scriptWhy is hate speech not being curbed? | घृणा फैलाने वालों पर अंकुश क्यों नहीं लग पा रहा है? | Patrika News

घृणा फैलाने वालों पर अंकुश क्यों नहीं लग पा रहा है?

पत्रिकायन में सवाल पूछा गया था। पाठकों की मिलीजुली प्रतिक्रियाएं आईं, पेश हैं चुनिंदा प्रतिक्रियाएं।

Published: December 26, 2021 03:59:47 pm

बदलनी होगी मानसिकता
भारत ही नहीं, विश्व के दूसरे भागों में भी घृणा फैलाई जा रही है। इसका मुख्य कारण मानवीय गुणों का अभाव होना ही दिखाई देता है। आज एक देश दूसरे देश से घृणा करता है और एक इंसान दूसरे इंसान से घृणा कर रहा है। कोई भी धर्म घृणा का पाठ नहीं पढ़ाता। धर्म तो आपसी प्यार और भाईचारे का पाठ पढ़ाता है। कोई भी इंसान छोटा-बड़ा नहीं होता है। इंसान की सोच ही छोटी होती है, जिससे वह घृणा और नफरत का भाव रखता है। अत: लोगों की मानसिकता बदलनी होगी।
-कैलाश चन्द्र मोदी, सादुलपुर, चूरू
.............................
घृणा फैलाने वालों पर अंकुश क्यों नहीं लग पा रहा है?
घृणा फैलाने वालों पर अंकुश क्यों नहीं लग पा रहा है?
कानूनी कार्रवाई जरूरी
अभिव्यक्ति की आजादी का यह मतलब नहीं है कि देश की अखंडता को तोडऩे वाले जहर बुझे बयान दिए जाएं। अपने राजनीतिक वजूद के लिए घृणा फैलाने वाले राजनेताओं के भाषणों को साक्ष्य के रूप में रखते हुए घृणित बयान देने वाले नेताओं पर रासुका के तहत कार्रवाई की जाए। घृणा फैलाने वाले बयान देना देशद्रोह से कम नहीं है। ऐसे नेताओं को चिह्नित कर कानूनी कार्रवाई की जानी चाहिए।
-रेखा उपाध्याय मनेंद्रगढ़, कोरिया छत्तीसगढ़
....................
लोकतंत्र का मजाक
वोट बैंक को नाराज न करने की मानसिकता के कारण सरकार भड़काऊ भाषण देने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करती। लोकतंत्र का मजाक उड़ाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।
-गोपेन्द्र मालवीय, इंदौर
....................
दोषियों के खिलाफ शीघ्रता से कार्रवाई जरूरी
हमारे समाज में अपने निजी स्वार्थों की पूर्ति के लिए नेता सांप्रदायिक व जातीय घृणा का माहौल पैदा करते हैं। इस तरह की समस्याओं के समाधान के लिए बच्चों के चरित्र निर्माण पर विशेष जोर दिया जाए। जनता की मूल समस्याओं का समाधान शीघ्र किया जाए, समाज में पनपने वाले असंतोष को समय रहते दूर किया जाए और समाज में साधनों की असमानता का अंतर निम्नतम करने के प्रयास हों। दोषियों के खिलाफ शीघ्र कार्रवाई भी जरूरी है।
-अजिता शर्मा, उदयपुर
........................
कट्टरपंथियों से बड़ा खतरा
घृणा फैलाने वालों के पीछे एक राजनीतिक विचारधारा है, जो जाति और धर्म के आधार पर अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए लोगों को बांटना चाहती है। सोशल मीडिया अपने विचार व्यक्त करने और लोगों से जुड़ने का अच्छा माध्यम है। सोशल मीडिया के जरिए गलत जानकारी और नफरत फैलाने वाले मुद्दे भी फैलाए जा रहे हैं। दुनिया के कई हिस्सों में यह समस्या है। पाकिस्तान, इंडोनेशिया और मालदीव जैसे देशों में इस्लामी कट्टरपंथी, अमरीका और पश्चिमी यूरोप में ईसाई कट्टरपंथी, म्यांमार में बौद्ध कट्टरपंथी और भारत में हिंदू कट्टरपंथी लोगों को भड़का रहे हैं।
-इम्तियाज हुसैन, अलवर
..................
कठोर दंड जरूरी
सोशल मीडिया व अन्य जगह पर घृणा फैलाने वालों के खिलाफ कठोर दंड का प्रावधान किया जाए, जिससे घृणा फैलाने वालों में डर पैदा हो। प्रशासन ऐसे मामलों में शीघ्रता से कार्रवाई करे।
-सी.आर. प्रजापति, हरढ़ाणी, जोधपुर
......................
राजनीति है कारण
किसी भी समाज में निरंतर विकास के लिए शांति और सुरक्षा का वातावरण बहुत ही जरूरी है। देश में धर्म पर आधारित राजनीति के कारण नफरत एवं घृणा का माहौल बनाया जा रहा है। भारत जैसे धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र में जब तक सभी राजनीतिक दलों के नेता इस तरह की राजनीति खत्म नहीं करते हैं, तब तक घृणा का यह जहर फैला रहेगा।
-नरेश कानूनगो, बैंगलूरु
.....................
कौन लगाए अंकुश
नेता अपनी पार्टी और स्वयं के स्वार्थ के लिए देश में घृणा फैला रहे हैं। यह वाकई चिंता की बात है। प्रभावशाली नेता जब खुद यह काम कर रहे हैं, तो अंकुश कैसे लगेगा?
-संजय खरे, भोपाल
.........................
सरकार नहीं कर रही कार्रवाई
घृणा फैलाने वालों पर अंकुश इसलिए नहीं लगाया जा रहा है क्योंकि सरकार इन लोगों पर ध्यान नहीं दे पा रही है। इसी चीज का फायदा घृणा फैलाने वाले लोग उठा रहे हैं।
-नितिन लाला, कोटा
......................
मर्यादित भाषा जरूरी
अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अर्थ यह नहीं हैं कि लोग मनमानी करने लग जाएं। मर्यादित भाषा में अपनी बात रखना प्रजातंत्र की खुशबू है, किन्तु धर्म और जाति के आधार पर घृणा फैलाना अनुचित है। सरकार को ऐसे मामले में कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए।
-मुकेश भटनागर, भिलाई

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: अयोग्यता नोटिस के खिलाफ शिंदे गुट पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, सोमवार को होगी सुनवाईMaharashtra Political Crisis: एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने पर दिया बड़ा बयान, कहीं यह बातBypoll Result 2022: उपचुनाव में मिली जीत पर सामने आई PM मोदी की प्रतिक्रिया, आजमगढ़ व रामपुर की जीत को बताया ऐतिहासिकRanji Trophy Final: मध्य प्रदेश ने रचा इतिहास, 41 बार की चैम्पियन मुंबई को 6 विकेट से हरा जीता पहला खिताबKarnataka: नाले में वाहन गिरने से 9 मजदूरों की दर्दनाक मौत, सीएम ने की 5 लाख मुआवजे की घोषणाअगरतला उपचुनाव में जीत के बाद कांग्रेस नेताओं पर हमला, राहुल गांधी बोले- BJP के गुड़ों को न्याय के कठघरे में खड़ा करना चाहिए'होता है, चलता है, ऐसे ही चलेगा' की मानसिकता से निकलकर 'करना है, करना ही है और समय पर करना है' का संकल्प रखता है भारतः PM मोदीSangrur By Election Result 2022: मजह 3 महीने में ही ढह गया भगवंत मान का किला, किन वजहों से मिली हार?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.