Mahakaleshwar Temple: 28 जून से खुलेंगे बाबा महाकाल मंदिर के द्वार, नए नियम जारी

Mahakaleshwar Temple: आपदा प्रबंधन समिति की बैठक में महाकाल मंदिर श्रद्धालुओं के लिए खोलने का निर्णय, नई गाइडलाइन के तहत मिलेगा प्रवेश...।

By: Manish Gite

Updated: 11 Jun 2021, 06:52 PM IST

उज्जैन। कोरोनाकाल में बंद हुए महाकाल मंदिर (Shree Mahakaleshwar Temple, Ujjain) के द्वार 28 जून से खुलने जा रहे हैं। यह आम श्रद्धालुओं के लिए पूरी तरह खुल जाएंगे। इसके लिए नई गाइडलाइन जारी कर दी गई है। इसका सख्ती से पालन किया जाएगा।


Shree Mahakaleshwar Mandir Live Stream

 

28 जून से खुलने वाले बाबा महाकाल के मंदिर में 48 घंटे पहले की आरटीपीसीआर (RTPCR) की रिपोर्ट या वैक्सीन के सर्टीफिकेट लाना जरूरी होगा। तभी प्रवेश मिल सकेगा। इसके अलावा मंदिर परिसर में ही एंटीजन टेस्ट की सुविधा भी शुरू हो रही है, इसकी रिपोर्ट के बाद मंदिर में प्रवेश मिल सकेगा।

 

यह भी पढ़ेंः वैक्सीन लगवाने पर ही महाकाल मंदिर में मिलेगा प्रवेश, लेनी होगी ऑनलाइन प्री-परमिशन

शुक्रवार को आपदा प्रबंधन समिति की बैठक में यह फैसला लिया गया। इस बैठक में उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव, विधायक पारस जैन, सांसद अनिल फिरोजिया, कलेक्टर आशीष सिंह, एसपी सत्येंद्र शुक्ला समेत कई बड़े अधिकारी मौजूद थे।

 

यह भी पढ़ेंः महाकाल में बदली व्यवस्था, तत्काल दर्शन के लिए यहां मिलेगी 250 रुपए की रसीद

पूरी तरह खुलेगा शहर

आपदा प्रबंधन समिति की बैठक में सभी ने उज्जैन शहर को पूरी तरह से अनलॉक करने पर सहमति दे दी है। इसमें अब लेफ्ट और राइट का नियम नहीं रहेगा। शुक्रवार को यह भी फैसला लिया गया कि सुबह 6 बजे से शाम 7 बजे तक पूरा बाजार खुलेगा। वहीं 15 जून से खुलने वाला विश्व प्रसिद्ध महाकाल मंदिर, काल भैरव, हरसिद्धि और मंगलनाथ मंदिर को भी चरणबद्ध तरीके से खोला जाएगा।

 

यह भी पढ़ेंः भक्तों के लिए खुल गए सभी मंदिर, श्रद्धालुओं के लिए यह है नए नियम

 

तीन मंदिरों को छोड़ सभी खुले

आपदा प्रबधन समिति के मुताबिक महाकाल मंदिर समेत तीन अन्य मंदिरों को छोड़ कर सभी मंदिर पूरी तरह से खुल गए हैं। उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह ने कहा कि महाकाल मंदिर काल भैरव और मंगलनाथ मंदिर में न सिर्फ उज्जैन और आसपास के बल्कि बड़ी संख्या में देश-विदेश से भी श्रद्धालु आते हैं, ऐसे में 28 जून से महाकाल मंदिर में आने वालों को वैक्सीनेशन का सर्टीफिकेट, 48 घंटे पहले की आरटीपीसीआर दिखाना जरूरी रहेगा। मंदिर परिसर के बाहर भी एक कोरोना टेस्ट करने वाली यूनिट मौजूद रहेगी, जो श्रद्धालुओं का एंटीजन टेस्टकर तत्काल रिपोर्ट देगी। इसके बाद ही उन्हें मंदिर में प्रवेश मिल सकेगा।

 

यह भी पढ़ेंः महाकाल मंदिर में बदलने वाली है व्यवस्था, जर्मनी से आएंगी 12 खास मशीनें

Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned