scriptChild labour: पारले जी बनाने वाली कंपनी से छुड़ाए 21 बच्चे, बाहर लिखा था- बाल श्रम अपराध, अंदर बच्चों से करा रहे थे काम | Child labour 21 children rescued from Parle G manufacturing company | Patrika News
रायसेन

Child labour: पारले जी बनाने वाली कंपनी से छुड़ाए 21 बच्चे, बाहर लिखा था- बाल श्रम अपराध, अंदर बच्चों से करा रहे थे काम

Child labour: भोपाल से लगे औद्योगिक नगर मंडीदीप में दो फैक्ट्रियों के काम कर रहे 36 नाबालिग बच्चों को छुड़ाया गया…

रायसेनJun 14, 2024 / 08:03 pm

Shailendra Sharma

CHILD LABOUR
Child labour: भोपाल से सटे रायसेन जिले में आने वाले औद्योगिक नगर मंडीदीप में पुलिस की मदद से राष्ट्रीय बाल संरक्षण विभाग ने बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है। बाल संरक्षण की टीम ने यहां दो फैक्ट्रियों से वहां पर काम कर रहे 36 नाबालिग बच्चों का रेस्क्यू किया है। जिन दो कंपनियों से नाबालिग बच्चों का रेस्क्यू किया गया है उनमें से एक पारले जी के लिए काम करती है इससे 21 व एक अन्य फैक्ट्री से 15 नाबालिग बच्चों को छुड़ाया गया है।

बाहर लगा रखा था बाल श्रम अपराध का बोर्ड

जानकारी के मुताबिक मंडीदीप स्थित न्यू इंडस्ट्रियल एरिया की एलएम बेकर्सल कंपनी जिसमें की पारले जी बनाया जाता है और जीके इलेक्ट्रिकल्स कंपनी से 36 बाल श्रमिको को रेस्क्यू किया गया है। दोनों ही कंपनियों के बाह बड़े-बड़े बोर्ड में बाल श्रम कराना अपराध है लिखा हुआ था लेकिन कंपनी के अंदर बाल श्रमिकों से काम कराया जा रहा था। सभी बच्चों को रेस्क्यू करने के बाद भोपाल भेजा गया है।
यह भी पढ़ें

राधा रानी कंट्रोवर्सी को लेकर पंडित प्रदीप मिश्रा के जले पुतले, सड़कों पर उतरे लोग, देखें वीडियो


एनजीओ से मिली थी सूचना

पता चला है कि राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग को एक एनजीओ के माध्यम से बाल श्रमिकों के फैक्ट्रियों में काम करने की सूचना मिली थी। जिसके बाद ये कार्रवाई की गई है। बता दें कि मंडीदीप में कई फैक्ट्रियां हैं। ऐसे में आशंका है कि अन्य कई कंपनियों में भी बाल श्रम कराया जाता है। ऐसे में उनके ऊपर भी जांच की जा सकती है।

Hindi News/ Raisen / Child labour: पारले जी बनाने वाली कंपनी से छुड़ाए 21 बच्चे, बाहर लिखा था- बाल श्रम अपराध, अंदर बच्चों से करा रहे थे काम

ट्रेंडिंग वीडियो