script भारत से तनाव के बीच रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा के अवसर पर कनाडा में लिया गया बड़ा फैसला.... | On occasion of Ram Mandir Consecration, big decision taken in Canada | Patrika News

भारत से तनाव के बीच रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा के अवसर पर कनाडा में लिया गया बड़ा फैसला....

locationनई दिल्लीPublished: Jan 22, 2024 04:19:25 pm

Submitted by:

Tanay Mishra

Ram Mandir Consecration: अयोध्या में राम मंदिर में रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा का अनुष्ठान आज पूरा हो गया है। यह एक ऐतिहासिक दिन है और इसी अवसर पर कनाडा में भी एक बड़ा फैसला लिया गया है।

ram_lalla.jpg
Ram Mandir Pran-Pratishtha

भगवान श्री राम की अयोध्या नगरी में आज जश्न का माहौल है। आज, सोमवार, 22 जनवरी को राम मंदिर में रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा का अनुष्ठान पूरा हो गया है। रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा के लिए मंगल ध्वनि के बीच लाल कपड़े पर रखा चांदी का छत्र लेकर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नवनिर्मित राम मंदिर की सीढ़ियों पर चढ़े और 84 सेकंड के अभिजीत मुहूर्त के भीतर संकल्प लेकर प्राण प्रतिष्ठा का अनुष्ठान पूरा किया। इसके बाद वह शेष अनुष्ठानों को पूरा करने के लिए मंत्रोच्चार के बीच मंदिर के गर्भ गृह में चले गए और विधि पूरी की। इस अवसर पर भगवान राम की प्रतिमा का भी अनावरण किया गया। आज 500 साल का इंतज़ार खत्म हो गया है और यह सभी हिंदुओं के लिए एक खास दिन है। पर सिर्फ भारत में नहीं, बल्कि दूसरे देशों में रहने वाले हिन्दुओं के लिए भी। इस अवसर पर कनाडा में भी एक बड़ा फैसला लिया गया।


कनाडा के दो शहरों में 22 जनवरी को विशेष दिन किया घोषित

भारत और कनाडा के बीच पिछले कुछ महीनों से विवाद चल रहा है और इस वजह से दोनों देशों के संबंधों में भी खटास आई है। पर कनाडा में कई हिंदू रहते हैं। ऐसे में कनाडा के ओंटारियो प्रांत में स्थित ओकविल और ब्रैम्पटन शहरों ने आधिकारिक तौर पर 22 जनवरी को विशेष दिन घोषित कर दिया है। ओकविल के मेयर रॉब बर्टन और ब्रैम्पटन के मेयर पैट्रिक ब्राउन ने अपने-अपने शहरों में रहने वाले हिंदुओं का ध्यान रखते हुए उनकी आस्था का मान रखा और रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा के ऐतिहासिक अवसर के दिन को विशेष दिन घोषित कर दिया।

महत्व और मूल्य

ओकविल के मेयर रॉब बर्टन और ब्रैम्पटन के मेयर पैट्रिक ब्राउन, दोनों ने ही अयोध्या में राम मंदिर में रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा को सांस्कृतिक, धार्मिक और ऐतिहासिक दृष्टि से महत्वपूर्ण बताया। साथ ही इस खास और ऐतिहासिक अवसर को शांति, एकता और सद्भाव के मूल्यों का प्रमाण भी बताया।

यह भी पढ़ें

अयोध्या में रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा से पहले मैक्सिको में बना देश का पहला राम मंदिर

ट्रेंडिंग वीडियो