मदरसे में मिली 10 वर्षीय बच्ची के साथ दुष्कर्म, परीजनों ने मौलवी पर लगाए गंभीर आरोप

10 वर्षीय बच्ची मदरसे में मिली जिसके साथ दुषकर्म किया गया है। वहीं अब इस मामले में गिरफ्तारी को लेकर जाम लगाया है।

By: Rahul Chauhan

Published: 25 Apr 2018, 02:30 PM IST

गाजियाबाद। साहिबाबाद के अर्थला स्थित मदरसे में मिली 10 वर्षीय बच्ची के साथ दुष्कर्म की बात सामने आई है। जिसके बाद पुलिस ने अपहरण के साथ-साथ दुष्कर्म और पॉक्सो की धारा भी एफआईआर में जोड़ दी है। साथ ही बाल न्यालालय ने 17 वर्षीय किशोर को बाल सुधार गृह भेज दिया है और मदसरे से मौलवी व किशोर के बड़े भाई से पूछताछ जारी है। वहीं बच्ची के परीजनों का आरोप है कि मौलवी के इशारे पर ही यह दुष्कर्म हुआ है और चिकित्सकों का कहना है कि बच्ची के साथ तीन चार लोगों ने दुष्कर्म किया है। लेकिन पुलिस ने सिर्फ एक को ही पकड़ा है और मौलवी को बचा रही है। इसे लेकर अब लोगों में भी आक्रोश है। जिसके चलते बुधवार को लोगों ने एनएच 24 पर जाम भी लगाया।

यह भी पढ़ें : मोती गोयल हत्याकांड का खुलासा, पुलिस के हत्थे चढ़े दो शार्प शूटर

बता दें कि बच्ची 21 अप्रैल को दिल्ली के गाजीपुर इलाके के घड़ोली से लापता हुई थी। जो 22 अप्रैल की रात अर्थला स्थित मदरसे की पहली मंजिल से मिली थी। वहीं अब स्थानीय पुलिस की कार्रवाई पर भी सवाल उठ रहे थे। जिसके चलते जांच अपराध शाखा को सौंप दी गई है।

क्या है पूरा मामला

बता दें कि बच्ची का परिवार पहले अर्थला के मदरसे के पास रहता था। बच्ची आरोपित किशोर को पहले से ही जानती थी। वहीं 19 अप्रैल को बच्ची का परिवार घड़ोली कॉलोनी में रहने के लिए आया था। जिसके दो दिन बाद बच्ची घर से कुछ सामान लेने के लिए निकली थी और वह लापता हो गई। जब आसपास की सीसीटीवी फुटेज चेक की गई तो उसमें बच्ची को एक लड़के के साथ ऑटो में बैठते देखा गया। जब पुलिस ने इसकी जांच की तो पता चला कि अर्थला की नीलमणि कॉलोनी में रहने वाला 17 वर्षीय किशोर एक लड़की के जरिये इस बच्ची के संपर्क में आया था। बच्ची के पास फोन था और इस दोनों की फोन पर भी बातचीत होती थी। बच्ची के मोबाइल सर्विलांस के जरिये ही दिल्ली व साहिबाबाद पुलिस टीम ने संयुक्त छापेमारी कर बच्ची को अर्थला की नीलमणि कॉलोनी स्थित मदरसे की पहली मंजिल से बरामद किया।

यह भी पढ़ें: इस तरह बैंक से बिना ब्याज मिलेगा लोन, ऐसे उठा सकते हैं लाभ

बच्ची के मामा का कहना है कि पुलिस जब मदरसे में पहुंची तो बच्ची चटाई में लिपटी मिली। यहां उसे लकड़ी की कोठरी में बंद किया हुआ था। आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि इस घटना के पीछे मौलवी का ही हाथ है, लेकिन पुलिस उसे बचा रही है। चिकित्सकों ने भी कहा है कि बच्ची के साथ तीन-चार लोगों ने दुष्कर्म किया है। फिर भी पुलिस ने सिर्फ एक को पकड़ा है।

यह भी पढ़ें : एयरपोर्ट के पास घर खरीदने वालों के लिए बड़ी खबर, अब नहीं कर सकेंगे ये काम

सामूहिक दुष्कर्म की नहीं

पूर्वी परिक्षेत्र के संयुक्त आयुक्त रवींद्र यादव ने बताया कि चिकित्सकीय जांच में बच्ची के साथ दुष्कर्म की पुष्टि हुई है, लेकिन सामूहिक दुष्कर्म की पुष्टी नहीं है। वहीं मजिस्ट्रेट के सामने बयान में भी सामूहिक दुष्कर्म की बात सामने नहीं आई है। अब आगे की जांच जो कि अपराध शाखा द्वारा की जा रही है उसमें जो तथ्य सामने आएंगे, उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned