scriptराजस्थान विधानसभा चुनाव: 23 में से 11 सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला, सर्वाधिक 76 प्रत्याशी इस विधानसभा सीट में | Patrika News
श्री गंगानगर

राजस्थान विधानसभा चुनाव: 23 में से 11 सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला, सर्वाधिक 76 प्रत्याशी इस विधानसभा सीट में

बीकानेर संभाग के मतदाताओं का सियासी मिजाज भांपने घर से निकला तो बाहर गली में भाजपा के झंडे एवं गले में पटके डाले महिलाओं का समूह दिखा।

श्री गंगानगरNov 23, 2023 / 10:35 am

Nupur Sharma

rajasthan_election_news.jpg

महेंद्रसिंह शेखावत
Rajasthan Assembly Election 2023 : बीकानेर संभाग के मतदाताओं का सियासी मिजाज भांपने घर से निकला तो बाहर गली में भाजपा के झंडे एवं गले में पटके डाले महिलाओं का समूह दिखा। तभी एक युवक आया और झुककर पैर छूते ही कहा-अंकल जी हमारा ख्याल रखना। मैं मुस्कुराते हुए आगे बढ़ गया। गंगानगर विधानसभा क्षेत्र से शुरू हुआ यह सफर कई क्षेत्रों से होते हुए बीकानेर पूर्व में जाकर रुका। अगले दिन भी यह सफर अन्य क्षेत्रों से होता हुआ देर रात श्रीगंगानकर में पूरा हुआ। दो दिन में 1040 किलोमीटर की यात्रा में 20 क्षेत्रों के मतदाताओं के मन की थाह लेने का प्रयास किया। बीकानेर संभाग के चारों जिलों की 24 में से इस बार 23 सीटों पर चुनाव हैं। इनमें त्रिकोण का पेच हर दूसरी सीट पर फंसा दिख रहा है। दर्जनभर सीटों पर टक्कर है, जबकि 11 सीटों पर मामला त्रिकोणीय बना है।

यह भी पढ़ें

देवउठनी एकादशी आज, साल का अबूझ सावा, आज से होगी शुभ और मांगलिक कार्यों की शुरुआत

चूरू जिले में छह विधानसभा क्षेत्र हैं। सुजानगढ़ में मुकाबला भाजपा की संतोष मेघवाल एवं कांग्रेस के मनोज मेघवाल में माना जा रहा है। जिला बनने के फैसले में देरी का असर कांग्रेस प्रत्याशी पर पड़ सकता है। चूरू में भाजपा के हरलाल सहारण एवं कांग्रेस के रफीक मंडेलिया के बीच टक्कर है, जबकि हॉट सीट बनी तारानगर सीट पर भाजपा के राजेन्द्र राठौड़ एवं कांग्रेस के नरेन्द्र बुडानिया के बीच मुकाबला है। चूरू और तारानगर में इस बार परिणाम चौंकाने वाले रह सकते हैं। सादुलपुर में भाजपा की सुमित्रा पूनिया, कांग्रेस की कृष्णा पूनिया तथा बसपा के मनोज न्यांगली के बीच त्रिकोणीय मुकाबला है। सादुलपुर में मतों का बंटवारा हुआ तो बसपा को फायदा पहुंच सकता है। सरदारशहर में भाजपा के राजकुमार रिणवा, कांग्रेस के अनिल शर्मा तथा निर्दलीय राजकरण चौधरी के बीच मुकाबला माना जा रहा है। यहां निर्दलीय ने भाजपा व कांग्रेस दोनों को कड़ी चुनौती दे रखी है। निर्दलीय प्रत्याशी ने ज्यादा सेंधमारी कीतो नुकसान कांग्रेस को होने की चर्चाएं हैं।

