तेलंगाना में शाह की हुंकारः किसी भी दल से समझौता नहीं करेगी भाजपा, 'रुकी प्रगति' के खिलाफ होगी लड़ाई

तेलंगाना में शाह की हुंकारः किसी भी दल से समझौता नहीं करेगी भाजपा, 'रुकी प्रगति' के खिलाफ होगी लड़ाई

Dhiraj Kumar Sharma | Publish: Sep, 16 2018 09:02:54 AM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 09:07:46 AM (IST) राजनीति

अमित शाह ने तेलंगाना में फूंका चुनावी बिगुल, जनसभा को संबोधित करते हुए बोले- पार्टी किसी भी दल से नहीं करेगी समझौता

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने तेलंगाना में अपना रास्ता चुन लिया है। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार को कहा कि उनकी पार्टी तेलंगाना में आगामी विधानसभा चुनाव अपने दम पर लड़ेगी। महबूबनगर में एक जनसभा में औपचारिक रूप से पार्टी के अभियान की शुरूआत करते हुए शाह ने कहा कि भाजपा इस दक्षिणी राज्य में सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति यानी टीआरएस के साथ कोई समझौता नहीं करेगी।

कांग्रेस को सबक सिखाएगी जनता
अपने संबोधन में भाजपा अध्यक्ष ने तेलंगाना राष्ट्र समिति के अध्यक्ष चंद्रशेखर राव को तो घेरा ही साथ ही कांग्रेस पर भी जमकर निशाना साधा। शाह ने कहा कि तेलुगू लोग यह नहीं भूले है कि कांग्रेस ने अविभाजित आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अंजैया और पूर्व प्रधानमंत्री पी वी नरसिंह राव जैसे उनके नेताओं के साथ कैसा व्यवहार किया था। अब समय आ गया है कि जनता इन लोगों को सबक सिखाएगी।

केसीआर को लिया आड़े हाथ
भाजपा अध्यक्ष ने केसीआर को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा पहले तेलंगाना राष्ट्र समिति के प्रमुख देश में राज्य विधानसभा और लोकसभा चुनाव एक साथ कराने के पक्ष में थे। लेकिन राजनीतिक स्वार्थ के चलते इन्होंने अपना रुख बदल लिया और समय से काफी पहले विधानसभा भंग कर जनता को धोखा दिया है।

किसी दल से नहीं होगा समझौता
शाह ने साफ किया कि तेलंगाना में किसी भी दल के साथ भारतीय जनता पार्टी समझौता नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि आगामी चुनावों में भाजपा के 'निर्णायक घटक' के रूप में उभरने की उम्मीद है।

'रुके विकास' के मुद्दे पर होगी लड़ाई
अमित शाह ने जनसभा को संबोधित करते हुए प्रदेश में चुनावी बिगुल फूंक दिया है। इस दौरान उन्होंने न सिर्फ विरोधियों पर निशाना साधा है बल्कि, जनता के सामने चुनावी मुद्दों को उकेरा है। शाह ने साफ किया कि इस बार भाजपा प्रदेश में 'रुकी हुई प्रगित' के खिलाफ चुनाव लड़ेगी। यानी तेलंगाना में भाजपा का मुद्दा एक बार फिर विकास होगा। इसके अलावा प्रदेश में किसानों की आत्महत्या, केंद्र की ओर से लागू की गई योजनाओं का प्रदेश में ठीक से लागू न होना जैसे कई मुद्दे पर उनके निशाने पर रहेंगे।

ओवैसी की शाह को चुनौती
उधर...ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन यानी एआईएमआईएमप्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने शाह को हैदराबाद से लोकसभा चुनाव लड़ने की चुनौती दी है। उन्होंने कहा, 'आप हैदराबाद या तेलंगाना में सफल नहीं होंगे, मैं यह कहना चाहूंगा कि आपकी कोई रणनीति है, तो शाह हैदराबाद आएं और यहां से संसदीय चुनाव लड़ें।' ओवैसी ने दावा किया कि बीजेपी हैदराबाद में पांच विधानसभा सीटों के साथ ही सिकंदराबाद लोकसभा सीट बचाने में भी सफल नहीं होगी।

Ad Block is Banned