script रायपुर जेल में बंद हिस्ट्रीशीटर की पिटाई करने वाला आरोपी निलंबित, सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था Video | Accused who beat up history sheeter lodged in Raipur jail suspended | Patrika News

रायपुर जेल में बंद हिस्ट्रीशीटर की पिटाई करने वाला आरोपी निलंबित, सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था Video

locationरायपुरPublished: Feb 10, 2024 11:14:00 am

Submitted by:

Khyati Parihar

Chhattisgarh News: केंद्रीय जेल रायपुर में हिस्ट्रीशीटर मुकेश गुप्ता की पिटाई करने वाले सहायक अधीक्षक सेवकराम सोनकर को निलंबित कर दिया गया है। साथ ही जेल मुख्यालय में अटैच किया गया है। 24 जनवरी को पिटाई का वीडियो वायरल होने के बाद जेल डीजी राजेश मिश्रा ने जांच के आदेश दिए थे।

raipur_crime_news.jpg
Raipur News: केंद्रीय जेल रायपुर में हिस्ट्रीशीटर मुकेश गुप्ता की पिटाई करने वाले सहायक अधीक्षक सेवकराम सोनकर को निलंबित कर दिया गया है। साथ ही जेल मुख्यालय में अटैच किया गया है। 24 जनवरी को पिटाई का वीडियो वायरल होने के बाद जेल डीजी राजेश मिश्रा ने जांच के आदेश दिए थे। इसकी रिपोर्ट मिलने के बाद जेल डीआईजी एसएस तिग्गा द्वारा निलंबित करने का आदेश जारी किया गया है।
हिस्ट्रीशीटर ने जिस जगह पर वीडियो बनवाया उसे जेल परिसर के अंदर बने बाथरूम के पीछे का बताया गया है। हालांकि जेल प्रशासन ने इससे इंकार कर कोर्ट परिसर में पेशी के दौरान बंदी गृह में इसे बनाने की आशंका जताई है। बता दें कि हिस्ट्रीशीटर मुकेश गुप्ता ने ईडी के प्रकरण में जेल भेजे गए आरोपी के मोबाइल से वीडियो बनाए जाने की बात कही थी। इसमें सहायक अधीक्षक सेवकराम सोनकर पर 50 हजार रुपए देने से मना करने पर पिटाई करने और पेशी निरस्त कराने लंबे समय से उसे परेशान करने का आरोप भी लगाया था। साथ ही मारपीट में हाथ-पैर में लगी चोट को दिखाया था। जेल के भीतर बनाए गए वीडियो वायरल होने के बाद उसे दुर्ग केंद्रीय जेल शिफ्ट कर दिया गया था।
यह भी पढ़ें

Raipur: खुटेरी लेक बना हादसे का हॉट स्पॉट, जलाशय में डूबे तीसरे छात्र का शव दूसरे दिन बरामद..मचा कोहराम

मौखिक आदेशपर पोस्टिंग

सहायक अधीक्षक सेवकराम सोनकर की मूलत: अंबिकापुर जेल में पदस्थापना थी। उसे कांग्रेस शासनकाल में दिसंबर 23 को रायपुर केंद्रीय जेल में लाया गया था। इस पोस्टिंग के लिखित आदेश को लेकर भी संशय है। केवल मौखिक आदेश पर भेजा गया था। उसे ईडी मामले के जेल भेजे गए बंदियों की तीमारदारी में लगाया गया था। राज्य में सत्ता परिवर्तन के बाद उन सभी की वीआईपी सुविधाएं खत्म कर सभी को सामान्य बैरकों में भेज दिया गया है।

ट्रेंडिंग वीडियो