ब्लैक फंगस आंख, नाक, दिमाग के बाद अब फेफड़े और पेट को पहुंचा रहा नुकसान

छत्तीसगढ़ में ब्लैक फंगस (Black Fungus Mucormycosis) के मरीजों में संक्रमण आंख, नाक, मस्तिष्क तक सीमित था लेकिन अब यह फेफड़े, पेट और पेनक्रियाज को भी प्रभातिव कर रहा है।

By: Ashish Gupta

Published: 12 Jun 2021, 09:00 PM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ में ब्लैक फंगस (Black Fungus Mucormycosis) के मरीजों में संक्रमण आंख, नाक, मस्तिष्क तक सीमित था लेकिन अब यह फेफड़े, पेट और पेनक्रियाज को भी प्रभातिव कर रहा है। एम्स में फेफड़े तक पहुंचे संक्रमण की 2-3 सर्जरी भी की जा चुकी है। पेनक्रियाज के अब तक सिर्फ एक केस सामने आया है। विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना से ठीक होने के बाद मरीज की रोग प्रतिरोक्षक क्षमता कम होने की वजह से ब्लैक फंगस पेट के अंदर भी अंगों को प्रभावित करता है, लेकिन ज्यादा खतरा आंख, नाक और मस्तिष्क को रहता है।

यह भी पढ़ें: संक्रमण दर-मृत्यु दर कम, रिकवरी रेट बढ़ा, इसका मतलब यह नहीं कि कोरोना चला गया, बरते ये सावधानियां

इधर, ब्लैक फंगस (म्यूकोरमाइकोसिस) के मरीजों की दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। प्रदेश के दुर्ग, बिलासपुर, रायपुर, रायगढ़, जांजगीर-चांपा, बेमेतरा, बलौदबाजार, महासमुंद व राजनांदगांव, कोरबा, सूरजपुर, कोरिया व बलरामुपर, धमतरी, सरगुजा, बालोद व मुंगेली, कोंडगांव, गरियाबंद और कांकेर आदि जिलों से 285 मरीज मिल चुके हैं। इसमें से 154 की सर्जरी तथा 21 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। ब्लैक फंगस से 18 की अब तक मौत हो चुकी है। इसके अलावा 11 ऐसे मरीजों की मौत हुई है, जिन्हें ब्लैक फंगस तो था लेकिन मौत हार्ट अटैक, निमोनिया आदि दूसरे कारणों से हुई है।

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ के इस गांव में एक परिवार की 4 पीढ़ी के 57 सदस्यों में आधे की दुनिया अंधेरी, एक की पत्नी भी छोड़ गई

एम्स में सबसे ज्यादा मरीज भर्ती
एम्स (AIIMS) में सबसे ज्यादा 150 मरीज भर्ती हो चुके हैं, जिसमें 102 की सर्जरी की जा चुकी है। 10 ठीक होने के बाद डिस्चार्ज हुए हैं। आंबेडकर अस्पताल में 24, भिलाई सेक्टर-9 हॉस्पिटल में 24 तथा बाकी निजी अस्पताल व प्रदेश के अन्य जिलों के मेडिकल कॉलेज में भर्ती होकर इलाज करा रहे हैं। प्रदेश में 11 मई से ब्लैक फंगस के मरीज मिलना शुरू हुए थे, जो धीरे-धीरे बढ़ते जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: ब्लैक फंगस पर AIIMS के निदेशक बोले - यह नई बीमारी नहीं, पहले भी होती थी लेकिन अब ज्यादा मरीज

रायपुर एम्स के निदेशक डॉ. नितिन एम नागरकर ने कहा, ब्लैक फंगस का संक्रमण फेफड़ों में पहुंच रहा है, 2-3 सर्जरी भी की जा चुकी है। एक केस आया है, जिनके पेट में समस्या थी। जिनकी इम्युनिटी कमजोर और डायबिटीक है उनके शरीर के किसी भी अंक तक फंगस पहुंच सकता है। ब्लड के माध्यम से फंगस फैलता है।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned