बात कही। नगर पालिका सीएमओ शशि कपूर गढ़पाले ने कहा कि एसडीएम ने मंदिर में लगवाए गए निजी कंपनी के बोर्ड को हटवाने के लिए कर्मचारी बुलवाए थे। एसडीएम के निर्देश पर मैं भी मौके पर पहुंचा था।
1778 में हुआ था मंदिर का निर्माण
भगवान जुगल किशोरजी मंदिर का निर्माण पन्ना के चौथे बुंदेला राजा राजा ङ्क्षहदूपत ङ्क्षसह के शासनकाल के दौरान 1758 से 1778 में कराया गया है। मंदिर में बुंदेला मंदिरों की सभी स्थापत्य विशेषताएं मोजूद हैं। इनमें एक नट मंडप, भोग मंडप और प्रदक्ष्णा मार्ग शामिल हैं।
बिना अनुमति करवा दिया छेद
निजी कंपनी का दुस्साहस ऐसा कि दीवारों में छेद करवाने के पहले अनुमति तो दूर किसी से पूछना भी जरूरी नहीं समझा। मुसद्दी संतोष तिवारी ने बताया, उन्हें निजी कंपनी ने एसडीएम से अनुमति होना बताकर बोर्ड लगवाया था। लेकिन किसी प्रकार के दस्तावेज नहीं दिए थे। इधर एसडीएम ने कहा, मैंने किसी भी व्यक्ति को बोर्ड लगाने की अनुमति नहीं दी है।
सवालों में मुसद्दी की भूमिका
मामले में मंदिर प्रबंध समिति के मुसद्दी संतोष तिवारी की भूमिका सवालों के घेरे में है। एक ओर मुसद्दी ने अफसरों को बताया कि उन्हें निजी कंपनी ने एसडीएम से अनुमति लेना बताया था। ऐसे में मुसद्दी ने निजी कंपनी से अनुमति के दस्तावेज क्यों नहीं मांगे। बिना दस्तावेज देखे कैसे मंदिर के गुबंद के पास निजी कंपनी का बोर्ड टंगवा दिया। अफसरों ने सवाल किया कि इतना बड़ा ग्लोसाइन बोर्ड मंदिर के अंदर कैसे आया, उसे ऊपर किस तरह से चढ़ाया गया। अफसरों के इस सवाल पर मुसद्दी समेत अन्य जानकारी नहीं होता बोलकर कन्नी काट गए। मौके पर मौजूद श्रद्धालुओं ने भी प्रबंध समिति के झूठ को उजागर कर दिया। श्रद्धालुओं ने अफसरों को बताया कि निजी कंपनी का यह बोर्ड बाहर से अंदर नहीं आया है। मंदिर के अंदर ही नवनिर्मित मंच के पास इसका निर्माण कराया गया है। दो से तीन दिन तक ग्लोसाइन बोर्ड का मंदिर परिसर के अंदर ही निर्माण चलता रहा है। इस संबंध में मुसद्दी संतोष तिवारी से बातचीत का प्रयास किया लेकिन उन्होंने कॉल रिसीव नहीं किया।
कार्रवाई करेंगे
भगवान जुगल किशोर मंदिर में बोर्ड लगवाने की मुझसे अनुमति नहीं ली गई है। बोर्ड लगवाने वाले लोगों के खिलाफ नोटिस जारी कर जवाब तलब करेंगे, प्राचानी मंदिर की दीवार में छेद क्यों किया गया। श्रद्धालुओं की आस्था के केंद्र जुगल किशोर मंदिर की दीवारों से छेड़छाड़ कर बोर्ड लगवाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।
संजय नागवंशी, एसडीएम पन्ना

Hindi News/ News Bulletin / 300 साल पुराने जुगल किशोर मंदिर की दीवारों में छेद कर लगवा दिया निजी कंपनी का ग्लो साइन बोर्ड, आक्रोश

ट्रेंडिंग वीडियो