दिनेश कुमार शर्मा

अजमेर.

'यहां नहीं थूकें आलमारी गलने लग गई है' और 'भगवान के लिए यहां नहीं थूकें' ये कुछ ऐसी गुहार हैं जो इन दिनों जिला कलक्टर कार्यालय में दीवारों और आलमारियों पर गुटके की पीक थूकने वालों से की जा रही हैं। सफाई को लेकर जहां देशभर में स्वच्छ भारत-स्वस्थ भारत अभियान चलाया जा रहा है और स्वच्छता सर्वेक्षण के जरिए साफ-सुथरे शहर की रैंकिंग में अव्वल स्थान प्राप्त करने की होड़ मची है, वहीं अजमेर में जिला कलक्टर कार्यालय में कार्रवाई की बजाए गंदगी नहीं करने की गुहार की जा रही है।

जिला कलक्टर कार्यालय की संस्थापन, न्याय, विकास, सामान्य और सरिस्ता शाखा के बाहर रखी अलमारियों को गुटके की पीक से बदरंग कर दिया गया है। हालत यह है कि यहां रखी आलमारियां, दरवाजे और दीवार पीक से रंगी नजर आ रही हैं। इसके चलते आलमारियों पर कागज के पोस्टर चिपकाकर गंदगी नहीं करने का अनुरोध किया जा रहा है। ऐसे में सवाल उठता है कि जब कलक्टर कार्यालय में ही स्वच्छता को लेकर इस तरह गुहार की जाएगी तो लोगों में गंदगी पर जुर्माने और कार्रवाई का डर कैसे पैदा होगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned