scriptयहां इस साल बंद हो जाएंगे 3 इंजीनियरिंग कॉलेज, छात्रों के लिए की गई ये व्यवस्था | 3 engineering colleges will be closed here this year | Patrika News

यहां इस साल बंद हो जाएंगे 3 इंजीनियरिंग कॉलेज, छात्रों के लिए की गई ये व्यवस्था

locationरायपुरPublished: Mar 01, 2024 01:54:28 am

Submitted by:

Dhal Singh

छत्तीसगढ़ व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) 6 जून को प्री-इंजीनियरिंग टेस्ट यानी पीईटी प्रवेश परीक्षा लेगा। अगस्त-सितंबर से इंजीनियरिंग की काउंसलिंग का आगाज होना संभावित है। पिछले साल जहां प्रदेश के 32 कॉलेजों में इंजीनियरिंग की 11481 सीटें थीं, वहीं इस साल इसमें से करीब एक हजार सीटें घट जाएंगी। नए सत्र में तीन इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश नहीं होंगे। दरअसल, प्रदेश के तीन संस्थानों ने सीएसवीटीयू भिलाई को क्लोजर का आवेदन कर दिया है।

यहां इस साल बंद हो जाएंगे 3 इंजीनियरिंग कॉलेज, छात्रों के लिए की गई ये व्यवस्था
छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय (सीएसवीटीयू) भिलाई
छत्तीसगढ़ व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) 6 जून को प्री-इंजीनियरिंग टेस्ट यानी पीईटी प्रवेश परीक्षा लेगा। अगस्त-सितंबर से इंजीनियरिंग की काउंसलिंग का आगाज होना संभावित है। पिछले साल जहां प्रदेश के 32 कॉलेजों में इंजीनियरिंग की 11481 सीटें थीं, वहीं इस साल इसमें से करीब एक हजार सीटें घट जाएंगी। नए सत्र में तीन इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश नहीं होंगे। दरअसल, प्रदेश के तीन संस्थानों ने कॉलेज बंद करने के लिए छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय (सीएसवीटीयू) भिलाई को क्लोजर का आवेदन कर दिया है। सीएसवीटीयू ने इनके क्लोजर आवेदन को प्रोसेस करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है। इनमें प्रोफेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी और एसएसआईटी भिलाई ने कंपलीट क्लोजर का आवेदन किया है। वहीं राजनांदगांव के अशोक इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी द्वारा प्रोग्रेसिव क्लोजर का आवेदन किया गया है। कंपलीट क्लोजर नियम के तहत जहां बंद हो रहे कॉलेज के विद्यार्थियों को दूसरे संस्थानों के पढ़ाया जाएगा। वहीं प्रोग्रेसिक क्लोजर से उक्त कॉलेज तीन साल में खुद ब खुद बंद हो जाएगा। यानी इस साल से इस कॉलेज में नए प्रवेश नहीं होंगे।

अब तक 13 संस्थानों का क्लोजर
इस साल के भीतर छत्तीसगढ़ के 13 कॉलेजों का क्लोजर हो चुका है। अब इन तीन संस्थानों को मिलाकर यह संख्या 16 हो जाएगी। प्रदेश में इंजीनियरिंग की शुरुआत के साथ 42 कॉलेजों का संचालन हुआ करता था, जो अब घटकर नए सत्र में 29 हो जाएगा। साल 2013 में 19,508 सीटों पर प्रवेश दिए गए थे, जो 2023 में घटकर 11481 हो गया। भिलाई के पुराने इंस्टीट्यूशंस ग्रुप ने भी अपने कुछ कॉलेजों को इसी अवधि में बंद किया है। वहीं कुछ इंजीनियरिंग कॉलेज एक-दूसरे में मर्ज किए गए। प्रो. अंकित अरोरा, प्रभारी कुलसचिव, सीएसवीटीयू ने बताया कि इस साल दो कंपलीट और एक प्रोग्रेसिव क्लोजर के आवेदन इंजीनियरिंग कॉलेजों ने दिए हैं। इस हिसाब से करीब 1100 सीटें काउंसलिंग में घटना तय है। इनकी प्रक्रियाएं पूरी की जा रही है।

समझिए एडमिशन के आंकड़े

साल - कुल सीट - प्रवेश - प्रवेश प्रतिशत
2013-14 - 19508 - 13807 - 70.78
2014-15 - 18868 - 10840 - 57.45
2015-16 - 17941 - 9680 - 53.95
2016-17 - 16896 - 8166 - 48.33
2017-18 - 20267 - 6542 - 32.28
2018-19 - 18529 - 5976 - 32.25
2019-20 - 15626 - 4953 - 31.69
2021-22 - 12654 - 5265 - 40.88
2022-23 - 11481 - 3659 - 33.69
टेबल से समझिए परीक्षा तिथि
प्री-एमसीए - 30 मई
पोस्ट बेसिक नर्सिंग - 30 मई
एमएससी नर्सिंग - 30 मई
प्री-बीएड - 2 जून
प्री-डीएलएड - 2 जून
पीईटी - 6 जून
पीपीएचटी - 6 जून
बीएससी नर्सिंग - 13 जून
पीएटी, पीवीपीटी - 16 जून
पीपीटी - 23 जून

ट्रेंडिंग वीडियो