Jordan murder case : सीसीटीवी फुटेज में दिखे तीन में से दो शूटरों की पहचान, देखे वीडियो

-जांच टीम गिरफ्तारी के प्रयास में जुटी

By: pawan uppal

Published: 24 May 2018, 08:50 AM IST

श्रीगंगानगर.

एसओजी और पुलिस की संयुक्त टीम ने जिम में लगे सीसीटीवी कैमरे में आई फुटेज में दिखाई दिए तीन में से दो शूटरों की पहचान कर ली है। लेकिन तीसरे की पहचान नहीं हो पाई है।


पुलिस सूत्रों की माने तो दोनों अन्तरराजीय आपराधिक गिरोह के लिए काम करते हैं। इसकी आपराधिक पृष्ठभूमि की पड़ताल की जा रही है। इनके ठिकानों के बारे में भी पंजाब-हरियाणा पुलिस से मदद मांगी गई है। एसओजी के आदेश पर पुलिस की एक टीम ने घटना स्थल के आसपास वारदात के समय हुई मोबाइल कॉल को खंगाल रही है ताकि इस गैंग सदस्यों के बीच हुई आपसी बातचीत के कारण उनके मोबाइल नम्बर की जानकारी मिल सके।

 

सोशल मीडिया पर था सक्रिय, फेसबुक पर हैं कई अकाउंट


पल-पल की दिनचर्चा से थे वाकिफ
सूत्रों की माने तो जॉर्डन की दिनचर्चा की पल-पल की जानकारी इस गिरोह के पास थी। वह कितने बजे उठता है, कितने बजे घर से कसरत के लिए बाहर निकलता है। कितने बजे नहाता है, नाश्ता, खाना और दोस्तों से कहां कहां कब कब जाता है। इसकी भनक जॉर्डन को नहीं थी। पुरानी आबादी मोहरसिंह चौक से लेकर मीरा मार्ग पर स्थित जिम तक किस कार में सवार होकर आया था, उसकी शूटरों को जानकारी थी। एसओजी अब यह पड़ताल कर रही है कि इतनी जानकारी जुटाने के लिए इस गिरोह के साथ स्थानीय स्तर पर कौन कौन शामिल था।

 

जिम में एक हिस्ट्रीशीटर की ताबडतोड़ फायरिंग कर हत्या


हर स्तर पर होगी जांच
एसओजी के एडिशन एसपी संजीव भटनागर ने 'पत्रिका' को बताया कि इस मामले की हर स्तर पर जांच की जाएगी। ऐसा कोई पहलू नहीं छोड़ा जाएगा जो मामले को प्रभावित करता हो। उन्होंने दावा किया कि घटना का जायजा लिया जा चुका है। सीसीटीवी फुटेज भी देखी है। गिरोह के सदस्यों की भूमिका और किसने षडयंत्र रचकर हत्या करवाई है।

Show More
pawan uppal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned