अयोध्या के बाद अब काशी पर फोकस, इन मुद्दों पर भी चर्चा करेंगे देशभर के संत

- 2 और 3 जनवरी को काशी में इक्ट्ठा होंगे देशभर के संत
- 'काशी विश्वनाथ मुक्ति' पर मंथन और लव-जिहाद पर भी बनेगी रणनीति

By: Hariom Dwivedi

Updated: 15 Dec 2020, 07:21 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
वाराणसी. अखिल भारतीय संत समिति की राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने 02 और 03 जनवरी को काशी में संतों की बड़ी बैठक बुलाई है। हनुमान प्रसाद पोद्दार, अंध विद्यालय, दुर्गाकुंड में दो जनवरी को सुबह 11 बजे से संतों की बैठक शुरू होगी जो तीन जनवरी को दोपहर तीन बजे तक चलेगी। बैठक में काशी विश्वनाथ मंदिर व राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण पर चर्चा के साथ ही लव जिहाद और हिंदू-पहचान संरक्षण बिल जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर भी चर्चा की जाएगी। इसके अलावा नेपाल में सामाजिक, धार्मिक कूटनीति, काशी काठमांडू, अवध जनकपुरी में संत बैठक पर विमर्श, पुजारी प्रशिक्षण केंद्र और अल्पसंख्यक की परिभाषा आदि के मुद्दों पर चर्चा प्रमुखता से चर्चा की जाएगी।

अखिल भारतीय संत समिति के राष्ट्रीय महामंत्री स्वामी जीतेन्द्रानन्द सरस्वती की तरफ से बैठक में शामिल होने के लिए संतों को आमंत्रण पत्र भी भेजा जा चुका है। संतों के अलावा इस बैठक में आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद के अधिकारी शामिल होंगे। जानकारी के मुताबिक, बैठक के लिए योगगुरु बाबा रामदेव और आर्ट ऑफ लिविंग के प्रमुख श्री श्री रविशंकर को भी आमंत्रित किया गया है।

Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned