script अपने ही वार्ड से हारीं माया, चुनाव संचालकों के वार्ड में भी कांग्रेस जीत नहीं सकी | Congress candidate Maya lost from her own ward | Patrika News

अपने ही वार्ड से हारीं माया, चुनाव संचालकों के वार्ड में भी कांग्रेस जीत नहीं सकी

locationउज्जैनPublished: Dec 06, 2023 01:09:20 pm

Submitted by:

aashish saxena

उज्जैन उत्तर में ईवीएम ने चौकाया: मुस्लीम बाहुल्य क्षेत्रों में कांग्रेस को बड़ी लीड मिली थी लेकिन दूसरे वार्डों के गड्डे नहीं भर पाए

Congress candidate Maya lost from her own ward
अपने ही वार्ड से हारीं माया, चुनाव संचालकों के वार्ड में भी कांग्रेस जीत नहीं सकी

उज्जैन उत्तर विधानसभा की इवीएम खुलने के बाद चौकाने वाले परिणाम सामने आए हैं। जहां कांटे की टक्कर माना जा रहा था वहां कांग्रेस को २७ हजार ५६७ मतों से बड़ी हार तो मिली ही, प्रत्याशी और क्षेत्र की पार्षद माया त्रिवेदी अपने गृह व कर्म वार्ड-२२ से ही हार गई हैं। यहां तक कि उत्तर विधानसभा के चुनाव संचालक रहे अनंत नारायण मीणा के गृह वार्ड-७ व राजहुजुरङ्क्षसह के वार्ड-२ में भी कांग्रेस को हार का मुंह देखना पड़ा है।

मतगणना के बाद राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं ने केंद्र वार समीक्षा की है। वार्डवार तैयार मतों की प्रारंभिक लिस्ट अनुसार कांग्रेस ३२ वार्ड में से सिर्फ ९ वार्ड में लीड कायम रख पाई थी, जबकि उत्तर में १४ वार्ड में कांग्रेस के पार्षद हैं। जिन वार्डों में भाजपा ने बढ़त द्बाई उनमें कांग्रेस प्रत्याशी माया त्रिवेदी का गृह क्षेत्र वार्ड क्रमांक-२२ के साथ उनके ससुराल का क्षेत्र वार्ड क्रमांक १ भी शामिल है। ब्राह्मण बाहुल्य क्षेत्र में भी कांग्र्रेस पीछे है। इसको लेकर त्रिवेदी भी खासी अचंभित हैं। इसके विपरित कुछ वार्ड ऐसे भी हैं जहां भाजपा के दिग्गज नेता पाषर्द हैं, बावजूद कांग्रेस प्रत्याशी को वहां से लीड मिली है।

दो भाजपा पार्षदों के वार्ड में कांग्रेस को बढ़त

कांग्रेस को दो ऐसे वार्डों से लीड मिली है जहां भाजपा के पार्षद हैं। यह वार्ड क्रमांक ३ व २८ हैं। वार्ड-३ में भाजपा के पंकज चौधरी वहीं वार्ड-२८ में सत्यनारायण चौहान पार्षद हैं। बताते हैं वार्ड-२८ से पूर्व विधानसभा चुनाव में भी भाजपा प्रत्याशी को कभी जीत नहीं मिली है। इसमें कुछ केंद्र मुस्लीम बाहुल्य हैं।

केडी गेट चौड़ीकरण क्षेत्र में मिली-जुली स्थति

केडी गेट मार्ग चौड़ीकरण वाले क्षेत्र में वार्ड क्रमांक ७, ८,९,१०,११,१३,१४ के अलग-अलग भाग आते हैं। चौड़ीकरण क्षेत्र में मतदाताओं का रूख मिला जुला रहा। कुछ केंद्रों पर कांग्रेस तो कुछ पर भाजपा को बढ़त मिली है।

कहीं दावेदार के वार्ड में जीत कहीं मिली हार

भाजपा से पारस जैन के साथ ही सोनू गेहलोत, जगदीश अग्रवाल, रामेश्वर दुबे, शिवेंद्र तिवारी टिकट की दावेदारी कर रहे थे। इन सभी के वार्डों में भाजपा को जीत मिली है। कांग्रेस से अशोक भाटी, विवेक यादव, नेता प्रतिपक्ष रवि राय, अनंतनारायण मीणा दावेेदारी कर रहे थे। यादव व राय दक्षिण में रहते हैं। जैन समाज बाहुल्य वाले वार्ड-१८ से रवि राय पार्षद हैं, यहां भाजपा के अनिल जैन को जीत मिली है। भाटी के पीपलीनाका क्षेत्र, मीणा के वार्ड-७ से भी कांग्रेस हारी है।

वार्ड जहां कांग्रेस को लीड मिली

वार्ड क्रमांक भाजपा कांग्रेस अंतर
३. ४०७१ ४२९५ २२४
११. २४३ ४३६८ ३९४५
१३ ११८१ ३५३८ २३५७
१४ १२७० ३४३६ २१६६
१९ १७२५ १९३० २०५
२७ २७३ २७०६ २४३३
२८ १६६० २४५६ ७९६
३१ ५३८ २१७१ १६३३
३२ ९६८ २६४२ १६७४


वार्ड जहां कांग्रेस पीछड़ी

वार्ड क्र. भाजपा कांग्रेस अंतर
१. ३०१२ २७२७ २८५
२. ५९३३ १२३४ ४६९९
४ ७९९७ २२७० ५७२७
५. ३४५३ १२२१ २२३२
६. ३६३५ २४४० ११९५
७. ४७४६ ११४६ ३६००
८. २९५७ १३६३ १५९४
९. २९३१ २४७४ ४५७
१० ३५७१ १४८३ २०८८
१२. ४२१९ १८०९ २४१०
१५. २७९५ १२३८ १५५७
१६. ३४०८ १४९८ १९१०
१७. ६९२४ २४९८ ४४२६
१८. २३४० १२६८ १०७२
२०. २२१३ २१६७ ४६
२१. २५४६ १६६१ ८८५
२२. २०५५ १५१६ ५३९
२३. २८३४ १५०८ १३२६
२४. २०९६ ८९८ ११९८
२५. २०२७ ८०७ १२२०
२६. २६३४ १८८० ७५४
२९. ३६११ १५१६ २०९५
३३. ३४६५ ११४५ २३२०

(नोट- उक्त जानकारी राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं द्वारा बूथवार संग्रहित मतों के आंकड़ों के आधार पर तैयार प्राथमिक सूचि अनुसार है। इसमें कुछ अंतर संभव है। )

इनका कहना

सभी कार्यकर्ताओं ने जज्बे के साथ कार्य किया है। हनता का काफी अच्छा रिस्पोंस था। वे परिवतर्न चाहते थे लेकिन जिस प्रकार के परिणाम आए हैं, अविश्वसनीय है। जीत दिलाने के जिन स्थानों पर जनता घर से निकलकर आगे आ रही थी, वहां भी कम मत मिलना, असामान्य बात है। मुुझे इवीएम के ट्रेपिंग की आशंका है।'

- माया त्रिवेदी, कांग्रेस प्रत्याशी उज्जैन उत्तर

ट्रेंडिंग वीडियो