यहां मंदिर में विराजे हनुमान जी बताते हैं लोगों का भविष्य, अद्भुत है यहां का चमत्कार

यहां मंदिर में विराजे हनुमान जी बताते हैं लोगों का भविष्य, अद्भुत है यहां का चमत्कार

Tanvi Sharma | Publish: Nov, 24 2018 04:59:27 PM (IST) मंदिर

यहां मंदिर में विराजे हनुमान जी बताते हैं लोगों का भविष्य, अद्भुत है यहां का चमत्कार

भले ही ईश्वर का आकार-प्रकार ना दिखता हो लेकिन फिर भी उनकी शक्तियां हमें महसूस जरुर होती है। ऐसा ही एक हनुमान जी का मंदिर है जिसका चमत्कार राज्य नहीं बल्कि पूरे देश में विख्यात है। यहां मंदिर के सामने से निकलने के पहले ही ट्रेन की स्पीड कम हो जाती है। यह चमत्कारी मंदिर मध्यप्रदेश के शाजापुर जिले के बोलाई गांव में स्थित है। मंदिर को सिद्धवीर खेड़ापति हनुमान मंदिर के नाम से जाना जाता है। करीब 300 साल पुराना मंदिर लोगों के आस्था का प्रमुख केंद्र है। यह देश का एकमात्र ऐसा मंदिर है जहां हनुमान जी की प्रतिमा के साथ गणेश जी भी विराजमान हैं। जी हैं, यहां हनुमान जी की प्रतिमा के बाईं तरफ गणेश जी की मूर्ति स्थापित है। लोगों का मानना है कि इस मंदिर में एक साथ गणेश जी और हनुमान जी की प्रतिमा होना बड़ा शुभ है। इसलिए यहां आने वाले सभी भक्तों की मुराद जरुर पूरी होती है।

 

khedapati hanuman mandir

श्री सिद्धवीर खेड़ापति हनुमान मंदिर रतलाम-भोपाल रेलवे ट्रैक के बीच बोलाई स्टेशन से करीब 1 किमी दूर है। ये मान्यता है कि यहां आने वाले लोगों को भविष्य की घटनाओं का पहले ही अंदाजा लग जाता है। इस मंदिर से कई चमत्कार जुड़े हुए हैं। मंदिर का सबसे बड़ा चमत्कार यह है कि मंदिर के सामने से जब भी कोई भी ट्रेन निकलती है तो उसकी स्पीड अपने आप कम हो जाती है। ट्रेन के लोको पायलट का कहना है की मंदिर आने के पहले ही अचानक उन्हें ऐसा लगता है मानो कोई उनसे ट्रेन की स्पीड कम करने के लिए कह रहा है। यदि कोई ड्राइवर इसे नजरअंदाज करता है तो अपने आप ही ट्रेन की स्पीड कम हो जाती है। इसके अलावा मंदिर को लेकर एक अोर मान्यता यह भी है की मंदिर की एक अन्य मान्यता ये है कि यहां भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। यहां हर शनिवार, मंगलवार और बुधवार को दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं।

khedapati hanuman mandir

पुजारी बताते हैं कि कुछ समय पहले रेलवे ट्रैक पर दो मालगाड़ी टकरा गईं थी। बाद में दोनों गाड़ियों के लोको पायलट ने बताया था कि उन्हें घटना के कुछ देर पहले अनहोनी का अहसास हुआ था। उन्हें ऐसा लगा था मानो कोई ट्रेन की रफ्तार कम करने के लिए कह रहा था। उन्होंने स्पीड कम नहीं की औऱ इस कारण आमने-सामने की टक्कर हो गई थी। हनुमान जी के इस मंदिर को लेकर लोगों का मानना है कि मंदिर में विराजे हनुमान जी लोगों का भविष्य बताते हैं। भक्तों का मानना है की जो भी यहां आता है, उसे अपने जीवन में आने वाली घटनाओं का पूर्वाभास हो जाता है। कई लोगों को इसका अहसास भी हुआ है। तब से लोगों का मंदिर और हनुमान जी के प्रति विश्वास और भी बढ़ गया।

वैसे तो मंदिर का कोई प्रमाणित इतिहास नहीं मिलता है। लेकिन मंदिर का निर्माण 300 साल पहले ठा. देवीसिंह ने करवाया था। यहां वर्ष 1959 में संत कमलनयन त्यागी ने अपने गृहस्थ जीवन को त्याग कर उक्त स्थान को अपनी तपोभूमि बनाया और यहां पर उन्होंने 24 वर्षों तक कड़ी तपस्या कर सिद्धियां प्राप्त की थी। इसलिए यह मंदिर बहुत ही सिद्ध मंदिर माना जाता है।

Ad Block is Banned