हरियाणा: चुनाव प्रभारी बनते ही एक्शन में सैलजा, जिताऊ चेहरों को टिकट और बसपा से गठबंधन!

हरियाणा: चुनाव प्रभारी बनते ही एक्शन में सैलजा, जिताऊ चेहरों को टिकट और बसपा से गठबंधन!

Amit Kumar Bajpai | Updated: 11 Sep 2019, 02:04:52 AM (IST) राजनीति

हुड्डा टीम द्वारा तैयार विधानसभा चुनाव का रोडमैप 12 की बैठक में प्रस्तुत करेंगी : सैलजा
कांग्रेस ने टिकट के लिए तय की शर्तें, जीताऊ चेहरों को ही मिलेगी टिकट
सोनिया गांधी के दरवार में बसपा से गठबंधन की हो सकती है चर्चा

चंडीगढ/नई दिल्ली। हरियाणा की राजनीति में अब नव मनोनीत प्रदेश प्रधान कुमारी सैलजा और नए सीएलपी नेता भूपेन्द्र सिंह हुड्डा की जोड़ी नया करने के प्रयास में है ताकि कांग्रेस को नया जीवन मिल जाए। बताते है कि इस जोड़ी ने पार्टी आलकमान को बिना सूचित किए बसपा सुप्रीमो मायावती से भी गठबंधन को लेकर मुलाकात की।

हुड्डा से जुड़े सूत्र कहते हैं कि कांग्रेस का बसपा से चुनावी समझौता हो जाएगा। इसके लिए उनके पास अपना गणित है। जबकि किसी अन्य राजनैतिक दल से समझौता पार्टी आलाकमान की अनुमति बिना हो नहीं सकता। क्योंकि चुनावी गठबंधन की बहुत सी ऐसी बाते हैं, जो आलाकमान ही तय करता है।

यह सब टिकटों के बंटवारे को प्रभावित करने के लिए भी किया जाएगा, ताकि

जबकि दूसरी ओर हरियाणा मामलों के प्रभारी गुलाम नबी आजाद के हवाले से बताया जा रहा है कि हरियाणा में कांग्रेस अपने दम पर अकेले चुनाव लड़ेगी। कांग्रेस किसी भी दूसरी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेगी। इन सूत्रों ने तो हुड्डा और सैलजा की मायावती की मुलाकात से भी इनकार किया है। लेकिन हुड्डा से जुड़े एक सूत्र ने इस मुलाकात की पुष्टि की है।

नई टीम की जिम्मेदारी

इस सूत्र ने बताया है कि पार्टी में परिवर्तन के बाद अब पार्टी को आगे ले जाने की जिम्मेदारी नई टीम पर होगी। इसलिए इस नई टीम का प्रयास रहेगा कि ऐसा कोई काम न किया जाए, जो विधानसभा चुवाओं को प्रभावित करे। इसी रणनीति के तहत भूपेन्द्र सिंह हुड्डा बातचीत के लिए खुद चल कर किरण चौधरी के निवास पर गए। वहां एक घंटे दोनों नेताओं के बीच चर्चा क्या हुई, इसका तो खुलासा नहीं हो पाया है पर बाहर निकल कर दोनों नेता खुश नजर आ रहे थे।

भूपेन्द्र सिंह हुड्डा का एक और शक्ति प्रदर्शन

अब कहा जा रहा है कि हुड्डा टीम विधानसभा चुनाव के लिए रोडमैप तैयार कर रही है। यह रोडमैप कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और सीएलपी नेताओं की 12 सितंबर को होने वाली बैठक में सोनिया गांधी के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा। इस रोडमैप को सोनिया गांधी के सामने प्रदेश प्रधान कुमारी सैलजा प्रस्तुत करेंगी।

ऐसा मानना है कि सैलजा की बात को सोनिया गांधी अधिक गंभीरता से लेती हैं। इसलिए यह जिम्मेदारी सैलजा को सौंपी गई है। हुड्डा के एक विश्वसनीय सूत्र ने बताया है कि सोनिया गांधी को यह बताया जाएगा कि हरियाणा की करीब 45 सीटें जाट प्रभावी सीटें हैं। इन सीटों पर भूपेन्द्र सिंह हुड्डा अपने प्रभाव से भाजपा के रथ को पीछेे धकेल सकते हैं।

सोनिया को करेंगे अपडेट

सोनिया गांधी

इसके अलावा सोनिया गांधी को दलित सीटों के बारे में भी जानकारी दी जाएगी। दलित सीटों पर सैलजा अपने प्रभाव का प्रयोग कर पार्टी को आगे लाएंगी। जाट, दलित और पिछड़े वर्ग का समीकरण प्रदेश की 90 विधानसभा सीटों में से 60 से अधिक सीटों को सीधे रूप से प्रभावित करेगा।

इस बार कांग्रेस चुनाव में इसी लाइन पर चलेगी। बहुत जल्द पार्टी के छोटे अस्थाई संगठन में भी इसी आधार पर पद दिए जाएंगे, ताकि इन वर्गों के वोटरों का विश्वास जीता जा सके। यह सब टिकटों के बंटवारे को प्रभावित करने के लिए भी किया जाएगा, ताकि हुड्डा और सैलजा अपने विश्वसनीय लोगों को टिकट दिलवा सकें।

जिताऊ को ही टिकट

कांग्रेस से जुड़े एक सूत्र का कहना है कि पार्टी इस बार टिकट देने से पूर्व यह यकीनन तय करेगी कि प्रत्याशी चाहे किसी भी गुट से हो, लेकिन अगर जीत की स्थिति में है तो ही सको टिकट दी जाएगी। कांग्रेस की टिकट के लिए इस बार पार्टी प्रत्याशी की वफादारी का भी अपने स्तर पर आंकलन करेगी, ताकि ऐसा न हो कि कांग्रेस की टिकट पर जीत कर चुनाव बाद वो किसी दूसरे दल में न चला जाए। इसलिए टिकट के पैमाने में वफादारी भी मुख्य रहेगी।

हरियाणा विधानसभा का बजट सत्र बुधवार से, शत प्रतिशत उपस्थिति दर्ज करवाने के लिए कसरत कर रहे सभी दल

इसके अलावा टिकटार्थी की आर्थिक हालत भी जांची जाएगी। क्योकि इस बार पार्टी में आर्थिक तंगी के चलते प्रत्याशी की अधिक आर्थिक सहायता नहीं हो पाएगी। ऐसे में प्रत्याशी को अपने साधन ही लगाने होंगे। इस तीन शर्तों पर खरे उतरने वाले प्रत्याशी को टिकट दी जाएगी।

अब देखना होगा कि कांग्रेस की 12 सितंबर की बैठक में क्या निर्णय हो पाता है। बताया यह भी जा रहा है कि इस बैठक में बसपा से गठबंधन पर भी चर्चा हो सकती है।

टिकटों को लेकर कांग्रेस का मंथन शुरू

दूसरी ओर हरियाणा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा और सीएलपी लीडर भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने टिकटों को लेकर सैलजा के आवास पर बैठक कर विचार विमार्श किया।

भूपेंद्र सिंह हुड्डा और शैलजा की करीब तीन घंटे तक बैठक चली जिसमें विधानसभा चुनाव की रणनीति टिकटों पर मंथन और कमेटियों के गठन पर चर्चा हुई। भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा चुनाव का समय है और अब तो बैठकें होती रहेंगी।

भूपेंद्र हुडडा की तुलना जानवर से करने पर दीपेंद्र भड़के

कैबिनेट मंत्री अनिल विज द्वारा भूपेंद्र हुडडा की तुलना जानवर से करने पर दीपेंद्र हुडडा हुडा ने कहा अनिल विज का
बयान बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। मैं इसकी निंदा करता हूं। उन्होंने कहा भूपेंद्र हुडडा की तुलना जंगली जानवर से की गई क्या जनता इसे उचित मानेगी। यह ब्यान भाजपा के घमंड और अहंकार का प्रतीक है और किसी नागरिक की तुलना जानवर से कैसे कर सकते है अनिल विज।

गौरतलब है कैबिनेट मंत्री अनिल विज ने पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा की तुलना जानवर से की थी

केवल राजनैतिक बात करने आए थे पीएम: दीपेंद्र हुड्डा

पीएम मोदी, अमित शाह व जेपी नड्डा सभी रोहतक आ रहे हैं जो कि चंद वोट से भाजपा रोहतक में जीती है इन नेताओं का निरंतर रोहतक आना सरकार के आत्मविश्वाश को दर्शा रहा है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned