हैकर्स ने नासा NASA के डाटा में भी लगाई सेंध, 500 एमबी डाटा चुराया

हैकर्स ने नासा NASA के डाटा में भी लगाई सेंध, 500 एमबी डाटा चुराया

Deepika Sharma | Publish: Jun, 25 2019 08:13:21 AM (IST) | Updated: Jun, 25 2019 10:23:45 AM (IST) विज्ञान और तकनीक

  • Hacker Data Breach 2018: हैकर्स ने मंगल ग्रह से संबंधित डाटा तक बनाई पहुंच
  • रिपोर्ट के अनुसार हैकर्स ने 500 एमबी डाटा चोरी कर लिया
  • डीएसएन से कनेक्टेड कई नेटवर्क को भी डिस्कनेक्ट किया

 

नई दिल्ली। अक्सर आपने हैकर्स (hacker's) के जरिए बैंक का डाटा ( data ), इंटेलिजेंस ब्यूरो का डाटा ( Intelligence Bureau ) और मोबाइल फोन ( mobile phone ) का डाटा या उससे संबंधित इंफॉर्मेशन ( information ) को चुराने के बारे में सुना होगा, लेकिन अब नासा ( nasa ) भी इन हैकर्स का शिकार हो गया है।

ग्रीनहाउस Greenhouse गैसों का उत्सर्जन बढ़ता रहा, तो भविष्य में डूब जाएंगे दुनिया के ये बड़े शहर

बता दें कि अमरीकी ( American ) अंतरिक्ष ( space ) एजेंसी नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस (नासा) ने अपने सर्वर के हैक होने की जानकारी मीडिया को दी और इस जानकारी को एक अधिकारी ने साझा की थी। एक रिपोर्ट के अनुसार- हैकर्स ने इन डाटा की चोरी करने के लिए गलत तरीके से एजेंसी में एंट्री ली और मंगल मिशन से संबंधित डाटा की चोरी कर ली। यह घटना पिछले साल अप्रैल 2018 में हुई थी।

nasa

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि हैकर्स ने करीब 500 एमबी डाटा चोरी किया है। इसके साथ ही हैकर्स ने एक छोटी-सी डिवाइस (रास्पबेरी पाई) के जरिए नासा के जेट प्रोपल्सन प्रयोगशाला (जेपीएल) के आईटी नेटवर्क को भी सेंध लगा दी।

समुद्र के नीचे अभी भी हैं पीने वाले पानी के स्रोत, शोध में हुआ खुलासा

 

बता दें कि ओआईजी की एक रिपोर्ट में हैकर ने जेपीएल नेटवर्क में जाने के लिए एक शेयर्ड नेटवर्क गेटवे का इस्तेमाल किया। जब इन सब से हैकर्स का जी नहीं भरा तो उसने नेटवर्क तक पहुंच कर जहां-जहां मंगल अभियान से संबंधित जानकारियां मौजूद थीं, वहां भी सेंध लगा दी।

"ट्विंकल-ट्विंकल लिटिल स्टार' गाता है ये समुद्री जानवर जानें कैसे

नासा के जेपीएल विभाग का मुख्य काम सौर मंडल में ग्रहों की परिक्रमा करने वाले उपग्रहों और विभिन्न सैटेलाइट पर नजर रखना है। बता दें डीप स्पेस नेटवर्क, दुनियाभर में मौजूद सैटेलाइट डिश का नेटवर्क है जिसका इस्तेमाल नासा के अंतरिक्ष यान से सिग्नल भेजने और प्राप्त करने के लिए होता है।

nasa

मामले की जांच कर रहे जांचकर्ताओं के अनुसार- जेपीएल के मिशन नेटवर्क तक पहुंचने के अलावा हैकर ने अप्रैल 2018 में जेपीएल के डीएसएन आईटी नेटवर्क तक भी अपनी पहुंच बनाई।

दुनिया में आज ही के दिन लगा था सदी का सबसे लंबा सूर्य ग्रहण

वहीं हैकर ने जेपीएल और डीएसएन से कनेक्टेड कई और नेटवर्क को भी डिस्कनेक्ट कर दिया है। वहीं यह भी डर है कि हैकर कहीं मुख्य सर्वर में भी सेंध ना लगा दें।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned