scriptInfluence of migrants of Indian origin will also increase | भारतीय मूल के प्रवासियों का भी बढ़ जाएगा प्रभाव | Patrika News

भारतीय मूल के प्रवासियों का भी बढ़ जाएगा प्रभाव

भविष्य में अगर न्यूयॉर्क की तर्ज पर गैर-नागरिकों के मतदान के अधिकार की मांग हर राज्य में उठने लगती है, तो पूरे अमरीका में भारतीय वोटों की संख्या स्थानीय चुनावों में आज के मुकाबले दोगुनी हो जाएगी। भारतीय मूल के वोटों का महत्त्व सभी राज्यों के स्थानीय चुनावों में उस तरह ही देखने को मिलेगा जैसा अमरीका के 2020 के चुनावों में देखने को मिला था।

नई दिल्ली

Published: January 11, 2022 01:20:11 pm

द्रोण यादव
(राजनीतिक अध्येता)

अमरीका में काफी समय से गैर-नागरिकों को मतदान के अधिकारों को लेकर बहस जारी है। इस बीच न्यूयॉर्क मेयर एरिक ऐडम्स ने हाल ही में वीटो का प्रयोग कर गैर-नागरिकों के लिए मतदान का कानून पारित कर दिया है। 'गैर-नागरिक' अमरीका में उस वर्ग के लोग हैं, जो प्रवासियों के रूप में सालों से वहां मौजूद हैं। भले ही उन्हें नागरिकता प्राप्त नहीं हुई हो, लेकिन उनको कानूनी रूप से वहां रहने और काम करने जैसे अधिकार प्राप्त हैं। ऐसे गैर-नागरिकों की संख्या न्यूयॉर्क में करीब 8 लाख है, जिसमें भारतीय भी अच्छी संख्या में शामिल हैं। यों तो 1996 में अमरीकी संसद द्वारा लाए गए एक कानून के मुताबिक गैर-नागरिकों को राष्ट्रपति चुनावों में मतदान करने से पूर्ण रूप से प्रतिबंधित कर दिया गया है, लेकिन राज्यों में गैर-नागरिकों के मतदान को लेकर अमरीकी कानून चुप है।
Influence of migrants of Indian origin will also increase
,,
यही कारण है कि कुछ अमरीकी राज्य ऐसे हैं, जो चाहें तो ऐसे गैर-नागरिकों को स्थानीय चुनावों में मतदान का अधिकार दे सकते हैं, जिनमें से न्यूयॉर्क एक है। अमरीका में रह रहे इन गैर-नागरिकों को 'ड्रीमर्ज' भी कहा जाता है। इन्हीं के लिए पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने कार्यकाल के दौरान 'ड्रीम एक्ट' यानी 'डिफर्ड एक्शन फॉर चाइल्डहुड अराइवल्ज प्रोग्राम' कानून की वकालत की थी। इसके तहत अमरीका में आए नौजवान प्रवासियों को वहां जीने के सारे अधिकार प्राप्त होने थे। गैर-नागरिकों को मतदान का अधिकार इसी दिशा में एक कदम है।
न्यूयॉर्क के इस कानून के मुताबिक ऐसे गैर-नागरिकों की परिभाषा में वे सभी लोग शामिल हैं, जो कानूनी रूप से 30 दिन से ज्यादा वहां के स्थायी निवासी के रूप में बिता चुके हैं।

यह भी पढ़ेँः Patrika Opinion: समान अवसर में बाधक होंगी डिजिटल रैलियां

न्यूयॉर्क मेयर के इस कदम से अमरीका में रह रहे भारतीय गैर-नागरिकों की आकांक्षाओं को भी बल मिलता है। बहुत से ऐसे भारतीय प्रवासी हैं, जिन्होंने भले ही ग्रीन कार्ड अर्जित कर लिया हो, लेकिन मतदान का अधिकार नहीं होने की वजह से अपने आपको अमरीकी अपनत्व से दूर महसूस करते हैं। न्यूयॉर्क में अब ये अधिकार प्राप्त होने से कम से कम वहां के स्थानीय चुनावों में उनकी भागीदारी रहेगी, जो अन्य इलाकों के गैर-नागरिकों के लिए भी नई उम्मीद का रास्ता है।
न्यूयॉर्क मेयर ऐडम्स के शब्दों में कहें तो 'न्यूयॉर्क सिटी में करीब 47 प्रतिशत लोगों की अंग्रेजी पहली भाषा नहीं है, तो यह जरूरी है यहां रह रहे लोग तय करें कि उन पर कौन राज करेगा। इसीलिए मैं इस कानून के समर्थन में हूं।' हालांकि यह कदम उठाने वाला न्यूयॉर्क पहला राज्य नहीं है। इससे पहले भी अन्य इलाकों द्वारा छोटे-छोटे कदम इस दिशा में उठाए जा चुके हैं। चूंकि न्यूयॉर्क में यह प्रावधान बड़ी तादाद पर असर करता है और म्यूनिसिपल इलेक्शन जैसे बड़े चुनाव में वोट देने का अधिकार देता है, इसलिए यह अधिक महत्त्वपूर्ण हो जाता है। इससे पहले भी वर्मांट के 2 और मैरीलैंड के 9 शहरों ने 'स्कूल बोर्ड इलेक्शन जै'से स्थानीय चुनावों में वोटिंग का अधिकार दिया है।
यह भी पढ़ेँः क्या अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को बंद करना जरूरी हो गया है ?

अमरीका में जा बसे इस तरह के गैर-नागरिकों की संख्या का लगभग 6 प्रतिशत हिस्सा भारतीयों का है, जो कि मेक्सिको और चीन के बाद सबसे ज्यादा है। भविष्य में अगर न्यूयॉर्क की तर्ज पर गैर-नागरिकों के मतदान के अधिकार की मांग हर राज्य में उठने लगती है, तो पूरे अमरीका में भारतीय वोटों की संख्या स्थानीय चुनावों में आज के मुकाबले दोगुनी हो जाएगी।
भारतीय मूल के वोटों का महत्त्व सभी राज्यों के स्थानीय चुनावों में उस तरह ही देखने को मिलेगा जैसा अमरीका के 2020 के चुनावों में देखने को मिला था। फैसले को न्यायालय में चुनौती नहीं मिली, तो 2023 में गैर-नागरिकों के लिए स्थानीय चुनाव में वोट करने का मौका मिल जाएगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कम उम्र में ही दौलत शोहरत हासिल कर लेते हैं इन 4 राशियों के लोग, होते हैं मेहनतीबाघिन के हमले से वाइल्ड बोर ढेर, देखते रहे गए पर्यटक, देखें टाइगर के शिकार का लाइव वीडियोइन 4 राशि की लड़कियों का हर जगह रहता है दबदबा, हर किसी पर पड़ती हैं भारीआनंद महिंद्रा ने पूरा किया वादा, जुगाड़ जीप बनाने वाले शख्स को बदले में दी नई Mahindra BoleroFace Moles Astrology: चेहरे की इन जगहों पर तिल होना धनवान होने की मानी जाती है निशानीइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशदेश में धूम मचाने आ रही हैं Maruti की ये शानदार CNG कारें, हैचबैक से लेकर SUV जैसी गाड़ियां शामिल

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवानहीं चाहिए अवार्ड! इन्होंने ठुकरा दिया पद्म सम्मान, जानिए क्या है वजहबिहार में तिरंगा फहराने के दौरान पाइप में करंट से बच्चे की मौत, कई झुलसेरेलवे का बड़ा फैसला: NTPC और लेवल-1 परीक्षा पर रोक, रिजल्‍ट पर पुर्नविचार के लिए कमेटी गठितUP Assembly Elections 2022 : सपा सांसद आजम खां जेल से ही करेंगे नामांकन, कोर्ट ने दी अनुमतिहाईवे के ओवरब्रिजों में सीरियल बम प्लांट, जानिए सीएम योगी के लिए लेटर में क्या लिखा, Videoकिसान मनाएंगे विश्वासघात दिवस, करेंगे पीएम मोदी का पुतला दहन, जानिए क्यों ?गणतंत्र दिवस परेड में ड्रोन क्रैश, नृत्य कर रही महिलाएं घायल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.