GCA: कमेटी करेगी जांच, तीन दिन में सौंपेगी रिपोर्ट

raktim tiwari

Updated: 26 Sep 2019, 08:18:40 AM (IST)

Ajmer, Ajmer, Rajasthan, India

अजमेर.

सम्राट पृथ्वीराज चौहान राजकीय महाविद्यालय (spc-gca) अभाविप (abvp) के पदाधिकारियों और छात्रनेताओं की अनुशासनहीनता मामले की जांच के लिए उच्च स्तरीय कमेटी (inquiry committee) बनाई गई है। कमेटी शनिवार को दोपहर 3 बजे तक जांच कर प्राचार्य को रिपोर्ट सौंपेगी। इसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

छात्रसंघ अध्यक्ष विकास गोरा और महासचिव हिमांशु गर्ग में छात्रसंघ कार्यालय (student union office) पर नाम लिखने को लेकर कहासुनी हो गई थी। दयानंद कॉलेज छात्रसंघ अध्यक्ष सीताराम चौधरी, अभाविप के प्रदेश प्रांत सहमंत्री मेहुल गर्ग, चैनाराम चौधरी सहित अन्य छात्रों की बातचीत के दौरान प्राचार्य (principal) डॉ. एम. एल. अग्रवाल से बहस हो गई थी। सीओ साउथ डॉ. हर्षवद्र्धन अग्रवाल के निर्देश पर पुलिस ने चार छात्रों को पकड़ा था। छात्रों और प्राचार्य ने परस्पर मुकदमे (FIR)भी दर्ज कराए हैं।

read more: water problems : लोगों ने पानी की परेशानी को लेकर किया प्रदर्शन

कमेटी का गठन
कॉलेज परिसर में हुई घटना को प्रशासन (college administration) ने गंभीरता से लिया है। इसके लिए उच्च स्तरीय कमेटी (committee) गठित की गई है। डॉ. मंजुला मिश्रा की अध्यक्षता वाली कमेटी में मुख्य चुनाव अधिकारी डॉ. एस. के. गोयल, डीन छात्र डॉ. एल. के. व्यास, डॉ. एस. के. गुप्ता सहित सभी विभागाध्यक्ष शामिल किए गए हैं।


कॉलेज में छात्रसंघ पदाधिकारियों और बाहरी छात्रों ने अनुशासनहीनता की है। मामले की जांच के लिए कमेटी बनाई है। कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर फैसला किया जाएगा।

डॉ. एम.एल. अग्रवाल, प्राचार्य एसपीसी-जीसीए

read more: RULES: दिखाना पड़ा आईकार्ड, फिर घुस पाए कॉलेज कैंपस में

कार्ड होगा तो मिलेगा प्रवेश
दयानंद कॉलेज और सम्राट पृथ्वीराज चौहान राजकीय महाविद्यालय में अब बाहरी छात्र और आगंतुक बगैर मंजूरी नहीं जा पाएंगे। बुधवार से दोनों कॉलेज में सख्ती हो गई है। मुख्य द्वारों पर स्टाफ और कर्मचारी तैनात किए गए हैं। आईकार्ड (i-card) जांचने और रजिस्टर में एन्ट्री (entry) के बाद ही विद्यार्थियों-आगंतुकों को प्रवेश दिया जाएगा। एसपीसी-जीसीए में छात्रसंघ अध्यक्ष (president) विकास गोरा और महासचिव (general seceratary) हिमांशु गर्ग में छात्रसंघ कार्यालय पर नाम लिखने को लेकर कहासुनी हो गई थी। इस दौरान पहुंचे दयानंद कॉलेज छात्रसंघ अध्यक्ष सीताराम चौधरी, अभाविप के प्रदेश प्रांत सहमंत्री मेहुल गर्ग और अन्य की प्राचार्य डॉ. एम.एल. अग्रवाल से बहस हो गई। सीओ साउथ डॉ. हर्षवद्र्धन अग्रवाल ने छात्रों को पकड़ लिया था। प्राचार्य और छात्रों ने परस्पर मुकदमे भी दर्ज कराए हैं।

read more: plastic mukt Ajmer : आओ, अजमेर को प्लास्टिक मुक्त करने की घर से ही करें शुरुआत

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned