राजनांदगांव में जापान, तिब्बत से आएंगे बौद्ध भिक्क्षु

Atul Kumar Shrivastva

Publish: Oct, 13 2017 05:18:47 (IST)

Rajnandgaon, Chhattisgarh, India
राजनांदगांव में जापान, तिब्बत से आएंगे बौद्ध भिक्क्षु

कार्यक्रम में पधार रहे भदन्त सदान्द महास्थवीर विश्व शांति की धम्मदेशना देंगे।

राजनांदगांव. भिक्खु संघ १६ अक्टूबर को ६१ वां धम्मचक्र प्रवर्तन दिवस का आयोजन करेगा। इस आयोजन में भारत के अलावा जापान व तिब्बत के बौद्ध भिक्खु शामिल होंगे। आयोजन के पूर्व राजनांदगांव में रैली का आयोजन किया जाएगा।


भिक्खु संघ राजनांदगांव के नेतृत्व में सोमवार 16 अक्टूबर को पद्मश्री गोविंदराम निर्मलकर आडिटोरियम में जिला स्तरीय धम्मचक्र प्रवर्तन दिवस एवं सामूहिक वर्षावास समापन समारोह का आयोजन होगा। आयोजन ेक पूर्व धम्म रैली दोपहर 12 बजे स्टेट स्कूल राजनांदगांव से प्रारंभ होकर नगर भ्रमण करते हुए कार्यक्रम स्थल में पहुंचेगी। उसके बाद विश्व शांति के लिए जापान, तिब्बत व भारत से पधारे विद्वान बौद्ध भिक्खुओं द्वारा विभिन्न बौद्ध संस्कृति होगी व विश्वशांति के लिए पूजा एवं धम्मदेशना दी जाएगी।


कार्यक्रम का उद्घाटन भारत मैत्री स्थापित करने वाले विश्व प्रसिद्ध धम्मदूत भदन्त संघरत्न मानके करेंगे। मुख्य अतिथि अखिल भारतीय भिक्खु संघ के भदन्त सदानंद महास्थवीर एवं विशिष्ट अतिथि भदन्त असाई जापान एवं भदन्त लोबझान तेंबा तिब्बत उपस्थित रहेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता भदन्त धम्मतप मुख्य संयोजक भिक्खु संघ राजनांदगांव करेंगे। कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ के लोकप्रिय संगीत कलाकारों द्वारा बुद्ध भीम गीत एवं नाटक की शानदार प्रस्तुति की जाएगी।


आयोजन सभी धर्म के लिए
भदन्त धम्मतप ने पत्रवार्ता में कहा कि यह कार्यक्रम सभी धर्म के लिए है। सभी जाति, धर्म एवं समाज के लोगों को कार्यक्रम में आने के लिए आग्रह भी किया गया है। इस कार्यक्रम का किसी भी राजनीतिक पार्टी से विरोध भी नहीं है। सभी पार्टियां सकुशल कार्यक्रम में सरीख हो सकती है।


विश्व शांति के संदेश बढ़ेंगे मैत्री संबंध
कार्यक्रम के संयोजक भदन्त धम्मतप ने बताया कि बुद्ध प्राणी मात्रा के कल्याण के लिए 45 साल सोए नहीं, इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए भदन्त संघरत्न मानके भारत-जापान मैत्री संबंध को बढ़ा रहे हैं, जिसके कारण दोनों देशों में मैत्री स्थापित हो रही है एवं लोक कल्याण भी हो रहा है। कार्यक्रम में पधार रहे भदन्त सदान्द महास्थवीर विश्व शांति की धम्मदेशना देंगे।


विदेशों से आने वाले भंते
जापान से आने वाले भदन्त असाई भारतभूमि में विश्व शांति स्तूप का निर्माण कर शांति का संदेश दे रहे हैं। यहां उनके अलावा तिब्बत में तिब्बत भारत में मैत्री संबंध को फैलाने का कार्य कर रहे भदन्त लोबझान तेंबा शामिल होंगे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned