Navratri 2021: नहीं देखें होंगे ऐसे अनोखे भक्त: माता के इस मंदिर में आते हैं भालू, आरती में होते हैं शामिल

Navratri 2021: माता चंडी (Mata Chandi Temple) मंदिर हमेशा ही श्रद्धालुओं के साथ भालू भी मंदिर परिसर में माता की आरती में शामिल होने पहुंच रहे हैं। यह सिलसिला पिछले कई सालो से अनवरत जारी है।

By: Ashish Gupta

Published: 11 Oct 2021, 10:46 AM IST

रायपुर. Navratri 2021: शारदीय नवरात्र के शुरू होते ही शक्ति के उपासक अपने मनवांछित फल की कामना लेकर देवी मंदिरों में माता के दर्शन लिए उमड़ पड़ते हैं, ऐसा ही दृश्य महासमुंद जिले अंतर्गत बागबाहरा के घुंचापाली स्थित मां चंडी देवी के मंदिर का भी है कोरोना गाइडलाइन के चलते मंदिर में आने वाले लोगों की संख्या निर्धारित कर दी गई है।

माता चंडी मंदिर हमेशा ही श्रद्धालुओं के साथ भालू भी मंदिर परिसर में माता की आरती में शामिल होने पहुंच रहे हैं। यह सिलसिला पिछले कई सालो से अनवरत जारी है। पहले आधा दर्जन से ज्यादा भालुओं मंदिर में आते थे, श्रद्धालुओं के बीच पूजा में शामिल होने पहुंच रहे इन भालुओं ने अभी तक किसी को कोई क्षति तो नहीं पहुंचाई है, लेकिन माता के प्रति लोगों में धार्मिक आस्था को बढ़ाने का काम जरूर किया है।

कोरोना संक्रमण में माता के दरबार में पहुचते थे भालू
पिछले साल कोरोना संक्रमण की वजह से मां चंडी का दरबार सूना है, मंदिर में हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ हुआ करता, कोरोना संक्रमण काल में भी भालुओं का परिवार माता रानी की आरती के समय रोजाना मंदिर पहुंच जाया करता था। आरती में शामिल होने के बाद फिर जंगल में वापस चले जाते थे।

चार भालुओं की मौत पांच साल में
छ: भालुओं का परिवार रोजाना मंदिर परिसर भ्रमण करते थे। लेकिन अचानक 2015 में दो भालुओ की कंरट लगने से मौत हो गया। ऐसे ही 2019 में एक नर भालु जो 13 साल से रोजाना चंडी मंदिर पहुंचकर प्रसाद खाने वाले मंदिर परिसर से 300 मीटर दूर खेत में उसकी लाश मिली,इसके अलावा अप्रेल 2021 में भालू का एक शावक का शव मंदिर परिसर से 600 मीटर दूर मिला था।

पशु बलि की मनाही
मां चंडी मंदिर में पशुबलि पूर्ण रुप से प्रतिबंध है, माता चंडी को सिर्फ फल-फूल, साड़ी, श्रृंगार सहित नारियल चढ़ाकर पूजा-अर्चना की जाती है, यहां जो भी अपनी मन्नतें लेकर आता है, माता रानी उसे पूरा करती हैं। सभी की मनोकामना पूरी होने की मान्यता नवरात्र में मां चंडी के दर्शन करने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं।

यह भी पढ़ें: Navratri 2021: नवरात्रि का छठवां दिन आज: शीघ्र विवाह के लिए ऐसे करें मां कात्यायनी की आराधना

यह भी पढ़ें: Navratri 2021: नवरात्रि के बीच में पीरियड आ जाए तो कैसे करें व्रत और पूजा, जानें सभी नियम

यह भी पढ़ें: Navratri 2021: नवरात्रि में अखंड ज्योति किस दिशा में जलाएं, जानें विधि, महत्व और लाभ

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned