scriptPRL, Ahmedabad, Research, saraswati river, Ghaggar river, Harappan | Ahmedabad News पीआरएल की शोध में मिले सरस्वती नदी की मौजूदगी के प्रमाण | Patrika News

Ahmedabad News पीआरएल की शोध में मिले सरस्वती नदी की मौजूदगी के प्रमाण

PRL, Ahmedabad, Research, saraswati river, perennial, Ghaggar river, Harappan civilization, आईआईटी बॉम्बे के साथ मिलकर की गई है नई शोध

 

अहमदाबाद

Published: December 19, 2019 09:31:47 pm

नगेन्द्र सिंह

अहमदाबाद. शहर स्थित भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला (पीआरएल) के वैज्ञानिकों की शोध में इस बात के प्रमाण मिले हैं कि ऋग्वेद और महाभारत में जिस पौराणिक सरस्वती नदी का उल्लेख है उसकी वास्तविक मौजूदगी थी। यह नदी हिमालय के शिवालिक क्षेत्र से निकलकर हरियाणा, राजस्थान, पंजाब और पाकिस्तान के कुछ हिस्से से होकर कच्छ (गुजरात) होते हुए अरब सागर में गिरती थी। यह नदी बारहमासी और पूरे बहाव से बहती थी जिसे आज घग्गर-हकरा नदी कहते हैं।
पीआरएल अहमदाबाद के वैज्ञानिक प्रो.ज्योतिरंजन एस. रे, अनिल शुक्ला, कोलकाता की प्रेसिडेंसी यूनिवर्सिटी के अर्निबान चटर्जी, आईआईटी बॉम्बे के कंचन पांडे की ओर से 'हड्डपन हार्डलैंड में बारहमासी नदी का अस्तित्वÓ नाम की शोध को शोध जर्नल नेचर में साइंटिफिक रिपोर्ट के तहत प्रकाशित किया गया है।
इस नदी के आज से करीब ८० हजार साल पहले से लेकर २० हजार साल तक पहले तक पूरे बहाव के साथ बारहमास बहने के प्रमाण हैं और आज से ९ हजार साल पहले फिर से पुर्नजीवित होकर ४५०० साल पहले तक फिर से बारमास बहे होने के प्रमाण मिले हैं। जो दर्शाता है कि ऋग्वेद और महाभारत में जिस सरस्वती नदी का उल्लेख गंगा, यमुना के साथ किया गया है। वह नदी हकीकत में भारत में थी। इतना ही नहीं, इसका ऊपरी हिमालय के ग्लेशियर के साथ भी जुड़ाव था जो इसके सतलुज नदी के साथ जुड़े होने के कारण था।
वर्ष २०१२ से की जा रही इस शोध में कहा गया है कि नदी के बहाव क्षेत्र से मिले अवशेषों (मध्यम दाने वाली रेत, भूरी महीन दाने वाली रेत-शंख, क्वाटर््ज एवं इसमें से मिले मिनरल्स) के रेडियोकार्बन और ल्यूमिन सेंस डेटिंग से पता चलता है कि यह नदी ९ हजार साल पहले से लेकर ४५०० हजार साल पहले तक घग्गर नदी बारहमासी नदी थी। जो हकीकत में सरस्वती नदी ही है और हड़प्पा काल (सिंधुकालीन सभ्यता) के समय लोगों ने अपनी बस्तियां भी इसके किनारे ही बसाईं थीं। क्योंकि यह नदी अन्य नदियों की तुलना में काफी सामान्य तरीके से बहती थी।
हालांकि, सिंधुघाटी (हड़प्पा) की सभ्यता के परिपक्व होने से पहले ही यह नदी अपना ग्लेशियर कनेक्शन खो चुकी थी।
शहरी हड़प्पा के लोगों ने अगले कुछ शताब्दियों के भीतर घग्गर घाटी में अपनी बस्तियों को छोड़ दिया क्योंकि इस दौरान घग्गर-सरस्वती नदी का प्रवाह असाधारण रूप से परिवर्तित हो गया था। नदी सूख गई। इसके सूखने के साथ और अदृश्य होने के साथ ही सिंधु घाटी की सभ्यता (हड़प्पा सभ्यता) का भी पतन हो गया। इस शोध से इतना जरूर स्पष्ट है कि हड़प्पा सभ्यता सरस्वती नदी के किनारे ही विकसित हुई। इसके भी प्रमाण-मिले हैं।
जबकि कई विद्वानों का मानना था कि हड़प्पावासी (सिंधुघाटी) केवल मानसून पर निर्भर थे, क्योंकि हड़प्पा सभ्यता के दौरान घग्गर (सरस्वती) नदी के निर्बाध प्रवाह से बहने का कोई प्रमाण मौजूद नहीं था।
इस शोध में शोधार्थियों ने अध्ययन करके घग्गर के बारहमासी अतीत के लिए कई प्रमाण भी दिए हैं। जिसमें उन्होंने हरियाणा के सिरसा-फतेहगढ़ से राजस्थान के कालीबंगा, हनुमानगढ़ से लेकर भारत-पाकिस्तान के बॉर्डर पर गंगानगर-अनूपगढ़ तक के करीब ३०० किलोमीटर के इलाके में घग्गर नदी के दोनों किनारे के एक किलोमीटर तक के क्षेत्र में खुदाई कर सबूत जुटाए। जिसमें 10 से 12 मीटर व इसके नीचे तक खुदाई की जिसमें सबसे ऊपरी हिस्से में कीचड़, फिर 10 मीटर से नीचे ग्रे रंग की रेत मिलती है, जिसमें सफेद रंग का माइका भी है। यह रेत ठीक उसी प्रकार की है, जैसी गंगा, यमुना और सतलुज नदी में मिलती है। इसका कैमिकल जांच करने पर स्पष्ट हुआ कि यह रेत उच्च हिमालय ग्लेशियर से संबंध रखती है। इसके अलावा खुदाई के दौरान मिले शंख की रेडियोकार्बन डेटिंग और क्वाट्र्ज मिनरल्स की लुमिन सेंस डेटिंग से सामने आया कि यह नदी ८० हजार साल से २० हजार साल के दौरान तक बही है। इसके अलावा इसके नौ हजार साल पहले फिर से पुनर्जीवित होकर ४५०० साल पहले के दौरान तक भी बहने के प्रमाण मिले हैं।
Ahmedabad News पीआरएल की शोध में मिले सरस्वती नदी की मौजूदगी के प्रमाण
Ahmedabad News पीआरएल की शोध में मिले सरस्वती नदी की मौजूदगी के प्रमाण
Ahmedabad News पीआरएल की शोध में मिले सरस्वती नदी की मौजूदगी के प्रमाण

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नामबिहारः सत्ता गंवाते ही NDA के 3 सांसद पाला बदलने को तैयार, महागठबंधन में शामिल होने की चल रही चर्चा'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्वप्रियंका के बाद अब सोनिया गांधी भी दोबारा हुईं कोरोना पॉजिटिव, तेजस्वी यादव ने कल ही की थी मुलाकातजम्मू कश्मीर में टेरर लिंक मामले में बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार सरकारी कर्मचारी बर्खास्त2009 में UPSC किया टॉप, 2019 में राजनीति के लिए नौकरी छोड़ी, अब 2022 में फिर कैसे IAS बने शाह फैसल?CSA T20 League: राजस्थान रॉयल्स ने जोस बटलर , मिलर, मैककॉय समेत इन खिलाड़ियों को किया शामिल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.