scriptपुरी से आए पुजारियों ने महाप्रभु जगन्नाथ को 108 घड़ों से कराया महास्नान | Patrika News
उदयपुर

पुरी से आए पुजारियों ने महाप्रभु जगन्नाथ को 108 घड़ों से कराया महास्नान

7 जुलाई को इस्काॅन द्वारा बनवाए भव्य विशेष रथ में ठाकुर जी को विराजमान कर सांवरिया गार्डन से दिन में 3 बजे गाजे-बाजे के साथ विभिन्न मार्गों में विशाल रथयात्रा को भ्रमण कराया जाएगा।

उदयपुरJun 23, 2024 / 03:40 pm

madhulika singh

गुप्तेश्वर नगर,सेक्टर-7 स्थित भगवान जगन्नाथ धाम

गुप्तेश्वर नगर,सेक्टर-7 स्थित भगवान जगन्नाथ धाम

गुप्तेश्वर नगर,सेक्टर-7 स्थित भगवान जगन्नाथ धाम में शनिवार को ज्येष्ठ शुक्ल पूर्णिमा को भगवान जगन्नाथ को 108 स्वर्ण घटों में भरे पवित्र गंगाजल से महास्नान करवाया गया। गुप्तेश्वर नगर विकास समिति अध्यक्ष घनश्याम पालीवाल एवं महामंत्री राकेश कपूर ने बताया कि पुरी, ओडिशा से आए पुजारी भरतदास व सुनील चौबीसा ने परम्परानुसार मंत्रोंच्चार के साथ भगवान जगन्नाथ के (चारों विग्रह बलभद्र ,सुभद्रा ,जगन्नाथ एवं सुदर्शन) का रत्न वेदी से स्नान वेदी तक का गमन करवा कर भगवान को महास्नान करवाया। इसके बाद भगवान का शृंगार कर आरती करवा आमरस का भोग अर्पण कराया गया। तत्पश्चात पुनः आरती कर खिचड़ी भोग अर्पण करवाया गया। इसके बाद पुनः आरती कर राजभोग धराया करवाया गया। अब 14 दिन तक ठाकुरजी की गुप्त सेवा शुरू रहेगी। इस अवसर पर संरक्षक अभय कुमार मिश्रा, महामंत्री राकेश कूपर,कोषाध्यक्ष राजेन्द्र कुमार शर्मा,उपाध्यक्ष शैलेन्द्र मेहता,मंत्री वी.एल. मंडावरा, सचिव गजेंद्र शर्मा,राजाराम शाह,मनीष व्यास एव उत्कल समाज के सरोज डोरा उपस्थित थे।
यहां 14 दिन तक ठाकुरजी की होगी गुप्त सेवा

गंगूकुण्ड स्थित इस्काॅन मंदिर में देवस्नान
गंगूकुण्ड स्थित इस्काॅन मंदिर में देवस्नान
इधर, गंगूकुण्ड स्थित इस्काॅन मंदिर में देवस्नान ज्येष्ठ पूर्णिमा पर शनिवार शाम को भगवान जगन्नाथ, सुभद्रा, बलराम का वैष्णव भक्तों ने ऋषिकेश से मंगवाए गंगाजल से महा स्नान करवाया। प्रबंधक मायापुरवासी ने बताया कि प्रथम ब्रह्मचारियों ने जगन्नाथजी को 35, बलभद्रजी को 33, सुभद्राजी को 22 व शेष 18 सुदर्शनजी को कलशों से स्नान कराया। इस तरह कुल 108 कलशों से मंत्रोंच्चार हरे कृष्ण हरे राम के उद्घोष के साथ जलाभिषेक कराया। भगवान को फूल मालाओं से शृंगार कर नवीन पोशाक धारण करा भक्तों के हाथों से निर्मित 1008 तरह से व्यंजनों का भोग धराकर पंचामृत प्रसाद के साथ परोसा गया।

Hindi News/ Udaipur / पुरी से आए पुजारियों ने महाप्रभु जगन्नाथ को 108 घड़ों से कराया महास्नान

ट्रेंडिंग वीडियो