scriptपानी के लिए परेशान गर्ल्स-बॉयज हॉस्टल के करीब 500 मेडिकल छात्र | Patrika News
समाचार

पानी के लिए परेशान गर्ल्स-बॉयज हॉस्टल के करीब 500 मेडिकल छात्र

सागर. बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में गल्र्स-बॉयल हॉस्टल के करीब 500 मेडिकल छात्रों को पानी के लिए परेशान होना पड़ रहा है। पीने के अलावा निस्तार के लिए भी छात्र पानी खरीदने मजबूर हो रहे हैं। जल संकट का कारण राजघाट लाइन से पर्याप्त पानी की सप्लाई न होना और बीएमसी में बोरवेल की मोटर बार-बार […]

सागरJun 16, 2024 / 11:30 am

Murari Soni

सागर. बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में गल्र्स-बॉयल हॉस्टल के करीब 500 मेडिकल छात्रों को पानी के लिए परेशान होना पड़ रहा है। पीने के अलावा निस्तार के लिए भी छात्र पानी खरीदने मजबूर हो रहे हैं। जल संकट का कारण राजघाट लाइन से पर्याप्त पानी की सप्लाई न होना और बीएमसी में बोरवेल की मोटर बार-बार खराब होना बताया जा रहा है। हालांकि प्रबंधन अब जरूरी व्यवस्थाएं कर लेने की बात कह रहा है।बीएमसी के गर्ल्स हॉस्टल में करीब 300 तो बॉयज हॉस्टल में 250 अलग-अलग बैच के छात्र निवास कर रहे हैं। दोनों हॉस्टल में पिछले 10 दिनों से छात्रों को बूंद-बूंद पानी के लिए परेशान होना पड़ रहा है। पीने के लिए हॉस्टल की छत पर लगे बड़े आरओ प्लांट से खराब पानी आ रहा है, हालात ये हैं कि छात्रों को नहाने और निस्तार के लिए भी बाहर से पानी खरीदना पड़ रहा है। सक्षम छात्र बाहर से पानी का जार खरीद रहे हैं। हालांकि शुक्रवार-शनिवार की दरमियानी रात प्रबंधन ने हॉस्टल के बोरवेल की मशीन सुधरवा दी। मेडिकल छात्रों की मानें तो बोरवेल की मोटर बार-बार खराब हो रही है, जिससे पानी नलों में पानी नहीं आता। सुधरवाई गई मशीन दो दिन बाद फिर खराब हो जाएगी और उन्हें पानी के लिए परेशान होना पड़ेगा।

जून में राजघाट लाइन से सप्लाई कम हो रही-

छात्रावास की व्यवस्थाएं देख रहे कर्मचारियों ने बताया कि पहले राजघाट लाइन से पर्याप्त पानी मिल रहा था और उन्हें बोरवेल चलाने की जरूरत नहीं पड़ती थी, लेकिन जून के शुरूआती सप्ताह से ही पानी मिलना कम हो गया है। पर्याप्त सप्लाई न होने पर बोरवेल चालू किया तो मोटर जल गई, उसे सुधरवाया गया। मशीन फिर से खराब हुई तो छात्रावास की टंकियां नहीं भर पाईं। हालांकि फिर से मशीन ठीक करा ली गई है और अब टंकियां भर दी गईं हैं।

दुकानों से पानी खरीद रहे छात्र-

हॉस्टल में पानी की कमी के कारण मेडिकल छात्र बीएमसी परिसर के सामने मौजूद दुकानों से पानी की बॉटल खरीदते रहे। विगत 10 दिनों से छात्र पीने के लिए बॉटल का पानी खरीद रहे हैं। कुछ छात्रों ने नहाने के लिए भी 15-20 लीटर का पानी का जार खरीदा। कई छात्र बाल्टी लेकर अन्य भवनों से पानी की व्यवस्था करते रहे।
-हॉस्टल में पानी की समस्या की जानकारी मिलने के बाद रात में ही तत्काल बोरवेल की मशीन सुधरवा दी है। कर्मचारियों-प्रभारियों से जानकारी ले रहे हैं कि हॉस्टल में पूर्व की सप्लाई व्यवस्था क्या थी। कहां दिक्कत आ रही है। बोरवेल चालू हो गया है और अब वैकल्पिक व्यवस्था भी करके रखेंगे।
डॉ. पीएस ठाकुर, डीन बीएमसी।

Hindi News/ News Bulletin / पानी के लिए परेशान गर्ल्स-बॉयज हॉस्टल के करीब 500 मेडिकल छात्र

ट्रेंडिंग वीडियो