scriptEkadashi May 2022: Mohini Ekadashi Date, Significance and Katha | मोहिनी एकादशी 12 को, जानिए ग्रहों के विशेष संयोग में पड़ रही इस एकादशी को आखिर क्यों कहा जाता है मोहिनी एकादशी! | Patrika News

मोहिनी एकादशी 12 को, जानिए ग्रहों के विशेष संयोग में पड़ रही इस एकादशी को आखिर क्यों कहा जाता है मोहिनी एकादशी!

Mohini Ekadashi 2022: इस साल 2022 में मोहिनी एकादशी 12 मई को गुरुवार के दिन पड़ रही है। सभी एकादशियों में सर्वश्रेष्ठ इस एकादशी के नामकरण की कहानी भी बड़ी अनोखी है।

नई दिल्ली

Updated: May 09, 2022 10:23:33 am

Mohini Ekadashi 2022 Story: मोहिनी एकादशी का व्रत हर साल वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को रखा जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस एकादशी का विशेष महत्व है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा और व्रत का विधान है। इस साल मोहिनी एकादशी 12 मई को गुरुवार के दिन पड़ रही है। इस एकादशी को मोहिनी एकादशी क्यों कहा जाता है इसके पीछे भी एक पौराणिक कथा है। तो आइए जानते हैं इस एकादशी का नाम कैसे पड़ा मोहिनी एकादशी...

Mohini Ekadashi May 2022, मोहिनी एकादशी 2022 व्रत कथा, mohini ekadashi kab hai, mohini ekadashi 2022 date, mohini ekadashi vrat katha, vishnu vrat katha, mohini meaning in hindi, mohini ekadashi ka kya mahatva hai, mohini ekadashi kyon manae jaati hai, समुद्र मंथन की कथा, विष्णु पूजा,
मोहिनी एकादशी 12 को, जानिए ग्रहों के विशेष संयोग में पड़ रही इस एकादशी को आखिर क्यों कहा जाता है मोहिनी एकादशी!

कथा-
पौराणिक मान्यता के अनुसार, समुद्र मंथन के अंत में देवों के वैद्य धन्वंतरी जब अमृत कलश लेकर प्रकट हुए तो असुरों ने इस अमृत कलश को उनसे छीन लिया और फिर आपस में ही अमृतपान के लिए लड़ने लगे। असुरों की इस छीना झपटी को देखते हुए देवताओं को चिंता हो गई कि कहीं अमृत कलश नष्ट ना हो जाए और कोई असुर इसका इस अमृत का पान करके अमरता ना प्राप्त कर ले। भगवान विष्णु भी इस दृश्य को देख रहे थे।

तब भगवान विष्णु ने अमृत कलश को असुरों से प्राप्त करने के लिए मोहिनी रूप धारण किया और जैसे ही असुरों के सामने गए तो सभी असुर उनके इस रूप से मोहित हो उठे। तब असुरों ने आपस में लड़ना भी बंद कर दिया। इसके पश्चात मोहिनी रूप धारण किए भगवान विष्णु ने असुरों से अमृत कलश भी ले लिया।

इसके बाद असुर भी विष्णु जी के मोहिनी स्वरूप से प्रभावित होकर देवताओं का रूप धारण करके उनकी पंक्ति में शामिल हो गए। लेकिन जब भगवान विष्णु देवताओं को अमृत पिला रहे थे तो उस दौरान देवता का रूप धारण किए हुए उनमें से एक असुर का असली रूप सामने आ गया। इसके बाद क्रोध में आकर भगवान विष्णु ने उस असुर का सिर धड़ से अलग कर दिया जिसके बाद राहु-केतु प्रकट हुए।

कहते हैं कि भगवान विष्णु द्वारा मोहिनी रूप धारण करने के कारण ही अमृत कलश असुरों से बच पाया और उस अमृत को देवतागण पी पाए। वहीं जिस दिन यह घटना घटी उस दिन वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी थी। इसलिए इस एकादशी का नाम भगवान विष्णु के मोहिनी स्वरूप पर पड़ा।

इस कारण मोहिनी एकादशी की कथा भगवान विष्णु की विधि-विधान से पूजा और व्रत का बहुत महत्व बताया गया है। माना जाता है कि इस एकादशी का व्रत करने वाला मनुष्य सभी मोह बंधनों से छूटकर मोक्ष को प्राप्त करता है।

यह भी पढ़ें

संपत्ति और सुख-सुविधाओं के मामले में बड़े लकी होते हैं काले और मुलायम बालों वाले लोग, बालों के रंग-लंबाई से जानें व्यक्ति का स्वभाव

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

BJP के नए संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति का गठन, गडकरी व शिवराज की छुट्टी, देखिए कौन-कौन नेता शामिलकिडनैंपिग के आरोपी हैं बिहार के कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह, सरेंडर वाले दिन ही ली शपथ, नीतीश बोले-मुझे जानकारी नहींदिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने लॉन्च किया ‘मेक इंडिया नंबर-1’ कैंपेन, पूछा - आजादी के 75 वर्ष बाद भी हम बाकी देशों से पीछे क्यों?सुप्रीम कोर्ट ने 'रेवड़ी कल्चर' के खिलाफ सभी पक्षों से मांगे सुझाव, 22 अगस्त तक दिया वक्तशिवमोगा तनाव पर कर्नाटक BJP नेता केएस ईश्वरप्पा का विवादित बयान- मुस्लिम यहां शांति से रहे या पाकिस्तान चले जाएंMumbai News: मुंबई में डेंगू, मलेरिया और Swine Flu का तांडव जारी, 7 महीने के भीतर स्वाइन फ्लू से 43 लोगों की मौतICC ने जारी किया '2023-27 FTP' का पूरा कार्यक्रम, देखिए टीम इंडिया का पूरा शेड्यूलकेरल कोर्टः यौन उत्पीड़न की शिकायत पहली नजर में नहीं टिकेगी, जब महिला ने 'यौन उत्तेजक' पोशाक पहनी हो
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.