राज्य महिला आयोग की सदस्य ससुराल से पीड़ित महिलाओं से बोलीं आगे मिले कोई परेशानी, तो इस तरह सिखायें सबक

सुमन चतुर्वेदी ने सर्किट हाउस में महिला उत्पीडन से सम्बन्धित पीड़ित महिलाओं की जनसुनवाई की।

By: धीरेंद्र यादव

Published: 07 Jun 2018, 11:05 AM IST

आगरा। महिलाओं पर अपराध कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं। सर्वाधिक मामले ऐसे हैं, जिनमें महिलाएं ससुराल पक्ष से परेशान हैं। ऐसी पीड़ित महिलाओं से उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की सदस्य सुमन चतुर्वेदी ने चर्चा की। उनकी समस्याओं को सुना और उचित कार्रवाई के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने कहा कि कोई परेशानी आए, तो डरे नहीं, बल्कि उनका मुकाबला करें।

ये भी पढ़ें - ट्रेन की बोगी में लगी आग, मच गई अफरा तफरी, देखें वीडियो

यहां हुई जनसुनवाई
उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की सदस्य सुमन चतुर्वेदी ने सर्किट हाउस में महिला उत्पीडन से सम्बन्धित पीड़ित महिलाओं की जनसुनवाई करते हुए कहा कि पीड़ित महिलाओं की समस्याओं का निस्तारण व उनको हक दिलाना आयोग की सर्वोच्च प्राथमिकता है। जन सुनवाई के दौरान सुमन चतुर्वेदी ने अपने दुखः से पीड़ित अधिकांश महिलाओं द्वारा रो कर अपनी व्यथा व्यक्त करने पर कहा कि महिलाएं रोये नहीं, इससे उनकी कमजोरी जाहिर होती है। वे प्रयास करें कि ससुराल में रह कर ही अपने अधिकारों के लिए सघर्ष करें।

ये भी पढ़ें - भारत की विरासत ताजमहल से खतरा तभी हटेगा, जब यूपी सरकार इन 10 सुझावों को अमल में लाएगी

दिए ये निर्देश
जनसुनवाई में रूबी, प्रीति, चंचल यादव, निशा दुबे, साधना बाल्मिकि, प्रियंका चैहान, ममता, किशारी देवी, आशा, प्रमोदनी सहित कुल 14 पीड़ित महिलाओं ने अपनी समस्याओं से सदस्य को अवगत कराया, जिसमें अधिकतर घरेलू हिंसा, दहेज, सास-श्वसुर द्वारा मार-पीट, पति द्वारा मारपीट करना तथा बहू द्वारा सास का उत्पीड़न आदि मामलों पर सुमन चतुर्वेदी द्वारा मामलों को जांच करा कर समस्याओं के निस्तारण के निर्देश दिए गये। सुमन चतुर्वेदी द्वारा प्रत्येक पीड़ितों की समस्याओं के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त की। इस अवसर पर क्षेत्राधिकारी ताज, क्षेत्राधिकारी महिला थाना तथा अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें - ताज महल जानिए क्यों है आतंकियों के निशाने पर, चौंकाने वाला खुलासा

धीरेंद्र यादव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned