script शहीद कैप्टन शुभम गुप्ता का पार्थिव शरीर पहुंचा आगरा, वीर सपूत को अंतिम विदाई देने उमड़ा जनसैलाब | Martyr Captain Shubham Gupta mortal remains reached Agra | Patrika News

शहीद कैप्टन शुभम गुप्ता का पार्थिव शरीर पहुंचा आगरा, वीर सपूत को अंतिम विदाई देने उमड़ा जनसैलाब

locationआगराPublished: Nov 24, 2023 05:07:01 pm

Submitted by:

Aniket Gupta

Martyr Captain Shubham Gupta: शहीद कैप्टन शुभम गुप्ता का पार्थिव शरीर आगरा पहुंच चुका है। पार्थिव शरीर लेकर सेना के जवान ताजगंज के प्रतीक एन्क्लेव स्थित आवास पहुंचे हैं। आगरा के वीर सपूत को अंतिम विदाई देने बड़ी संख्या में लोग पहले से ही उनके आवास पर मौजूद थे।

caption_shubham_gupta_martyr.jpg
Martyr Captain Shubham Gupta: शहीद कैप्टन शुभम गुप्ता का पार्थिव शरीर आगरा पहुंच चुका है। पार्थिव शरीर लेकर सेना के जवान ताजगंज के प्रतीक एन्क्लेव स्थित आवास पहुंचे हैं। आगरा के वीर सपूत को अंतिम विदाई देने बड़ी संख्या में लोग पहले से ही उनके आवास पर मौजूद थे। शहीद बेटे की एक झलक पाने को लोग सड़क के दोनों ओर नम आँखों के साथ खड़े दिखे। यहां से शहीद कैप्टन शुभम गुप्ता का पार्थिव शरीर उनके गांव कुआं खेड़ा ले जाया जाएगा। बता दें, बीते बुधवार को जम्मू कश्मीर के राजौरी में आतंकियों से लोहा लेते आगरा के लाल कैप्टन शुभम गुप्ता शहीद हो गए थे।
9 अक्टूबर को था शहीद कैप्टन का जन्मदिन
जानकारी के अनुसार, बीते 9 अक्टूबर को शहीद कैप्टन शुभम गुप्ता का जन्मदिन था। जन्मदिन के मौके पर वे घर पर ही थे। जन्मदिन की पार्टी का जिक्र करते हुए शहीद कैप्टन के भाई ने कहा उनके जन्मदिन पर पूरा परिवार इकट्ठा हुआ था। होटल में धूमधाम से केक काट कर जन्मदिन मनाया गया था। उसके जन्मदिन पार्टी में 'तुम जियो हजारों साल...' वाला गाना बजाया जा रहा था। सभी भाइयों ने शुभम के जन्मदिन के मौके पर उसे इन्हीं कंधे पर उठाकर जश्न मनाया था। लेकिन, किसे पता था कि जिन कंधों पर कैप्टन शुभम को उठाकर डांस किया था, अब उन्हीं कन्धों पर उसे अंतिम विदाई देनी पड़ेगी।
घरवाले शुभम की शादी की तैयारी में थे
शुभम के पिता ने बताया कि बेटा दो दिन बाद ही छुट्टी पर घर लौटने वाला था। पिछले 15 दिनों शुभम एक ही बात कहता था कि एक जरुरी काम है, उसे करके आ रहा हूं। और फिर खबर आई कि बॉर्डर पर आतंकवादियों से लोहा लेते हुए मेरा बेटा शुभम गंभीर रूप से घायल हो गया। और उसका अस्पताल में इलाज चल रहा है। लेकिन, कुछ ही देर बाद उनके शहीद होने की एक और खबर आई। खबर सुनते ही पुरे घर में कोहराम मच गया। हालांकि, इस समय भी शहीद कैप्टन के पिता ने कहा कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है। उसने देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया है। वहीं, परिजनों ने बताया कि घरवाले इस साल उनकी शादी की तैयारी कर रहे थें। लेकिन, किस्मत को कुछ और ही मंजूर था।

ट्रेंडिंग वीडियो