scriptआखिर बिना मौताणा हुआ समझौता, चौथे दिन उठाए तीनों मृतकों के शव | Patrika News
उदयपुर

आखिर बिना मौताणा हुआ समझौता, चौथे दिन उठाए तीनों मृतकों के शव

वैवाहिक कार्यक्रम में शराब पीने के बाद तीन लोगों की मौत का मामला

उदयपुरJun 01, 2024 / 01:13 am

Shubham Kadelkar

हाथ मिलाकर एक-दूसरे से वचन निभाते पंच

कोटड़ा(उदयपुर). कोटड़ा के सावन क्यारा गांव में बीते सोमवार शाम को आयोजित वैवाहिक कार्यक्रम में शराब पीने के बाद तीन लोगों की तबीयत बिगड़ने से हुई मौत के चौथे दिन शुक्रवार को आखिरकार परिजन हॉस्पिटल से शव ले जाने के सहमत हुए। यहां पंच और मौतबीरों की मौजूदगी में वर और वधु दोनों पक्षों के बीच दिनभर सामाजिक स्तर पर चली वार्ता सफल रही। जिसमें बिना मौताणा पर सहमति बनी। इसके बाद देर शाम परिजन तीनों के शव को अपने घर ले जाने के लिए रवाना हुए।

यह था मामला

कोटड़ा के सावन क्यारा निवासी चतरा पुत्र पुनापारगी के पुत्र कालिया की सगाई बोर्डी खुर्द निवासी लालु पुत्र सवा गमार की पुत्री हिना के साथ तय हुई थी। सगाई के बाद सोमवार को वधु पक्ष के परिजन और नजदीकी रिश्तेदार सावन क्यारा पहुंचे। जहां वैवाहिक कार्यक्रम का भोजन रखा हुआ था। शाम के वक्त नॉनवेज और शराब परोसी गई। जिसमें बीयर, अंग्रेजी शराब और देसी महुआ शराब शामिल थी। कार्यक्रम में 200 से ज्यादा लोग शामिल थे। भोजन और शराब पीने के बाद करीबन 40 से ज्यादा लोगों की तबीयत बिगड़ गई।सभी लोगों को देर शाम उल्टी, चक्कर आना, घबराहट शुरू हुई और तबीयत बिगड़ती चली गई। मंगलवार सुबह होते-होते बोर्डिखुर्द निवासी बाबू पुत्र चेना गमार, गोंदलवाड़ा निवासी मसरू पुत्र जोवनागमार एवं अमिया पत्नी दिवा पारगी की उपचार के लिए हॉस्पिटल ले जाते समय मौत हो गई। इन तीनों के शव को कोटड़ा सीएचसी की मोर्चरी में रखवाया गया था। बोर्डिखुर्द और गोंदलवाड़ा गांव के 24 मरीजों को कोटड़ा में सीएचसी भर्ती करवाया गया था। वहीं, सावन क्यारा गांव के 16 लोगों को परिजन अपने स्तर पर निजी वाहनों से गुजरात के खेड़ब्रह्म और ईडर चिकित्सालय ले गए, जहां उनका उपचार जारी है।

वार्ता में हुए ये निर्णय

कोटड़ा सीएचसी की मोर्चरी के बाहर चली वार्ता में वैवाहिक कार्यक्रम के आयोजनकर्ता ने तीनों मृतकों के अंतिम संस्कार के लिए 50-50 हजार रुपए राशि देने की सहमति दी। वहीं, कैबिनेट मंत्री बाबूलाल खराड़ी ने तीनों मृतकों को 1-1 लाख रुपए स्वयं देने व हादसे में बीमार हुए प्रत्येक परिवार के सदस्यों के अस्पताल का खर्च वहन करने की घोषणा की।

Hindi News/ Udaipur / आखिर बिना मौताणा हुआ समझौता, चौथे दिन उठाए तीनों मृतकों के शव

ट्रेंडिंग वीडियो