scriptआसमान में बन रहा दुनिया का पहला ‘ड्रोन सुपर हाईवे’! हवा से भी तेज होगी डिलीवरी | World's first drone superhighway opening in Britain | Patrika News
विदेश

आसमान में बन रहा दुनिया का पहला ‘ड्रोन सुपर हाईवे’! हवा से भी तेज होगी डिलीवरी

Drone Super Highway: ये दुनिया का पहला ड्रोन सुपर हाई-वे होगा। इसकी लंबाई 165 मील है। इसे प्रोजेक्ट स्काई-वे नाम दिया गया है। इससे बगैर किसी पायलट के ड्रोन के जरिए पूरे देश में हाई-स्पीड डिलीवरी हो सकेगी।

Mar 30, 2024 / 09:43 am

Jyoti Sharma

Drone Super Highway

Drone Super Highway

लंदन। ब्रिटेन में दुनिया का पहला ड्रोन सुपर हाई-वे (Drone Super Highway) जून से जुलाई के बीच खुलेगा, जिससे पायलट रहित ड्रोन पूरे देश में हाई-स्पीड डिलीवरी कर सकेंगे। ड्रोन सॉफ्टवेयर कंपनी एल्टीट्यूड एंजेल द्वारा विकसित, 165 मील लंबा स्काईवे नेटवर्क मिडलैंड्स में कोवेंट्री को दक्षिणपूर्व में मिल्टन कीन्स से जोड़ेगा। प्रोजेक्ट स्काई-वे के तहत यह आकाश में 10 किमी चौड़ा गलियारा होगा जो अब वास्तविकता बनने के लिए तैयार है। हालांकि, आलोचकों का कहना है कि यह राह में आने वाले लोगों की निजता पर जोखिम बनकर भी मंडरा सकता है। वर्तमान में विशिष्ट परिस्थितियों को छोड़कर ड्रोन को मानव पायलट के बिना नहीं उड़ाया जा सकता है।

जमीन से रास्ता दिखाएंगे एरो टावर्स

ड्रोन सुपर हाई-वे (Drone Super Highway) में 30 ‘एरो टावर्स’ शामिल होंगे जो जमीन से ड्रोन को नियंत्रित कर सकते हैं। साथ में, ये टावर एक वर्चुअल हाई-वे बनाएंगे जो ड्रोन को मानव पायलट की आवश्यकता के बिना सुरक्षित रूप से यात्रा करने की सुविधा देगा। जमीन पर मौजूद प्रत्येक टॉवर एक ‘मानव जासूस’ के रूप में कार्य करता है, जिससे ड्रोन को किसी भी मानव पायलट की दृष्टि से बहुत दूर तक उड़ाया जा सकता है। हर टावर 4 किमी की रेंज देने के साथ ड्रोन को सुपरहाइवे की रेंज से ‘पास’ करेगा ताकि वे लंबी दूरी तक उड़ान भर सकें। हवा में ड्रोन के साथ संचार करके, टावर यातायात का समन्वय करेंगे ताकि इनकी आपस में या किसी अन्य चीज से टक्कर न हों।

निजता से लेकर शोर तक की चिंता

ड्रोन सुपरहाईवे (Drone Super Highway) के आलोचक तीन मुद्दों को लेकर चिंतित हैं: दुर्घटनाएं, शोर और निजता का उल्लंघन। हालाकि, एल्टीट्यूड एंजेल का कहना है कि सुपरहाइवे के अधिकांश यूजर फिक्स्ड-विंग ड्रोन होंगे, जो लगभग साइलेंट उड़ान भरते हैं। वहीं, डेवलपर का दावा है कि 400 फीट की ऊंचाई पर जमीन से शायद ही कोई ड्रोन को देख पाएगा, आवाज सुनना तो दूर की बात है। वहीं, ड्रोन कैमरे या अन्य सेंसर से लैस नहीं होंगे, बल्कि नेविगेशन के लिए पूरी तरह से ग्राउंड टावरों पर निर्भर होंगे, ऐसे में निजता के उल्लंघन की चिंता भी घटती है।

Drone Super Highway क्यों बनाया जा रहा है?

एल्टीट्यूड एंजेल का कहना है कि एक बार जब ड्रोन आसमान में उड़ान भरने वाली अन्य चीजों के साथ लंबी दूरी की सुरक्षित यात्रा करने लगेंगे तो उनका उपयोग अधिक आसानी से किया जा सकता है

Drone Super Highway के होंगे फायदे:

आपातकालीन स्थिति में तुरंत प्रतिक्रिया
आपदा की स्थिति में खोज और बचाव
अंगों और चिकित्सा आपूर्ति का परिवहन
अधिक सुरक्षित, अधिक कुशल सर्वेक्षण करना

ये भी पढ़ें- Foreign Trip: बिना वीज़ा विदेश घूमना चाहते हैं भारतीय, तो यहां जाइये

Hindi News/ world / आसमान में बन रहा दुनिया का पहला ‘ड्रोन सुपर हाईवे’! हवा से भी तेज होगी डिलीवरी

ट्रेंडिंग वीडियो