Video: अगर बड़ा नेता बनना है तो एसपी और कलेक्टर का कॉलर पकड़ो- कवासी लखमा

Video: अगर बड़ा नेता बनना है तो एसपी और कलेक्टर का कॉलर पकड़ो- कवासी लखमा
अगर बड़ा नेता बनना है तो एसपी और कलेक्टर का कॉलर पकड़ो- कवासी लखमा

Karunakant Chaubey | Publish: Sep, 09 2019 06:32:55 PM (IST) | Updated: Sep, 09 2019 06:43:11 PM (IST) Sukma, Sukma, Chhattisgarh, India

Controversial statment of Kawasi Lakhma: छत्तीसगढ़ प्रदेश के आबकारी और उद्योग मंत्री कवासी लखमा का छात्रों से बात-चीत के दौरान नेता बनने के लिए बहुत ही अजीबोगरीब सुझाव दिया है

सुकमा.Controversial statment of Kawasi Lakhma: छत्तीसगढ़ प्रदेश के आबकारी और उद्योग मंत्री कवासी लखमा का छात्रों से बात-चीत के दौरान नेता बनने के लिए बहुत ही अजीबोगरीब सुझाव दिया है। एक समारोह में किसी बच्‍चे ने पूछा कि बड़ा नेता कैसे बना जाए? इस पर लखमा ने बच्चों से कहा कि यदि बड़ा नेता बनना है तो एसपी और कलेक्टर की कॉलर पकड़ो।

कांग्रेस राजनीतिक षड्यंत्र के तहत अंतागढ़ केस में उछाल रही है मेरा नाम- रमन सिंह

आबकारी और उद्योग मंत्री कवासी लखमा के इस बयान का वीडियो सामने आया है।जानकारी के अनुसार वीडियो सुकमा जिले के पवनार के एक स्कूल में शिक्षक दिवस पर शूट किया गया था, जो सोमवार को सामने आया। जैसे ही मंत्री ने यह बात कही उनके साथ बैठे छात्र और मौजूद लोग हंसने लगे।

पहले भी दे चुके हैं विवादित बयान

लखमा सुकमा जिले की कोंटा सीट से पांच बार से विधायक हैं। इससे पहले भी वह अपने विवादास्पद बयान के कारण चर्चा में रहे हैं। लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने लोगों से evm में कांग्रेस को वोट देने की बात कही थी। उन्होंने कहा था की एवं EVM में कांग्रेस के अलावा किसी और को वोट देने पर बिजली के झटके लगेंगे।

अचार संहिता उल्लंघन पर भड़के रमन सिंह, कहा- कलक्टर को आंखों से यदि कम दिखता है तो बदल लें चश्मा

 

आपको बता दें कि सन 2013 में जब नक्सलियों ने झीरम घाटी में कांग्रेस नेताओं के काफिले पर हमला किया था, तब छत्तीसगढ़ कांग्रेस के लगभग पूरे शीर्ष नेतृत्व को मार दिया गया था, लेकिन लखमा वहां से जीवित बचे थे. बाद में इस मामले को लेकर उनसे पूछताछ भी की गई थी. लेकिन सबूतों के अभाव में जांच एजेंसी ने उनका नाम हटा दिया था।

नहीं पढ़ पाए थे अपना शपथ पत्र

राज्य में भूपेश बघेल की सरकार बनने के बाद जब उन्हें मंत्री पद की सपथ दिलाने के लिए बुलाया गया तो वो अपना सपथ पत्र तक नहीं पढ़ पाए थे। जिसके बाद उनकी काफी आलोचना हुई थी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned