सीएम योगी की मौजूदगी में विवाहिता ने सामूहिक विवाह के दौरान अन्य शख्स से रचाया दूसरा विवाह

-सूचना के बाद अधिकारियों में मच गया हड़कंप।
-तत्काल जांच कर दोषी पाए जाने पर एफआईआर के निर्देश दिए।
-विवाहिता के ससुराल पक्ष का आरोप दहेज के लालच में की दूसरी शादी।

By: suchita mishra

Published: 27 Nov 2019, 11:20 AM IST

पीलीभीत। यूपी के पीलीभीत में एक विवाहिता ने दहेज के लालच में सामूहिक विवाह के दौरान अन्य शख्स से दूसरी शादी कर ली। हैरानी की बात ये है कि सारा वाक्या सीएम योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में हुआ। जब ये बात अधिकारियों के संज्ञान में आयी तो हड़कंप मच गया। इसके बाद तत्काल प्रभाव मामले की जांच के आदेश दिए गए। साथ ही महिला के दोषी पाए जाने पर एफआईआर के निर्देश दिए गए।

ये है मामला
मुख्यमंत्री विवाह योजना के तहत बीते 14 नवंबर को पीलीभीत में सामूहिक विवाह का आयोजन किया गया था। इस आयोजन में उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे। एक ओर सीएम योगी भाषण दे रहे थे, दूसरी तरफ 500 जोड़ों का सामूहिक विवाह हो रहा था। इन्हीं जोड़ों के बीच पीलीभीत के मरौरी ब्लॉक के कल्याणपुर की रहने वाली एक विवाहिता सुशील देवी भी मौजूद थी। आरोप है कि उसने वहां अन्य युवक से दहेज के लालच में दूसरी शादी कर ली। हैरानी की बात ये है कि विवाहिता ने शादी से पहले अपने पति के सारे कागजात जमा किए। लेकिन अधिकारियों ने उन पर ध्यान नहीं दिया।

फोन पर गांव वालों से मिली दूसरी शादी की खबर
इस मामले में जानकारी देते हुए विवाहिता सुशील देवी के ससुरालीजनों ने बताया कि सुशील देवी की शादी 17 अप्रैल 2019 में पीलीभीत शहर के रहने वाले मोहित मौर्य के साथ हुई थी। दो महीने पहले सुशील अपने घर कल्याणपुर चली गई थी। बीते दो दिन पहले कल्याणपुर से उसके पति मोहित के पास गांव वालों का फोन आया कि उसकी पत्नी ने सामूहिक विवाह में दूसरी शादी कर ली है। दूसरी शादी की खबर सुनकर परिवार में हड़कंप मच गया।

दहेज के लालच में की दूसरी शादी
आनन फानन में ससुराल पक्ष के लोग समाज कल्याण अधिकारी से मिले और मामले की जानकारी दी। इसके बाद मामले की जांच की गई तो देखा कि रजिस्ट्रेशन फॉर्म पर मोहित के कागज लगे हैं। महिला के ससुराल वालों का कहना है कि उसने सरकार की ओर से मिलने वाले दहेज के लालच में दूसरी शादी की है। पीड़ित परिवार ने इस मामले में न्याय की गुहार लगाई है। फिलहाल समाज कल्याण अधिकारी ने इस मामले में हुई चूक को लेकर पहले ADO ब्रजेश कुमार को ब्लॉक से हटा दिया। इसके बाद तथ्यों के आधार पर महिला के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के आदेश दिए।

Show More
suchita mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned