Pushkar Fair 2019: कार्तिक द्वादशी का स्नान, झिलमिलाए घाटों पर दीप

pushkar mela 2019: घाटों पर दीपदान और पूजा अर्चना का दौर चल रहा है। कहीं वैदिक मंत्रोच्चार से यज्ञ-हवन भी हो रहा है।

By: raktim tiwari

Published: 09 Nov 2019, 07:44 AM IST

Ajmer, Ajmer, Rajasthan, India

अजमेर. Pushkar Mela 2019: पुष्कर मेले में आस्था का सैलाब उमडऩा जारी है। शनिवार को कार्तिक द्वादशी का स्नान शुरू हो गया है। श्रद्धालुओं ने तडक़े से सरोवर में डुबकी लगाना शुरू कर दिया। दी प्रज्जवलन और विशेष पूजा-अर्चना जारी है। दान-पुण्य का दौर भी शुरू हो गया। श्रद्धालुओं ने सृष्टि रचयिता ब्रह्माजी और अन्य मंदिर में दर्शन किए

कार्तिक एकादशी से पूर्णिमा तक पंचदिवसीय स्नान की खास महत्ता है। इसके चलते पुष्कर में आस्था का सैलाब उमड़ता देखा जा सकता है। देश-दुनिया के दूरदराज इलाकों से महिलाएं, पुरुष, साधु-संत पुरोहित पुष्कर सरोवर पहुंचे हैं। शनिवार तडक़े 4 बजे से कार्तिक द्वादशी का स्नान हुआ। लोगों ने पुष्कर राज की जय...., हर-हर महादेव के जयकारे लगाते हुए सरोवर में डुबकी लगाई। पुष्कर सरोवर के सभी 52 घाटों (ghats of pushkar) पर दीपदान और पूजा अर्चना का दौर चल रहा है। कहीं वैदिक मंत्रोच्चार से यज्ञ-हवन भी हो रहा है।

ये है स्नान की महत्ता
पुष्कर सरोवर में स्नान की महत्ता भी है। पौराणिक व्याख्यान के अनुसार कार्तिक एकादशी से पूर्णिमा तक देवी.देवता भी पुष्कर सरोवर में स्नान करने आते हैं। लिहाजा इस दौरान स्नान करने से सुख-समृद्धि, ऐश्वर्य और वैभव की प्राप्ति होती है। साथ ही व्यक्ति आरोग्य रहता है।

पूर्णिमा तक चलेगा स्नान
पुष्कर सरोवर में धार्मिक स्नान कार्तिक पूर्णिमा (kartka purnima) तक चलेगा। इसमें करीब 4 से 5 लाख श्रद्धालुओं के पहुंचने की उम्मीद है। ऐसे में जिला प्रशासन (administration) और पुलिस (police) ने आवश्यक तैयारियां शुरू कर दी हैं। रोडवेज (rajasthan roadways) ने भी अतिरिक्त बसें बढ़ानी शुरू कर दी है। कार्तिक पूर्णिमा पर सौ से 125 बस चलाई जाएंगी। अजमेर-नागौर और पुष्कर रूट पर वन-वे लागू किया गया है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned