मोती गोयल हत्याकांड का खुलासा, पुलिस के हत्थे चढ़े दो शार्प शूटर

सैकड़ों रुपये की जमीन पर कब्जा करने के आरोपी मोती गोयल हत्याकांड में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है।

By: Rahul Chauhan

Published: 25 Apr 2018, 01:06 PM IST

नोएडा। 16 अप्रैल को सेक्टर-49 स्थित बरौल गांव में मोती गोयल की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मोती गोयल पर अलग-अलग शहरों में सैकड़ों करोड़ रुपये की जमीन पर कब्जे का आरोप थे। पुलिस ने इस मामले में अब दो शार्प शूटरों को गिरफ्तार कर लिया है। जिन्हें 10 लाख रुपये की सुपारी दी गई थी। वहीं इस वारदात को अंजाम देने के लिए बदमाशों ने कई बार मोती का पीछा किया था। हालांकि इस हत्याकांड का मास्टर माइंड अभी भी फरार है। वहीं पुलिस का कहना है कि मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के बाद ही हत्या की असली वजह का पता चलगा।

यह भी पढ़ें: 7वीं क्लास की छात्रा से टीचर ने कहा कुछ ऐसा कि पुलिस के पास पहुंच गए परिजन

10 लाख की मिली थी फिरौती

गिरफ्तार किए गए दोनों शार्प शूटरों के पास से पुलिस को .30 एमएम की पिस्टल, तीन कारतूस और एक तमंचा मिला है। इन दोनों की पहचान अमित और राहुल के रूप में हुई है जिन्होंने इस वारदात को अंजाम देने के लिए 10 लाख रुपये की फिरौती ली थी। इन्हें शुरु में ही एक लाख रुपये और हथियार मुहैया कराए गए थे।

यह भी पढ़ें: अब फेसबुक यूजर्स को लेकर आया यह फतवा, देवंबदी आलिम ने लगाई मोहर

एसपी सिटी अरुण कुमार सिंह ने बताया कि पुलिस ने दो शार्प शूटरों को गिरफ्तार कर लिया है। पूछताछ में दोनों बदमाशों ने सिर्फ हत्या करने की बात कबूली है। इनका कहना है कि सुनपुरा के निवासी हरेंद्र प्रधान ने इन्हें वारदात को अंजाम देने के लिए 10 लाख रुपये की फिरौती दी थी। मुख्य आरोपी अभी फरार चल रहा है जिसे जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: नवविवाहिता ने प्रेमी को बुलाया आैर फिर पंचायत ने करा दिया ये काम

जमीन विवाद को लेकर हुई हत्या

बता दें कि मुख्य आरोपी अभी भी फरार है जिसके चलते हत्या का कारणों का पता नहीं लग सका है। वहीं सूत्रों के मानें तो मुख्य आरोपी हरेंद्र का मोती गोयल से एक जमीन को लेकर विवाद चल रहा था। इस जमीन की कीमत करीब 14 करोड़ रुपये बताई जा रही है। इसी के चलते ये हत्या कराई गई है।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned