यहां गिरी थी मां सती की बाईं आंख, दर्शन मात्र से दूर हो जाती है आंखों की पीड़ा

यहां गिरी थी मां सती की बाईं आंख, दर्शन मात्र से दूर हो जाती है आंखों की पीड़ा

Devendra Kashyap | Publish: Sep, 30 2019 12:11:13 PM (IST) | Updated: Sep, 30 2019 12:13:03 PM (IST) मंदिर

मां चडिका मंदिर के पूर्व और पश्चिम में श्मशान है। इन्हें 'श्मशान चंडी' के नाम से भी जाना जाता है।

भारतवर्ष में देवी मां के कई मंदिर हैं। इन मंदिर में एक मां चंडिका का मदिर भी है। इस मंदिर को देवी के 51 शक्तिपीठों में एक माना जाता है। कहा जाता है कि यहां पर देवी सती की बाईं आंख गिरी थी। मान्यता इस मंदिर में पूजा करने वालों की आंखों की पीड़ा दूर हो जाती है।

chandika_sthan_munger123.jpg

मां चंडिका का मंदिर बिहार के मुंगेर में स्थित है। जिला मुख्यालय से लघभग चार किलोमीटर दूर गंगा किनारे मां चडिका का मंदिर है। इस मंदिर के पूर्व और पश्चिम में श्मशान है। यही कारण है कि इसे 'श्मशान चंडी' के नाम से जाना जाता है। नवरात्र के दौरान यहां साधक तंत्र सिद्धि को लिए आते हैं।

chandika_sthan_munger.jpg

वैसो तो यहां सभी लोग आते हैं लेकिन आंखों के असाध्य रोग से पीड़ित लोग सबसे ज्यादा आते हैं। माना जाता है कि माता के मंदिर के काजल लगाने से नेत्र रोगियों के विकार दूर हो जाते हैं। यही कारण है कि यहां आने वाले श्रद्धालु प्रसाद के तौर पर यहां से काजल ले जाते हैं।

chandika_sthan_munger12.jpg

स्थानीय लोग बताते हैं कि नवरात्र के दौरान सुबह तीन बजे से ही माता की पूजा शुरू हो जाती है और संध्या में श्रृंगार पूजन किया जाता है। मां के इस विशाल मंदिर परिसर में काल भैरव, शिव परिवार के अलावा अन्य देवी-देवताओं के भी मंदिर है, जहां श्रद्धालु पूजा करते हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned