scriptसरकारी नोटिसों से उद्यमी परेशान, कामगारों पर संकट | Patrika News
अजमेर

सरकारी नोटिसों से उद्यमी परेशान, कामगारों पर संकट

लघु उद्योग भारती ने पुष्कर में रीको क्षेत्र विकसित करने की मांग उठाई – 10 हजार से अधिक श्रमिक जुड़े हैं कपड़ा कारोबार से अजमेर. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बना चुके पुष्कर में धार्मिक व पर्यटन क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए यूं तो कई प्रोजेक्ट हैं लेकिन यहां संचालित करीब 300 से अधिक लघु उद्योग […]

अजमेरJul 03, 2024 / 11:43 pm

Dilip

readymade garments

readymade garments

लघु उद्योग भारती ने पुष्कर में रीको क्षेत्र विकसित करने की मांग उठाई

– 10 हजार से अधिक श्रमिक जुड़े हैं कपड़ा कारोबार से

अजमेर. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बना चुके पुष्कर में धार्मिक व पर्यटन क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए यूं तो कई प्रोजेक्ट हैं लेकिन यहां संचालित करीब 300 से अधिक लघु उद्योग के विकास के लिए योजना नहीं है। ऐसे उद्योगों को अवैध मानकर नोटिस दिए जा रहे हैं। जिससे यहां कपड़ा व अन्य उद्योगों पर निर्भर करीब 10 हजार से अधिक श्रमिकों के लिए रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है।
प्रदूषण फैलाने का दोषी बता रहेउद्यमियों का कहना है कि राज्य सरकार उद्योगों को बढ़ावा देने व निवेशकों को आकर्षित करने के कार्यक्रम करती है लेकिन पुष्कर में रेडीमेड गारमेंट व सिलाई फैक्ट्री संचालकों को अवैध बताते हुए उन्हें बंद करने की चेतावनी दी जा रही है। ग्रीन जोन बताते हुए उन्हें प्रदूषण का दोषी बताया जा रहा है। जबकि सिलाई व रेडीमेड गारमेंट का धंधा व्हाइट बिजनेस की श्रेणी में आता है। जिससे कोई प्रदूषण या अपशिष्ट नहीं फैलता। ऐसे में उद्यमी परेशान हैं और कामगारों पर संकट है।
उद्यमी परेशान, अफसर खामोश

लघु उद्योग भारती के पदाधिकारियों ने ‘पत्रिका’ को बताया कि पुष्कर में गोयला ग्राम की जमीन पर रीको औद्योगिक क्षेत्र विकसित किया जाना था। लेकिन न्यायालय में प्रकरण लंबित होने से भू आवंटन नहीं हो सका। जिला स्तरीय औद्योगिक शिकायत निवारण तंत्र की बैठकों में नियमित रूप से मांग जा रही थी लेकिन बैठकों में अधिकारियों के नदारद रहने से प्रभावी कार्रवाई नहीं हो रही।
एडीए आयुक्त को बताई पीड़ा. . .

शिष्टमंडल ने एडीए आयुक्त नित्या के. से भेंट कर नए सिरे से भूमि चिन्हीकरण की प्रक्रिया शुरू करने की मांग की है। पुष्कर के सिलाई उद्योग में किसी प्रकार का प्रदूषण नहीं होता इसलिए पुष्कर के इको फ्रेंडली वातावरण के अनुकूल है। यहां का गारमेंट प्रोडक्ट बड़ी मात्रा में निर्यात भी होता है।
इसलिए जरुरी है पुष्कर में औद्योगिक क्षेत्र

पुष्कर में कपड़ा उद्योग बड़ी मात्रा में रोजगार उपलब्ध कराता है। लगभग 250 उद्योगों में 10 हजार से अधिक श्रमिक काम करते हैं। जिनमे बड़ी संख्या महिलाओं की है। इससे पुष्कर में औद्योगिक क्षेत्र का विकास अनुकूल है। प्राधिकरण को ज्ञापन देने गए शिष्टमंडल में अजमेर लघु उद्योग भारती के कुणाल जैन, राजेश बंसल एवं अशोक शर्मा शामिल रहे।

Hindi News/ Ajmer / सरकारी नोटिसों से उद्यमी परेशान, कामगारों पर संकट

ट्रेंडिंग वीडियो