बीकानेर जिले में सात सीट हैं। खाजूवाला में मुकाबला भाजपा के डॉ. विश्वनाथ मेघवाल तथा कांग्रेस के गोविंद मेघवाल के बीच ही है। यहां कांग्रेस का विरोध नहीं है, लेकिन कार्यकर्ताओं की उपेक्षा तथा अतिक्रमण हटाने से नाराजगी है। लूणकरणसर में मुकाबला चतुष्कोणीय है। भाजपा के सुमित गोदारा व कांग्रेस के राजेन्द्र मूंड की नींद निर्दलीय वीरेन्द्र बेनीवाल व प्रभुदयाल सारस्वत ने उड़ा रखी है। श्रीडूंगरगढ़ में भी मुकाबला तीन प्रत्याशियों के बीच फंसा है। बीकानेर पूर्व में भाजपा की सिद्धी कुमारी व कांग्रेस के यशपाल गहलोत तो बीकानेर पश्चिम में भाजपा के जेठानंद व्यास और कांग्रेस के बीडी कल्ला के बीच ही मुकाबला है। बीकानेर पूर्व में कांग्रेस का नया चेहरा है जबकि भाजपा प्रत्याशी पूर्व राजपरिवार से हैं। कोलायत में भाजपा के अंशुमानसिंह भाटी, कांग्रेस के भंवर सिंह भाटी व रालोपा के रेवतराम पंवार के बीच घमासान मचा है। रालोपा प्रत्याशी कांग्रेस के वोट बैंक में जितना सेंध लगाएंगे। उतना ही नुकसान होगा। नोखा में भाजपा के बिहारीलाल बिश्नोई और कांग्रेस की सुशीला डूडी में मुकाबला है।

यह भी पढ़ें

मुख्यमंत्री रहते इन दो दिग्गजों ने राजनीति में दुश्मन नहीं, केवल मित्र ही बनाए

हनुमानगढ़ जिले में पांच सीटें हैं। भादरा में मुकाबला भाजपा के संजीव बेनीवाल एवं माकपा के बलवान पूनिया के बीच दिख रहा है। कांग्रेस ने यहां देरी से टिकट फाइनल की, इससे प्रत्याशी प्रचार में पिछड़ते नजर आ रहे हैं। मौजूदा विधायक का विरोध तो नहीं है, लेकिन हर बार चेहरा बदलने की परंपरा हावी रही तो भाजपा की राह आसान हो जाएगी। पीलीबंगा में भाजपा के धर्मेंन्द्र मोची एवं कांग्रेस के विनोद गोठवाल के मध्य मुकाबला है। हनुमानगढ़ में भाजपा के अमित सहू एवं कांग्रेस के विनोद कुमार के साथ निर्दलीय गणेशराज बंसल के चलते मुकाबला रोचक है। कांग्रेस के बागी निर्दलीय ने पार्टी के वोटों में सेंध लगाई तो इसका फायदा भाजपा को हो सकता है। संगरिया में मुकाबला भाजपा के गुरदीप शाहपीनी, कांग्रेस के अभिमन्यु पूनिया, निर्दलीय गुलाब सींवर एवं डॉ. परम नवदीप के बीच है। कांग्रेस ने प्रत्याशी देर से घोषित किया है। यहां भाजपा की बागी निर्दलीय प्रत्याशी भाजपा को टक्कर देती नजर आ रही है। कांग्रेस की बागी निर्दलीय डॉ. परम कांग्रेस के वोटों में सेंध लगाएगी।

श्रीगंगानगर जिले में छह सीटें हैं, लेकिन पांच पर चुनाव है। इनमें गंगागनर में भाजपा के जयदीप बिहाणी, कांग्रेस के अंकुर मिगलानी एवं निर्दलीय करुणा चांडक के बीच त्रिकोणीय जंग है। श्रीगंगानगर में निर्दलीय कांग्रेस की बागी है, जिसका फायदा भाजपा को हो रहा है। सादुलशहर में इस बार भी मुकाबला भाजपा के गुरवीर सिंह, कांग्रेस के जगदीश जांगिड़ एवं निर्दलीय ओम बिश्नोई के बीच है। निर्दलीय कांग्रेस के बागी हैं, इस कारण कांग्रेस को नुकसान का अंदेशा है। रायसिंहनगर में भाजपा के बलवीर लूथरा, कांग्रेस के सोहन नायक तथा माकपा के श्योपतराम के बीच टक्कर है। कांग्रेस में भीतरघात की आशंका है। अगर वह हुई तो फायदा भाजपा को होने के आसार हैं। सूरतगढ़ में मुख्य मुकाबला भाजपा के रामप्रताप कासनिया एवं कांग्रेस के डूंगरराम गेदर के बीच है, लेकिन जेजेपी के पृथ्वीराज मील, निर्दलीय राजेन्द्र भादू व बसपा महेन्द्र भादू मामले को बहुकोणीय बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे। सूरतगढ़ में ज्यादा प्रत्याशी होने तथा भाजपा का निर्दलीय बागी होने से कांग्रेस प्रत्याशी मजबूत हुए हैं।

https://youtu.be/PYZmcb7AyRg

Hindi News/ Sri Ganganagar / राजस्थान विधानसभा चुनाव: 23 में से 11 सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला, सर्वाधिक 76 प्रत्याशी इस विधानसभा सीट में

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो