Agra Bus Accident: जिसने भी हादसे का मंजर देखा, अपने आंसू रोक न पाया, जानिए अब तक का पूरा घटनाक्रम...

सोमवार तड़के यमुना एक्सप्रेसवे पर हुआ भीषण हादसा। बस में करीब 50 लोग सवार थे, 29 की मौके पर मौत। जारी हुआ हेल्पलाइन नंबर।

By: suchita mishra

Updated: 08 Jul 2019, 05:12 PM IST

आगरा। सोमवार तड़के 4:21 बजे यमुना एक्सप्रेसवे पर तेज गति से दौड़ती एक एयरकंडीशन डबलडेकर रोडवेज बस अचानक अनियंत्रित होकर झरना नाले में जा गिरी। जिस समय हादसा हुआ, बस में सवार यात्री नींद में थे। जब तक उन्हें जब तक कुछ समझ में आता, तब तक वे इस दुनिया से रुखसत हो चुके थे। बस में करीब 50 यात्री सवार थे। 29 की मौके पर मौत हो गई। जबकि अन्य घायल यात्री नाले में पड़ी बस में फंसे हुए थे और जोर जोर से बचाने की गुहार लगा रहे थे। लेकिन दूर दूर तक उनकी चीख सुनने वाला कोई नहीं था।

शौच के लिए लोग जंगल पहुंचे, तब हुई घटना की जानकारी
कुछ समय बाद चौगान गांव के कुछ लोग शौच के लिए जंगल में आए तो उन्हें इस हादसे की जानकारी हुई। इसके बाद तो आसपास के गांवों के लोग घटनास्थल की ओर दौड़ पड़े। जिसने भी ये मंजर देखा, उसका दिल दहल गया और अपने आंसू रोक न सका। चंद मिनटों में पुलिस की पीआरवी वैन भी आ गई। सूचना मिलते ही डीएम एनजी रविकुमार और एसएसपी बबलू कुमार समेत कई आलाधिकारी भी घटनास्थल पर पहुंच गए। लेकिन जब तक गांव के लोगों और पुलिस ने बचाव कार्य शुरू किया, तब तक बस में सवार आधे से अधिक यात्री मौत के मुंह में समा चुके थे। एक तरफ मृतकों के शव पड़े थे तो दूसरी ओर घायलों के कराहने की दर्दभरी आवाज पत्थर दिल इंसान को भी पिघला रही थी।


यह भी पढ़ें: Agra bus accident में मृत 29 में से 17 की पहचान, यहां देखें सूची

 

Agra Bus Accident

24 घंटे में घटना की जांच के आदेश
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुघर्टना पर खेद व्यक्त करते हुए मामले का संज्ञान लिया और तत्काल प्रभाव से परिवहन आयुक्त, मंडल कमांडर और आईजी आगरा की एक कमेटी का गठन किया। इस कमेटी को 24 घंटे में घटना की जांच करने के लिए निर्देश दिए गए हैं। यह कमेटी इस तरह की दुर्घटनाओं से बचने के लिए लंबी अवधि की सिफारिशों पर घटना के कारण और रिपोर्ट पर भी रिपोर्ट देगी।

मुआवजे का ऐलान
वहीं मृतकों के परिजनों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पांच-पांच लाख मुआवजा दिए जाने का ऐलान किया है। साथ ही अधिकारियों को राहत-बचाव कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें: Agra bus accident डीएम ने कहा- बस स्पीड में थी और ड्राइवर को नींद आ गई, 29 मृतकों में डेढ़ साल की बच्ची भी, देखें वीडियो

Agra Bus Accident

घटनास्थल पर पहुंच रहे उपमुख्यमंत्री
जानकारी के अनुसार घटनास्थल का मुआयना करने के लिए प्रदेश के उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह, परिवहन आय़ुक्त भी आगरा आ रहे हैं।

29 शव निकाले जा चुके
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बबलू कुमार के मुताबिक अभी तक 29 शव निकाल लिए गये हैं। यह संख्या बढ़ भी सकती है। 15 से 20 घायलों को बस से निकाल कर अस्पताल भेज दिया गया है। घायलों में कुछ की हालत गंभीर है। मृतकों की शिनाख्त कराई जा रही। दुर्घटनाग्रस्त बस को क्रेन की मदद से बाहर निकाला जा रहा है।

 

जारी हुआ हेल्पलाइन नंबर
रोडवेज बस हादसे का टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर-18001802877 जारी हो गया है। आरएम के फोन नंबर 9412781886 पर भी किसी सूचना के लिए सपर्क कर सकते हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जगत ने किया ट्वीट
हादसे के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ ने इस बारे में सीएम योगी आदित्यनाथ से बात की है। साथ ही उन्होंने जिला मजिस्ट्रेट से बात कर घायलों के समुचित इलाज के निर्देश दिए। वहीं भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने भी इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना पर दुख प्रकट किया है। उन्होंने ट्वीट करके कहा है कि शोक संतप्त परिवारों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना हैं। मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं।

पीएम मोदी भी आहत

दिल दहला देने वाली इस घटना से पीएम मोदी भी आहत हुए हैं। पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा है। 'उत्तर प्रदेश के आगरा में हुए बस हादसे से आहत हूं। जिन्होंने अपने प्रियजनों को इस हादसे में खोया है, उन परिवारों के प्रति मेंरी संवेदना है। मैं कामना करता हूं कि घायल लोग जल्द स्वस्थ हों। राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन हादसे से प्रभावित लोगों को हर संभव सहायता प्रदान कर रहे हैं। पीएम मोदी के अलावा गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत तमाम अन्य मंत्रियों व नेताओं ने भी ट्वीट कर अपनी संवेदनाएं व्यक्त की हैं।

 

 

Show More
suchita mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned